Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed May 23 04:30:41 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    318968 news entries  next>>
  
Today (02:14) विलंब से रेलवे को 400 करोड़ का नुकसान (www.google.co.in)
Rail Budget
ECR/East Central
0 Followers
101 views

News Entry# 337936  Blog Entry# 3443391   
  Past Edits
May 23 2018 (02:14)
Station Tag: Kusheshwarsthan/KHHTN added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (02:14)
Station Tag: Alauli/ALOLI added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (02:14)
Station Tag: Khagaria Junction/KGG added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250
ससमय पूरा होता, तो 162 करोड़ में बन जाता खगड़िया कुशेश्वर स्थान रेलखंड कार्य में तेजी लाने को सांसद ने रेल मंत्री को लिखा पत्र 2020 तक कार्य पूरा करने का है लक्ष्य, धीमी है रफ्तार खगड़िया : खगड़िया-कुशेश्वर स्थान रेल परियोजना का समय पर पूरा नहीं होने के कारण रेलवे को करोड़ों का नुकसान हुआ है. नुकसान रेलवे को ही नहीं इस क्षेत्र के लाखों की आबादी को भी हुआ है. जो नये भारत में भी बेहतर यातायात की सुविधा से अब तक महरूम होकर रह गयी है. पहले बात रेलवे को हो रहे नुकसान की करें तो महत्वपूर्ण रेल परियोजना का काम विगत 15 वर्षों से चलता आ रहा है. कहने को परियोजना का कार्य 15 वर्ष से चल रहा है. लेकिन कुछ पेच के कारण काम लगातार नहीं हुआ है. अलग-अलग कारणों से काफी समय तक काम रुका रहा है. जानकार काम रुकने का...
more...
मुख्य वजह भू-अर्जन में पेच व आवंटन की कमी बता रहे हैं. बात भी सही है, लेकिन इस परियोजना के पूरे होने में हुए विलंब के कारण रेलवे को 403 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. जब कुशेश्वर रेल परियोजना की स्वीकृति मिली थी. तब इस कार्य को पूरा कराने के लिए 162 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया गया था. लेकिन समय पर काम पूरा नहीं होने की वजह से अब लागत 162 करोड़ से बढ़ कर 565 करोड़ रुपये का हो गया है. लेकिन निर्माण की गति व अब तक की उपलब्धि जो रही है, वो निराश करने वाली है. काम की स्थिति: जानकारी के मुताबिक खगड़िया से कुशेश्वर स्थान तक 42.6 किमी लंबे रेलखंड का निर्माण कराया जाना है. इन दोनों रेल जंक्शन के बीच 8 रेल स्टेशनों का निर्माण होना है फिलहाल खगड़िया जंक्शन से कामास्थान तक रेलवे लाइन बिछा दी गयी है. कामास्थान से अलौली गढ़ स्टेशन के बीच रेलवे लाइन बिछाने के लिए मिट्टी भराई का कार्य चल रहा है. 42.6 किमी के विरुद्ध महज 8 से 10 किमी की दूरी तक काम हो पाया है. यानी वर्ष 2003 से अब तक मात्र 10 किमी ही पटरी बिछायी गयी है. करीब 32 किमी रेल पटरी बिछाना अब भी बांकी है. क्षेत्र के लोगों को भी परेशानी: खगड़िया कुशेश्वर स्थान रेल परियोजना को लेकर सांसद चौधरी महबूब अली कैसर ने रेल मंत्री पियूष गोयल को पत्र लिखा है. सांसद ने इस परियोजना में विलंब होने के कारण रेलवे को हुए नुकसान को साथ साथ इस क्षेत्र के लोगों को हो रही परेशानी से अवगत कराया है. साथ ही इस परियोजना को अतिरिक्त तवज्जो पूरा कराने के लिए रेलमंत्री से अनुरोध किया है. इन्होंने लिखे पत्र में इस बात का भी उल्लेख किया है कि 18 वर्ष में भी इस परियोजना को पूरा नहीं कराया गया है, जिस कारण लागत मूल्य 162 करोड़ से बढ़ कर 565 करोड़ रुपया हो गया है. 2003 में शुरू हुआ था काम जानकारी के मुताबिक वर्ष 1996 में खगड़िया व दरभंगा जिले के कुशेश्वर स्थान को रेलवे से जोड़ने के लिए केन्द्र सरकार से स्वीकृति मिली थी. लेकिन काम करीब सात साल बाद यानी 2003 में आरंभ हुआ था. जब कुशेश्वर स्थान रेल परियोजना की मंजूरी दी गयी थी तब वर्ष 2006 तक इसे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन स्वीकृति के इतने वर्ष बाद भी इस रेल परियोजना का कार्य अधूरा पड़ा हुआ है. अब कार्य के बात की जाय तो 25 प्रतिशत से भी कम भाग में रेल पटरी बिछायी जा सकी है. अब इस रेल परियोजना को वर्ष 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है जो कि फिलहाल यह काम मुश्किल दिख रहा है. क्यों है मुश्किल: फिलहाल एक स्टेशन तक का काम पूरा हुआ है अब भी कुशेश्वर स्थान स्टेशन तक कई जगहों पर पुल पुलिये का निर्माण कराना बांकी है. कार्य पूरा करने के लिए लाइन बिछाने के साथ साथ 54 जगहों पर छोटे पुलिया तथा 9 जगहों पर बड़े पुल का निर्माण कराया जाना बाकी है. सूत्र बताते हैं कि शहरबन्नी मौजा में भू-अर्जन का भी पेच फंसा हुआ है तथा कार्य में तेजी लाने के लिए भारी भरकम आवंटन की भी जरूरी है. अगर सभी कार्य तेजी गति से हुआ तभी वर्ष 2020 तक इस परियोजना का कार्य पूरा हो सकेगा. अन्यथा रेलवे की यात्रा करने के लिए सुदूर क्षेत्र के लाखों की आबादी को और कई वर्ष इंतजार करना पड़ेगा. कहते हैं डीएलओ इस महत्वपूर्ण परियोजना की गलातार जिला स्तर पर समीक्षा होती रही है. तथा कार्य तेजी से हो इसके लिए भू-अर्जन की प्रक्रिया में भी तेजी लायी गयी है. भू-अर्जन का कहीं पेच फंसा नहीं हुआ है विभागीय प्रक्रिया के तहत यह कार्य तेजी से हो रहा है. दिनेश कुमार, डीएलओ. कहते हैं केंद्रीय संयोजक वर्तमान समय कार्य की प्रगति धीमी है भू-अर्जन सहित पटरी बिछाने व पुल पुलिया का निर्माण कार्य तेजी हो इसके लिए कम से कम दो सौ करोड़ रूपये आवंटन की जरूरत है कार्य में तेजी लाने के बाद ही वर्ष 2020 में यह परियोजना पूरी हो पाएगी. नहीं तो इसी गति से कार्य हुए तो शायद 2025 तक भी कार्य पूरे नहीं होंगे. सुभाष चन्द्र जोशी, केन्द्रीय संयोजक रेल उपभोक्ता संघर्ष समिति
  
Today (01:37) न पटरियां सीधी हो पाईं, न हुआ एलाइनमेंट (www.amarujala.com)
New Facilities/Technology
NER/North Eastern
0 Followers
145 views

News Entry# 337935  Blog Entry# 3443376   
  Past Edits
May 23 2018 (01:49)
Station Tag: Aishbagh/ASH added by Śhobhit Şhukla~/1785863

May 23 2018 (01:37)
Station Tag: Hargaon/HA added by Śhobhit Şhukla~/1785863

May 23 2018 (01:37)
Station Tag: Sitapur/STP added by Śhobhit Şhukla~/1785863

May 23 2018 (01:37)
Station Tag: Mailani Junction/MLN added by Śhobhit Şhukla~/1785863

May 23 2018 (01:37)
Station Tag: Lakhimpur/LMP added by Śhobhit Şhukla~/1785863

May 23 2018 (01:37)
Station Tag: Gola Gokaranath/GK added by Śhobhit Şhukla~/1785863
सीतापुर-मैलानी के बीच चल रहे आमान-परिवर्तन के दौरान डीआरएम ने दिसंबर में इंजन ट्रायल करने की बात कही थी, लेकिन अभी न तो पटरियां सीधी हो पाईं हैं न उनका एलाइमेंट हुआ है। प्लेटफार्म और फुट ओवर ब्रिज के काम भी अधूरे हैं। करीब बीस दिनों के बाद बरसात शुरू हो जाएगी। ऐसे में दिसंबर में ब्रॉडगेज का ट्रॉयल दूर की कौड़ी है। सीतापुर-मैलानी के बीच 100 छोटे पुल और चार बड़े पुलों का निर्माण होना था। इन पुलों का निर्माण कार्य तो पूरा हो गया, लेकिन छोटे और बड़े पुलों की विंग वॉल नहीं बन पाई है। बांकेगंज, गोला, फरधान, लखीमपुर आदि प्लेटफार्मों पर पिछले एक साल से काम चल रहा है, अब तक केवल पटान का ही कार्य पूरा हो पाया है। फर्श और टीन शेड का काम शुरू भी नहीं हुआ है। गोला, लखीमपुर और हरगांव में फुट ओवर ब्रिज का ढांचा खड़ा कर दिया गया है, लेकिन आगे...
more...
का काम रुका हुआ है। सिग्नलिंग का काम लगभग पूरा  है,लेकिन  कनेक्शन और टेस्टिंग का काम बाकी है।      कार्यदायी संस्था के अधिकारियों की मानें तो पटरियों के एलाइनमेंट का काम जिस मशीन से होना है वह मशीन एक दिन में अधिकतम तीन किलोमीटर काम करेगी। इस तरह 115 किलोमीटर बिछी पटरियों और उनका एलाइनमेंट करने में लगातार काम होने की दशा में दो से ढाई माह का समय लगेगा। इस बरसात के बाद अक्टूबर में काम शुरू हुआ तो दिसंबर के अंत तक यह काम पूरा हो सकेगा।      आरबीएनएल के अधिकारियों की मानें तो वह अपने स्तर से दिसंबर में ब्रॉडगेज का ट्रायल कराने के लिए कटिबद्ध हैं। काम की जो रफ्तार है उससे लगता है कि यह काम पूरा होने में अभी आठ से नौ महीने का समय लगेगा। ऐसी दशा में दिसंबर में ट्रायल कर पाना बहुत ही मुश्किल है।      मालूम हो कि आमान परिवर्तन का काम ऐशबाग पीलीभीत के बीच होना है। अभी तक यह काम केवल ऐशबाग मैलानी के बीच चल रहा है। मैलानी से पीलीभीत के बीच मेगा ब्लॉक नहीं लिया गया है। मेगा ब्लॉक के बाद वहां काम शुरू होगा। वर्ष 2013 में आमान-परिवर्तन का शिलान्यास हुआ था, तब से साढ़े पांच साल बीत चुके हैं, और अभी तक ब्राडगेज का काम पूरा होता नहीं दिख रहा है। इससे लोगों में निराशा है।  
   ऐशबाग-मैलानी के बीच चल रहे आमान-परिवर्तन की प्रगति के संबंध में दो सप्ताह पहले आरबीएनएल के अधिकारियों के साथ बैठक की थी। अधिकारियों ने सीतापुर- ऐशबाग के बीच जून और सीतापुर-मैलानी के बीच दिसंबर तक ट्रायल का टारगेट दिया है। सीतापुर मैलानी के बीच लक्ष्य के मुताबिक दिसंबर तक ट्रायल होगा।  - विजय लक्ष्मी कौशिक,डीआरएम, लखनऊ.
  
Today (01:32) जुलाई 2019 तक शुरू हो सकता है ट्रेनों का परिचालन (m.livehindustan.com)
0 Followers
152 views

News Entry# 337934  Blog Entry# 3443371   
  Past Edits
May 23 2018 (01:46)
Station Tag: Raghopur/RGV added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:46)
Station Tag: Tharbitia/TB added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:46)
Station Tag: Forbesganj Junction/FBG added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:46)
Station Tag: Garh Baruari/GEB added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:32)
Station Tag: Supaul/SOU added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:32)
Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250
सुपौल से रेल सफर का सपना सकार होने में अभी और कुछ वक्त लगेगा। रेलवे पूरी तत्परता से काम भी करता है तब भी 2019 के जुलाई-अगस्त से पहले ट्रेनो का परिचालन संभव नहीं है। मंगलवार को सहरसा-फारबिसगंज रेलखंड के आमान परिवर्त्तन कार्य का जायजा लेने पहुंची सांसद रंजीत रंजन के सामने रेलवे के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। रेलवे की अधिकारियों की माने तो सहरसा से सुपौल तक ट्रैक लिकिंग का काम लगभग पूरा हो गया है। लेकिन सिग्नल सिस्टम के लिए पर्याप्त केबल नहीं होने से समस्या बरकरार है। सुपौल से थरबिटिया के बीच पांच पुल बनाये जाने हैं इसमें दो पुल को बरसात से पहले ऊंचा कर लिया जायेगा। रेलवे के अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि फिलहाल आमान परिवर्त्तन के काम में पैसे की कोई कमी नहीं है। 2016-17 में सौ करोड़ रुपये खर्च हुए, 2017-18 में 45 करोड़ अतिरिक्त खर्च हुआ।
  
Today (01:17) सहरसा से 24 से इलेक्ट्रिक ट्रेन चलने पर संशय (m.livehindustan.com)
New Facilities/Technology
ECR/East Central
0 Followers
191 views

News Entry# 337933  Blog Entry# 3443354   
  Past Edits
May 23 2018 (01:17)
Station Tag: Saharsa Junction/SHC added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:17)
Train Tag: Poorabiya Express/15279 added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:17)
Train Tag: Saharsa - Amritsar Jan Sewa Express/15209 added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250

May 23 2018 (01:17)
Train Tag: Saharsa - Amritsar Garib Rath Express/12203 added by कात्यायनी एक्सप्रेस~/1872250
सहरसा रेलवे यार्ड में बिजली का काम बांकी रहने के कारण 24 मई से इलेक्ट्रिक इंजन चलने पर संशय की स्थिति बन आई है। बिना बिजली का काम पूरा हुए यार्ड में विद्युत इंजन रिवर्स करने की समस्या आएगी।तय समय 22 मई तक यार्ड में बिजली का काम पूरा नहीं होने को पूर्व मध्य रेलवे हाजीपुर जोन के मुख्य अभियंता(विद्युत) ने गंभीरता से लिया है।
मुख्य अभियंता राकेश कुमार तिवारी ने पावरग्रिड के जीएम एम. क्यू. होदा को शीघ्र काम पूरा कराते रिपोर्ट करने का निर्देश दिया है। साथ ही जोन के एई शिवेन्द्र कुमार को कैंप करते कार्य प्रगति की रिपोर्ट देने को कहा है। उल्लेखनीय है कि 24 मई से सहरसा-अमृतसर गरीब रथ, जनसेवा एक्सप्रेस और सहरसा-आनंद विहार पुरबिया एक्सप्रेस
...
more...
तीन ट्रेनों से डीजल इंजन हटाकर इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर ट्रेन चलाने का पत्र जारी किया गया था।
इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर ट्रेन चलाने की तिथि से पूर्व 22 मई तक यार्ड में बचा बिजली का काम केपीटीएल से पूरा कराने के लिए पावरग्रिड को कहा गया था। तीन दिन पहले ही बिजली के बचे काम को निपटाने के लिए रेलवे द्वारा टावर बैगन उपलब्ध करा दिया गया था। अब कार्यएजेंसी द्वारा यार्ड में बिजली का काम पूरा नहीं किए जाने से इलेक्ट्रिक ट्रेन में सफर करने के लिए कुछ और दिन इंतजार करना पड़ सकता है।केपीटीएल का दावा आज पूरा हो जाएगा बिजली का काम : रेल विद्युतीकरण कार्य का जिम्मा पावरग्रिड ने कोलकाता की केपीटीएल नामक एजेंसी को दे रखी है। केपीटीएल के प्रोजेक्ट मैनेजर कफिल अख्तर रिजवी ने कहा कि सहरसा के रेलवे यार्ड में विद्युतीकरण के नाममात्र कार्य ही बांकी है। बुधवार को बचा सारा बिजली का काम पूरा कर लिया जाएगा।
  
Yesterday (07:07) देहरादून से जबलपुर के लिए सप्ताह में 4 दिन चलेगी नंदा देवी ट्रेन (mnaidunia.jagran.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
2560 views

News Entry# 337830  Blog Entry# 3440190   
  Past Edits
May 22 2018 (07:07)
Station Tag: Jabalpur Junction/JBP added by Aaditya^~/1421836
जबलपुर। शहर के पैसेंजर को जल्द ही जबलपुर से दिल्ली होते हुए देहरादून तक जाने नई ट्रेन मिलने जा रही है। फुल एसी ट्रेन नंदा देवी एक्सप्रेस को देहरादून से दिल्ली और फिर जबलपुर तक लाया जाएगा। रेलवे बोर्ड ने इस ट्रेन को सप्ताह में चार दिन जबलपुर से देहरादून और तीन दिन इंदौर से देहरादून के बीच चलाने की तैयारी लगभग पूरी कर ली है। दरअसल, पहले नंदा देवी एक्सप्रेस को सप्ताहमें सातों दिन जबलपुर से देहरादून के बीच चलाने का प्रस्ताव था। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और जबलपुर सांसद राकेश सिंह ने इस प्रस्ताव को रेलवे बोर्ड के सामने रखा था, लेकिन इस बीच लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इस ट्रेन को इंदौर से भी चलाने की मंशा जाहिर कर दी। इसलिए रेलवे बोर्ड ने इस ट्रेन को सप्ताह में 4 दिन जबलपुर और 3 दिन इंदौर तक चलाने का निर्णय लिया है।
जबलपुर-देहरादून
...
more...
20 घंटे में करेगी सफर
अभी जबलपुर से देहरादून जाने के लिए कोई सीधी ट्रेन नहीं है। इसलिए शहर के लोगों को इस ट्रेन का बेसब्री से इंतजार है। रेलवे बोर्ड ने पश्चिम मध्य रेलवे के ऑपरेटिंग विभाग से जो प्रस्ताव मांगा था, उसके मुताबिक यह ट्रेन सातों दिन इस रूट पर चल सकती है। इसके लिए एक और रैक की जरूरत होगी, जिसे पूरा करने के लिए पमरे तैयार था, लेकिन अब इसे सप्ताह में चार दिन ही चलाया जाएगा। पमरे की प्रस्तावित समय सारणी के मुताबिक यह ट्रेन जबलपुर से देहरादून का सफर महज 20 घंटे 25 मिनट में तय करेगी।
झांसी और ग्वालियर ही होगा स्टॉप
ट्रेन को जबलपुर तक चलाने बोर्ड ने समय सारणी भी तय कर ली है। प्रस्तावित समय सारणी में जबलपुर से दिल्ली के बीच सिर्फ झांसी और ग्वालियर स्टेशन, दो ही कमर्शियल स्टॉप होंगे, हालांकि कटनी और बीना में ऑपरेशन हाल्ट दिया जा सकता है, लेकिन अभी यह तय नहीं है। इधर ट्रेन को नई दिल्ली से देहरादून तक नॉनस्टॉप चलाया जाएगा। स्टॉपेज कम करने की मुख्य वजह सफर का समय कम करना है। दरअसल यह ट्रेन दिल्ली में तकरीबन 16 घंटे खड़ी रहती है। इस समय का उपयोग इसे जबलपुर तक लाकर किया जाएगा।
जबलपुर-देहरादून ट्रेन की संभावित समय सारणी
पमरे ने बोर्ड को जो संभावित समय सारणी भेजी है, उसके मुताबिक यह ट्रेन राशि 11.35 पर देहरादून से चलेगी। अगले दिन सुबह 5.15 पर नई दिल्ली पहुंचेगी। सुबह 8.55 पर ग्वालियर और सुबह 10.20 पर झांसी पहुंचने का समय तय किया गया है। इसी दिन रात तकरीबन 8 बजे जबलपुर स्टेशन पहुंच जाएगी। जबलपुर से देहरादून जाने वाली नंदादेवी सुबह 8.20 पर देहरादून के लिए रवाना होगी, जो शाम 8.10 पर झांसी, शाम 7.40 पर ग्वालियर, रात 23.30 पर दिल्ली और अगले दिन 5.40 पर देहरादून पहुंच जाएगी। देहरादून-जबलपुर ट्रेन का नंबर 12205 और जबलपुर-देहरादून का नंबर 12206 रखना प्रस्तावित है।
इंदौर-देहरादून ट्रेन की संभावित समय सारणी
इंदौर-देहरादून ट्रेन की भी समय सारणी तैयार कर ली गई है। बस इस पर आपरेटिंग विभाग की मुहर लगना बाकी है। इस ट्रेन को देहरादून से रात्रि 11.30 पर रवाना किया जाएगा, अगले दिन सुबह 5.15 पर नईदिल्ली पहुंचेगी। सुबह 8.55 पर ग्वालियर, 12.45 पर गुना, शाम 7.30 पर इंदौर पहुंच जाएगी। वहीं इसे इंदौर से सुबह 8.20 पर छोड़ा जाएगा जो राशि 11.30 पर नईदिल्ली और सुबह 5.40 पर देहरादून पहुंचेगी।
------
वर्जन-जबलपुर से देहरादून के बीच प्रस्तावित नंदा देवी ट्रेन की समय सारणी अभी तय नहीं की गई है। रेलवे बोर्ड से अभी इस प्रस्ताव पर हरी झंड़ी नहीं मिली है।
-गुंजन गुप्ता, सीपीआरओ, पमरे, जबलपुर

3 posts - Yesterday - are hidden. Click to open.

  
190 views
Today (00:10)
🚂🚎🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚎^~   2548 blog posts   200 correct pred (63% accurate)
Re# 3440190-4            Tags   Past Edits
Rakesh singh jbp ke mp hai aur ab madhya pradesh bjp ke adhyaksh bhi hai

  
173 views
Today (00:47)
anirudhpuri~   2207 blog posts
Re# 3440190-5            Tags   Past Edits
Okz tabhi jabalpur ki Chandigarh ho rakhi hai, or Indore gazipur pe Sona gad Chuka hai, ye hamare yahan se aisa koi kyo nahi jagta Jo steel hi laga de
Page#    318968 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.