Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Shatabdi Exp - janam-janam ka saath hai, agle shatabdi tak - Ananya D'Souza

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Tue Sep 27 06:32:45 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search

News Posts by ♤The Silent Traveller ♧♤

Page#    Showing 1 to 5 of 10456 news entries  next>>
Sep 15 (13:37) गोरखपुर-बढ़नी-गोंडा रूट पर भी चलेंगी इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें, अगले साल से होगी शुरुआत (www.jagran.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
11180 views

News Entry# 497804  Blog Entry# 5477448   
  Past Edits
Sep 15 2022 (13:38)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:38)
Station Tag: Balrampur/BLP added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:38)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964
a
पीसीईई पीसीईई एके शुक्ला ने स्पेशल ट्रेन को शोहरतगढ़ से परसा के बीच 100 की रफ्तार से चलवाकर ट्रायल किया। वहीं दिसंबर तक परसा से गोंडा तक विद्युतीकरण पूरा हो जाएगा। इसका निर्माण कार्य तेजी के साथ चल रहा है।
गोरखपुर, जागरण संवाददाता। पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर (पीसीईई) एके शुक्ला ने आनंदनगर-गोंडा रूट पर शोहतरगढ़-परसा खंड के विद्युतीकरण का गहन निरीक्षण किया। इस दौरान 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से स्पेशल ट्रेन चलवाकर स्पीड ट्रायल भी किया। दिसंबर तक परसा से सुभागपुर (गोंडा) तक रेलमार्ग का भी
...
more...
विद्युतीकरण पूरा हो जाएगा। अगले वर्ष गोरखपुर से आनंदनगर-बढ़नी-गोंडा-लखनऊ रूट पर भी इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें चलने लगेंगी। गोरखपुर से आनंदनगर के रास्ते शोहरतगढ़ तक का विद्युतीकरण पहले ही पूरा हो चुका है। DDU छात्रावास के सामने जाम लगाने वाले 50 छात्रों पर दर्ज हुआ मुकदमा, ब्रेकर लगाने की मांग को लेकर किया था हंगामा यह भी पढ़ें पीसीईई ने इन कार्यों का किया निरीक्षण मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार पीसीईई ने 25000 वोल्ट एसी नई विद्युतकर्षण लाइन (36.410 किलोमीटर) का संरक्षा की दृष्टि से निर्धारित मानकों के अनुसार किए गए कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होंने परसा और बढ़नी स्टेशन पर स्थापित उपकरणों का निरीक्षण कर संरक्षा को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किया। इस अवसर पर पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख परियोजना निदेशक सुधांशु कृष्ण दुबे सहित सभी संबंधित इंजीनियर व अधिकारी उपस्थित थे। परसा से आगे सुभागपुर तक विद्युतीकरण का कार्य भी तेजी के साथ चल रहा है। यूं ही बेलगाम नहीं हुए अवैध बस संचालक, नंबर उपलब्ध कराने के बाद भी RTO और पुलिस ने नहीं की कार्रवाई यह भी पढ़ें दिसंबर तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य दिसंबर तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित है। इसके साथ ही पूर्वोत्तर रेलवे के 90 प्रतिशत रेलमार्गों का विद्युतीकरण हो जाएगा। वैसे भी बोर्ड ने 2023 तक पूर्वोत्तर रेलवे सहित भारतीय रेलवे के सभी मार्गों पर विद्युतीकरण का लक्ष्य निर्धारित किया है। विद्युतीकरण के फायदे विद्युत इंजनों के चलने से डीजल की बचत के साथ ट्रेनों की रफ्तार बढ़ेगी। पर्यावरण कासंरक्षण भी होगा। सभी स्टेशनों को 24 घंटे पावर सप्लाई मिलेगी। सिग्नल व अन्य जरूरी कार्यों के लिए बंद हो जाएगा विद्युत जनरेटर का उपयोग। Edited By: Pragati Chand
गोरखपुर, जागरण संवाददाता। पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर (पीसीईई) एके शुक्ला ने आनंदनगर-गोंडा रूट पर शोहतरगढ़-परसा खंड के विद्युतीकरण का गहन निरीक्षण किया। इस दौरान 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से स्पेशल ट्रेन चलवाकर स्पीड ट्रायल भी किया। दिसंबर तक परसा से सुभागपुर (गोंडा) तक रेलमार्ग का भी विद्युतीकरण पूरा हो जाएगा। अगले वर्ष गोरखपुर से आनंदनगर-बढ़नी-गोंडा-लखनऊ रूट पर भी इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें चलने लगेंगी। गोरखपुर से आनंदनगर के रास्ते शोहरतगढ़ तक का विद्युतीकरण पहले ही पूरा हो चुका है।

मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार पीसीईई ने 25000 वोल्ट एसी नई विद्युतकर्षण लाइन (36.410 किलोमीटर) का संरक्षा की दृष्टि से निर्धारित मानकों के अनुसार किए गए कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होंने परसा और बढ़नी स्टेशन पर स्थापित उपकरणों का निरीक्षण कर संरक्षा को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किया। इस अवसर पर पूर्वोत्तर रेलवे के प्रमुख परियोजना निदेशक सुधांशु कृष्ण दुबे सहित सभी संबंधित इंजीनियर व अधिकारी उपस्थित थे। परसा से आगे सुभागपुर तक विद्युतीकरण का कार्य भी तेजी के साथ चल रहा है।

दिसंबर तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित है। इसके साथ ही पूर्वोत्तर रेलवे के 90 प्रतिशत रेलमार्गों का विद्युतीकरण हो जाएगा। वैसे भी बोर्ड ने 2023 तक पूर्वोत्तर रेलवे सहित भारतीय रेलवे के सभी मार्गों पर विद्युतीकरण का लक्ष्य निर्धारित किया है।
Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.
Sep 15 (13:36) गोंडा में अत्याधुनिक संसाधनों से लैस होगी वाशिंग पिट लाइन:2.63 करोड़ की आएगी लागत, 5 मिनट में 24 डिब्बों की हो जाएगी धुलाई (www.google.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
9110 views

News Entry# 497803  Blog Entry# 5477447   
  Past Edits
Sep 15 2022 (13:36)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:36)
Station Tag: Gondia Junction/G added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964
गोंडा में रेलवे ने फिर से बंद पड़े वाशिंग पिट लाइन प्लांट को संचालित करने की योजना बनाई है। दो करोड़ 63 लाख रुपए की लागत से पिट लाइन को अत्याधुनिक यंत्रों से लैस किया जाएगा। विभाग का दावा है कि 5 मिनट में ट्रेन के 24 डिब्बों की धुलाई और सफाई होगी।
वहीं इससे गोंडा रेलवे यार्ड का पूर्वोत्तर रेलवे में महत्व बढ़ जाएगा। इसके चालू होने से पानी की खपत 6 गुना कम हो जाएगी। 2021-22 के आम बजट में गोंडा रेलवे स्टेशन के यार्ड में अत्याधुनिक यंत्रों से लैस ऑटोमेटिक वाशिंग पिट प्लांट खोलने के लिए दो करोड़ 63 लाख रुपए का बजट स्वीकृत किया गया था। 1 जुलाई 2022 से वाशिंग पिट लाइन खत्म कर दी गई थी।
...
more...
मगर अब इस पिट लाइन को दोबारा खोलने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसके चालू होने से लोगों को रोजगार मिलेगा। साथ ही गोंडा रेलवे स्टेशन का अलग ही रुतबा पड़ेगा।
300 की जगह 50 लीटर पानी से होगी सफाई
ट्रेन की एक यात्री बोगी की सफाई और धुलाई में 300 लीटर पानी लगता है। ऑटोमेटिक वाशिंग पिट लाइन से धुलाई होने पर छह गुना पानी की बचत होगी। एक बोगी की धुलाई में 50 लीटर पानी लगेगा। करीब 80 प्रतिशत पानी की बचत होगी।
कोच को सफाई के लिए भेजना पड़ता दूसरे जिले
अभी तक ट्रेनों को धुलाई करने के लिए गोरखपुर और लखनऊ भेजना पड़ता था। लेकिन अब यहां प्लांट शुरू होने से गोंडा में ही यह कार्य संपन्न हो जाएगा। यहां दूसरे जनपद के स्टेशनों से भी ट्रेन के डिब्बों की धुलाई कराई जाएगी। क्षेत्रीय प्रबंधक मनीष कुमार ने बताया कि आटोमेटिक वाशिंग पिट लाइन प्लांट शुरू होने पर गोंडा रेलवे स्टेशन का महत्व बढ़ जाएगा। इस प्लांट के शुरू होने से कई समस्याओं का निदान हो जाएगा। ट्रेनों का संचालन भी प्रभावित नहीं होगा।
Sep 15 (13:34) पूर्वोत्तर रेलवे ने गोरखपुर से लखनऊ रुट पर ऑटोमेटिक सिग्नल लगाने की तैयारी तेज (www.google.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
15349 views

News Entry# 497802  Blog Entry# 5477446   
  Past Edits
Sep 15 2022 (13:34)
Station Tag: Lucknow Charbagh NR/LKO added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:34)
Station Tag: Barabanki Junction/BBK added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:34)
Station Tag: Bhubaneswar/BBS added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:34)
Station Tag: Gonda Junction/GD added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964

Sep 15 2022 (13:34)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964
गोरखपुर,22अगस्त: पूर्वोत्तर रेलवे ने गोरखपुर से लखनऊ रुट पर ऑटोमेटिक सिग्नल लगाने की तैयारी तेज कर दी है।जल्द ही इस रुट ऑटोमेटिक सिग्नल लग जाएंगे।इसकी प्रक्रिया शुुरु कर दी गयी है। अभी तक एबसेल्यूट सिग्नल सिस्टम से ट्रेनों का संचालन कराया जा रहा है। ऑटोमेटिक सिग्नल सिस्टम लगने से ट्रेनों को बेवजह कहीं भी खड़ी नहीं होना पड़ेगा। इसके चलते एक ही रूट पर एक के पीछे एक ट्रेन बिना लेट हुए आसानी से चल सकेगी।इसके साथ ही इसके कई फायदे हैं।
बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तार
गोरखपुर-लखनऊ रूट पर एबसेल्यूट सिग्नल को बदलकर
...
more...
ऑटोमेटिक सिग्नल करते ही इस रूट पर ट्रेनें 110 की बजाय 130 किमी प्रतिघंटा दौड़ेंगी। ट्रैक को 130 किमी प्रतिघंटा के लिए बनाने का काम पूरा हो गया है।
प्रशासन ने रेलवे स्टेशन के यार्ड में भी ट्रेनों की गति बढ़ा दी है। लूप लाइन में भी ट्रेनें 10 किमी प्रति घंटे की जगह अब 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलाई जाएंगी।
Sep 15 (13:31) वंदे भारत ट्रेन के लिए बनेगा कवर शेड, गोरखपुर से दिल्ली के बीच चलने की उम्मीद (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
4844 views

News Entry# 497801  Blog Entry# 5477444   
  Past Edits
Sep 15 2022 (13:31)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964
Stations:  Gorakhpur Junction/GKP  
विस्तार स्वदेशी तकनीक से विकसित भारतीय रेल की सेमी हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेन को गोरखपुर से चलाने की तैयारी रेल प्रशासन ने शुरू कर दी है। इसके लिए न्यू वाशिंग पिट में अलग से एक कवर शेड बनाया जाएगा, साथ ही ट्रेन को वहां तक पहुंचाने के लिए रेल ट्रैक का विद्युतीकरण भी होगा। इस कार्य के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है।पिछले दिनों चंडीगढ़ में देश की तीसरी वंदे भारत ट्रेन को ट्रायल के लिए ले जाया गया। रेलवे की योजना दो वर्ष में 400 वंदे भारत ट्रेन चलाने की है। गोरखपुर से दिल्ली के लिए एक ट्रेन मिल सकती है। इसका प्रस्ताव भी पूर्व में भेजा जा चुका है। अब पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने ढांचागत सुविधाएं बढ़ाने की तैयारी शुरू की है। ताकि वंदे भारत ट्रेन के मेंटेनेंस व धुलाई में दिक्कत न आने पाए।योजना के मुताबिक चार फाटक गेट की ओर बने न्यू वाशिंग पिट में एक...
more...
अलग से शेड बनेगा, जो पूरी तरह से ढका रहेगा। बारिश होने पर भी मेंटेनेंस या धुलाई में दिक्कत नहीं आएगी।130 की रफ्तार से दौड़ेगी ट्रेनवंदे भारत एक्सप्रेस गोरखपुर से दिल्ली के बीच करीब 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेगी। इसके लिए छपरा से बाराबंकी तक ऑटो सिग्नलिंग सिस्टम से ट्रेनें चलाई जाएंगी। वहीं, ट्रैक को भी दुरुस्त किया जा रहा है। वर्तमान में समय में इस रूट पर अधिकतम गति 110 किमी प्रति घंटे है।16 कोच की है ट्रेनयह ट्रेन इंजन नहीं बल्कि स्वचालित मोटरों की सहायता से चलती है। 16 कोच वाली इस ट्रेन के पांच कोच में मोटर लगी होती है।
Sep 15 (13:29) Gorakhpur: कैंट और नकहा रेलवे स्टेशन से चलाई जाएंगी लोकल ट्रेन, गोरखपुर जंक्शन पर कम होगा ट्रेनों का भार (www.prabhatkhabar.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
4392 views

News Entry# 497800  Blog Entry# 5477442   
  Past Edits
Sep 15 2022 (13:29)
Station Tag: Gorakhpur Junction/GKP added by ♤The Silent Traveller ♧♤/206964
Stations:  Gorakhpur Junction/GKP  
पूर्वोत्तर रेलवे के लोकल रूट पर चलने वाली ट्रेन गोरखपुर जंक्शन की जगह अब गोरखपुर कैंट और नकहा स्टेशन से चलाई जाएंगी. गोरखपुर जंक्शन से चलने वाली नरकटियागंज, छपरा ,वाराणसी, नौतनवा, बढ़नी, गोंडा रूट की ट्रेन गोरखपुर कैंट और नकहा स्टेशन से चलेगी.
Gorakhpur News: पूर्वोत्तर रेलवे के लोकल रूट पर चलने वाली ट्रेन गोरखपुर जंक्शन की जगह अब कैंट और नकहा स्टेशन से चलाई जाएंगी. गोरखपुर जंक्शन से चलने वाली नरकटियागंज, छपरा ,वाराणसी, नौतनवा, बढ़नी, गोंडा रूट की ट्रेन गोरखपुर कैंट और नकहा स्टेशन से चलेंगी. अब पूर्वोत्तर रेलवे की लोकल रूट पर चलने वाली पैसेंजर, इंटरसिटी, डेमू, मेंमू ट्रेन लेट नहीं होंगी.
रेलवे
...
more...
ने शुरू की ट्रेनों के संचालन की तैयारी
मुख्यालय गोरखपुर के प्रस्ताव पर लखनऊ और वाराणसी मंडल प्रशासन ने कैंट और नकहा से लोकल ट्रेनों को संचालित करने की तैयारी भी शुरू कर दी है. इसके हो जाने से ट्रेनों का संचालन बेहतर होने के साथ-साथ नई व्यवस्था से गोरखपुर जंक्शन पर ट्रेनों का भार भी कम होगा.
कैंट स्टेशन को सेटेलाइट स्टेशन के रूप में किया जा रहा विकसित
पूर्वोत्तर रेलवे गोरखपुर स्टेशन पर ट्रेनों का भार कम करने के लिए और कैंट स्टेशन को सेटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए अब लोकल ट्रेनों का संचालन गोरखपुर के कैंट और नकहा स्टेशन से शुरू करने जा रहा है. गोरखपुर के कैंट स्टेशन को सेटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित किया जा रहा है. इस स्टेशन पर 5 प्लेटफॉर्म तैयार किए जा रहे हैं . नए भवन विश्रामालय, और फुट ओवर ब्रिज भी बन रहे हैं 60% से अधिक कार्य पूरा हो चुका है .शेष कार्यों के लिए रेलवे बोर्ड ने साढ़े दस करोड़ रुपये और दिए हैं.
ट्रेनों का आवागमन होगा आसान
पहले चरण में कैंट स्टेशन से नरकटियागंज रूट और नकहा स्टेशन से नौतनवा रूट पर चलने वाली पैसेंजर ट्रेनों का संचालन करने की योजना रेलवे ने बनाई है .कैंट और नकहा स्टेशन पर कोचों में पानी भरने की व्यवस्था के साथ-साथ कोच वाटरिंग सिस्टम के निर्माण और प्लेटफार्म को दुरुस्त करने का कार्य भी शुरू हो चुका है. पूर्वोत्तर रेलवे गोरखपुर के डोमिनगढ़ स्टेशन से कुसम्ही स्टेशन तक लगभग 25 किलोमीटर लंबी तीसरी रेल लाइन का कार्य तेजी से करा रहा है. दिसंबर 2023 तक तीसरी लाइन बन जाने के बाद ट्रेनों का आवागमन और आसान हो जाएगा.
गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर 10 प्लेटफार्म होने के बावजूद अक्सर ट्रेनों को प्लेटफार्म नहीं मिल पाता है, जिससे यात्रियों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. गोरखपुर की कैंट रेलवे स्टेशन और नकहा रेलवे स्टेशन पर लोकल ट्रेनों का संचालन होने से गोरखपुर जंक्शन पर ट्रेनों का भार कम हो जाएगा.
Page#    10456 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy