Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Gaya's Mahabodhi: Tumse Milne Ko Dil Karta hai, Tumhi Ho Jispe Dil Marta hai - Ashwani Kumar

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed Jan 20 00:12:30 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

HWH/Howrah Junction (22 PFs)
হাওড়া জংশন     हावड़ा जंक्शन

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
Lower Foreshore road, Ph no: 033-26411326, Pin- 711101 , Dist - Howrah
State: West Bengal

Elevation: 10 m above sea level
Zone: ER/Eastern   Division: Howrah

No Recent News for HWH/Howrah Junction
Nearby Stations in the News
Type of Station: Terminus
Number of Platforms: 22
Number of Halting Trains: 20
Number of Originating Trains: 133
Number of Terminating Trains: 133
Rating: 4.4/5 (1268 votes)
cleanliness - good (165)
porters/escalators - good (161)
food - excellent (161)
transportation - excellent (160)
lodging - good (154)
railfanning - excellent (154)
sightseeing - excellent (154)
safety - good (159)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 1266 News Items  next>>
Jan 17 (17:41) हावड़ा, सियालदह व कोलकाता सहित पूर्व रेलवे के सात प्रमुख स्टेशनों पर जल्द ही फिर से शुरू होगी ई-कैटरिंग सेवाएं (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ER/Eastern
0 Followers
4826 views

News Entry# 433750  Blog Entry# 4848158   
  Past Edits
Jan 17 2021 (17:41)
Station Tag: Kolkata/KOAA added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 17 2021 (17:41)
Station Tag: Sealdah/SDAH added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 17 2021 (17:41)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Anupam Enosh Sarkar/401739
कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कोविड-19 के प्रसार को रोकने के उपाय के रूप में भारतीय रेलवे ने फरवरी के अंत में देशव्यापी लॉकडाउन के समय ही ई-कैटरिंग सेवाओं को निलंबित कर दिया था। अब यात्रियों की बढ़ती मांग को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने आइआरसीटीसी को चुनिंदा स्टेशनों पर फिर से ई कैटरिंग सेवा शुरू करने की अनुमति दे दी है। इसके मद्देनजर लंबे अंतराल के बाद पूर्व रेलवे के प्रमुख स्टेशनों पर जल्द ही फिर से ई-कैटरिंग सेवाएं शुरू की जाएगी। रविवार को पूर्व रेलवे की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई।
दरअसल, अनलॉक के बाद लंबी दूरी की ट्रेनों और विशेष ट्रेनों के फिर से शुरू होने के साथ आइआरसीटीसी की ई-कैटरिंग सेवाओं को फिर से बहाल करने
...
more...
के लिए यात्रियों की ओर से लगातार मांग की जा रही थी, क्योंकि ट्रेनों व स्टेशनों पर गर्म, स्वस्थ और स्वास्थ्यकर भोजन की आपूर्ति के लिए आइआरसीटीसी की सेवाएं बहुत लोकप्रिय है। यात्रियों की लगातार मांग को देखते हुए आइआरसीटीसी ने रेलवे बोर्ड को चुनिंदा स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवाओं की फिर से बहाली के लिए अनुरोध पत्र लिखा था। तदनुसार, रेलवे बोर्ड ने आइआरसीटीसी को चयनित रेलवे स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति दे दी है।
हालांकि आइआरसीटीसी व उसके अधिकृत वेंडरों को केंद्र और राज्य सरकारों एवं अधिकृत एजेंसियों द्वारा जारी किए गए स्वास्थ्य और सुरक्षा प्रोटोकॉल से संबंधित सभी दिशा निर्देशों का पालन करना होगा। बयान में बताया गया कि पूर्व रेलवे के क्षेत्राधिकार में ई-कैटरिंग सेवाएं सात रेलवे स्टेशनों पर शुरू की जाएंगी। ये हावड़ा, सियालदह, कोलकाता, दुर्गापुर, आसनसोल, मालदा और भागलपुर स्टेशन हैं।
वहीं, मालदा डिवीजन, हावड़ा डिवीजन और जमालपुर के अलावा बर्धमान और बोलपुर में आने वाले दिनों में ई-कैटरिंग सेवाओं के दायरे में और अधिक स्टेशनों को जोड़ने की भी योजना है। गौरतलब है कि‌ ई-कैटरिंग सेवाओं का मूल उद्देश्य विभिन्न शहरों के रेलवे स्टेशनों पर मौजूद रेस्तरां और फूड प्लाजा में उचित दर पर विभिन्न प्रकार के भोजन प्रदान करना है।
ई-कैटरिंग के तहत भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आइआरसीटीसी) द्वारा बड़ी संख्या में खाद्य एग्रीगेटरों द्वारा सेवाएं प्रदान की जाती हैं। इसके अलावा, ई-कैटरिंग सेवाओं में फास्ट फूड यूनिट और फूड प्लाजा चुनिंदा स्टेशनों पर उपलब्ध हैं। यात्री अपनी बर्थ संख्या का विवरण देकर ई-कैटरिंग सुविधा का लाभ उठा सकते हैं और ई-कैटरिंग के माध्यम से या तो अग्रिम भुगतान करके या डिलीवरी के बाद भुगतान करके इसका लाभ उठा सकते हैं। ‌ई-खानपान को अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए पूर्व रेलवे आइआरसीटीसी को सभी प्रकार का सहयोग व समर्थन दे रहा है।
Jan 16 (22:17) हावड़ा से राजगीर के लिए ट्रेन चलाने का आज भी है इंतजार (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
3877 views

News Entry# 433607  Blog Entry# 4847454   
  Past Edits
Jan 16 2021 (22:17)
Station Tag: Rajgir/RGD added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 16 2021 (22:17)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Anupam Enosh Sarkar/401739
बिहारशरीफ। अंतरराष्ट्रीय पर्यटन नगरी राजगीर के लिए हावड़ा मेन लाईन से ट्रेन परिचालन का मुद्दा वर्षो से उठता रहा है। इस बहुप्रतीक्षित मांग को पर्यटक होटल आवासीय संघ तथा राजगीर विकास समिति सहित अन्य संस्थान, प्रतिष्ठान व संगठनों ने समय-समय पर उठाया है, जिसमें पर्यटन उद्योग में शामिल राजगीर बाजार के चहुंमुखी विकास की संभावनाएं जुड़ी हुई है। यहां के पर्यटन रोजगार से जुड़े सभी छोटे बड़े रोजगार से आजीविका चलाने वालों को चार माह के पर्यटन सीजन के अलावा सालों भर का बाजार उपलब्ध हो सकेगा। इस मुद्दे को मजबूत तरीके से उठाते हुए मांग की गई थी कि कोलकाता और मुंबई से सीधे तौर पर ट्रेनों को जोड़ने की जरूरत है।
राजगीर से हावड़ा ट्रेन परिचालन
...
more...
को लेकर पर्यटक होटल आवासीय संघ तथा राजगीर विकास समिति द्वारा अनेक बार रेल मंत्री तथा मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी सौंपा गया है। जिसमें बीते वर्ष 2006 के 31 मई को तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अलावा वर्ष 2007 के 15 जुलाई तथा वर्ष 2008 के 7 अगस्त को तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव को पत्र लिखकर इस मांग के उठे मुद्दे से अवगत कराते हुए राजगीर हावड़ा ट्रेन परिचालन शुरू कराए जाने पर ध्यान आकृष्ट कराया जा चुका है। जिसमें मांग करते हुए यह भी कहा गया था कि, मोकामा फास्ट पैसेंजर ट्रेन संख्या अप- 213 एवं डाउन- 214 जो हावड़ा से मोकामा तक चलती है। उसे एक्सप्रेस में तब्दील करके राजगीर तक परिचालन कराया जाय, ताकि पर्यटक भारी संख्या में यहां आ सकें।
विशेष रूप से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव के रेल मंत्री बनने से राजगीर के आम अवाम जधता द्वारा इस ट्रेन के परिचालन के मांग के प्रति उठाए गए क्रांतिकारी कदम को पूरा करने पर जोर देने का निवेदन झलकती है, जिसमें कहा गया है कि भारत के सभी राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल एक्सप्रेस विभिन्न ट्रेन से जोड़े तो गए हैं। मगर, अंतरराष्ट्रीय पर्यटन नगरी राजगीर को इस सूची में शामिल नहीं किया जाना, दुर्भाग्य की बात है। जहां एक से बढ़कर एक प्राकृतिक, आध्यात्मिक, पौराणिक, ऐतिहासिक व पुरातात्विक महत्व के पर्यटक स्थल की भरमार है। जहां सालों भर लाखों की संख्या में सैलानी घूमने आते हैं।
लोगों की मानें तो 90 दशक के आखिर तक कभी पश्चिम बंगाल के बंगाली पर्यटकों की संख्या 80 फीसदी हुआ करती थी, जिससे उस समय राजगीर किसी मिनी बंगाल से कम नहीं दिखता था। इसी कारण एक मुहल्ले का नाम बंगाली टोला हो गया। जो आज तक बरकरार है। लेकिन हाल के कुछ वर्षों में यातायात के बेहतर साधन के सुविधा के अभाव में इनकी संख्या घटकर महज 10 फीसदी से भी नीचे चली गई है। पश्चिम बंगाल के कोलकाता, हावड़ा के अलावे इस राज्य के अन्य अन्य क्षेत्रों से बंगाली पर्यटकों का जत्था सपरिवार राजगीर भ्रमण को पहली सूची में रखते थे और यहां सप्ताह भर ठहर कर नालंदा, पावापुरी, बोधगया आदि विभिन्न स्थलों का भ्रमण करते थे। उनके द्वारा राजगीर के एक मोची से लेकर बड़े होटलों तक को आमद होती थी। जबकि, राजगीर से हावड़ा के लिए खुलने वाली एकमात्र ट्रेन संख्या 53043 फास्ट पैसेंजर का परिचालन बीते वर्ष 2020 के 15 जनवरी से हीं बंद कर दिया गया था। उस समय इस ट्रेन का परिचालन किउल ट्रेन रूट में किए जा रहे मेंटेनेंस काम के कारण बंद कर दिया गया था। उसके बाद हीं कोरोना संक्रमण महामारी के शुरू हुए दौर से लेकर इसका परिचालन आज तक ठप है। अभी वर्तमान में भी इस ट्रेन के परिचालन न होने से इसका सीधा असर देखा जा रहा है।
क्या कहते हैं राजगीर के लोग
- आज राजगीर विश्व पर्यटन मानचित्र पर किसी परिचय का मोहताज नहीं है। राजगीर पर्यटन स्थल के कारण पश्चिम बंगाल से बंगाली पर्यटकों का नाता बिहार से पुराना रहा है। जहां अब निर्माणाधीन वाईल्ड लाइफ जू सफारी, नेचर सफारी, एट सीटर रोप वे, क्रिकेट स्टेडियम सह स्पो‌र्ट्स एकेडमी के अलावा नालंदा विश्वविद्यालय आदि महापरियोजनाओं से लैस हो रहा है। ऐसे में अगर राजगीर हावड़ा एक्सप्रेस रेल का परिचालन होना चाहिए।
-ई. राहुल रॉय, यूथ आइकॉन सह एमडी शिव सांई कंस्ट्रक्शन एंड बिजनेस ग्रुप्स -----------------
मैंने अनेक बार रेल मंत्री तथा मुख्यमंत्री को राजगीर हावड़ा रेल परिचालन की मांग पत्र सौंपा है। मगर इस पर कोई कवायद आज तक शुरू न होना राजगीर पर्यटन रोजगार से जुड़े लोगों के लिए दुख की बात है। पश्चिम बंगाल से कभी अस्सी फीसदी तक बंगाली पर्यटकों का आवागमन रहता था। अब वो बात नहीं है। अगर राजगीर हावड़ा एक्सप्रेस रेल परिचालन हो जाए। तो यहां के बाजार का चौतरफा विकास होगा।
बबलू कोले, पूर्व अध्यक्ष, पर्यटक होटल आवासीय संघ- -------------------
पर्यटन हब बनते राजगीर में एक ओर हेलिकॉप्टर टूरिज्म को बढ़ावा देने की बात से हर्ष तो है हीं। वहीं अगर एक अदद ट्रेन राजगीर हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन हो जाय। तो राजगीर का काया कल्प हो सकता है। क्योंकि पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता सहित इस राज्य के विभिन्न हिस्सों से बंगाली पर्यटकों का आवागमन सालों भर भारी संख्या में जारी तो रहेगा हीं। वहीं यहां के बाजार के विकास की असीम संभावनाएं भी बढ़ेंगी।
- साकेत गुप्ता, मैनेजिग डायरेक्टर, गार्गी ग्रैंड गौतम विहार रिसोर्ट- --------------
अंतरराष्ट्रीय पर्यटन नगरी तथा यहां के गरीब लोगों का विकास केवल पर्यटन स्थलों में इजाफा करने से नहीं होगा। बल्कि पर्यटकों के आवागमन की समुचित सुविधा में ट्रेन परिचालन से पर्यटन स्थल और इससे जुड़े रोजगार को भी बढ़ावा देने की बात होनी चाहिए। जिसमें वर्षों से लंबित और बहुप्रतीक्षित राजगीर हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन परिचालन राजगीर पर्यटन और पर्यटन उद्योग को बेहद मजबूत आयाम दे सकता है। जिससे यहां के फुटपाथ से लेकर बड़े बड़े संस्थान प्रतिष्ठान सहित लगभग हर वर्ग के लोग लाभान्वित होंगे।
- उमराव प्रसाद निर्मल, समाजवादी चितक सह महासचिव राजगीर विकास समिति --------
पर्यटन स्थल राजगीर की आर्थिक व्यवस्था की रीढ़ पर्यटन व्यवसाय है। इसमें देसी विदेशी पर्यटकों में खास महत्व रखने वाले बंगाली सैलानी राजगीर पर्यटन उद्योग से जुड़े हर छोटे बड़े व्यवसायियों के लिए आमदनी का जरिया बनाते हैं। चाहे वो पान की दुकान या चाय वाला हो। या फिर बड़े बड़े होटल। खाने पीने और घूमने के शौकीन बंगाली पर्यटकों के लिए राजगीर हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन मायने रखता है। जिससे राजगीर का मार्केट फल फूल सकता है।
-सुमन बिहारी शरण, आम नागरिक
Jan 13 (23:11) प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए खर्च करने होंगे 40 रुपये (m.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
SER/South Eastern
0 Followers
9971 views

News Entry# 433199  Blog Entry# 4843956   
  Past Edits
Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Purulia Junction/PRR added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Ranchi Junction/RNC added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Kharagpur Junction/KGP added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Santragachi Junction/SRC added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Jharsuguda Junction/JSG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:12)
Station Tag: Rourkela Junction/ROU added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:11)
Station Tag: Chakradharpur/CKP added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 13 2021 (23:11)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by Adittyaa Sharma/1421836
टाटानगर स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर जाने के लिए यात्रियों के परिजनों को अब 40 रुपये खर्च करने होंगे। पहले प्लेटफॉर्म टिकट 10 रुपये में मिलता था। चक्रधरपुर मंडल रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट शुल्क में जल्द ही बढ़ोतरी करेगा। दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन से मूल्य बढ़ाने का आदेश मार्च 2020 को जारी हुआ था, जो कोरोना व लॉकडाउन के कारण लागू नहीं हो सका था।अब मंडल में टाटानगर के अलावा चक्रधरपुर, राउरकेला व झाड़सुगुड़ा स्टेशन पर इसे लागू करने की तैयारी है। हालांकि ट्रेनों में भीड़ के समय पर रेलवे ने कई बार प्लेटफॉर्म टिकट का मूल्य 20 रुपये किया था, जो बाद में फिर 10 रुपये हो गया। शुल्क बढ़ने से स्टेशन पर प्रवेश करने वालों की संख्या कम हो जाएगी, जिससे रेलवे को सफाई में कम मेहनत करनी होगी।अभी नहीं मिल रहा प्लेटफॉर्म टिकट : कोरोना लॉकडाउन में ट्रेनों का परिचालन बंद होने के बाद से टाटानगर में प्लेटफॉर्म टिकट की...
more...
बिक्री नहीं हो रही है। लेकिन अब नए शुल्क पर प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री जल्द शुरू होगी। क्योंकि ट्रेनों की संख्या बढ़ने लगी है। टाटानगर में ट्रेन चलने के दौरान पहले रोज करीब चार हजार टिकट की बिक्री होती थी।जहां ज्यादा ट्रेन वहां शुल्क ज्यादा: दक्षिण-पूर्व जोन ने ट्रेनों की संख्या और यात्रियों की भीड़ के तहत प्लेटफॉर्म टिकट शुल्क बढ़ाया है। जिन स्टेशन पर ट्रेनों का ठहराव और यात्रियों की भीड़ होती है। वहां शुल्क में ज्यादा वृद्धि की गई है।कहां, कितना शुल्क : परिजनों को स्टेशन छोड़ने वाले को राउरकेला में 30 रुपये, झारसुगोड़ा में 30 रुपये और चक्रधरपुर में 20 रुपये में प्लेटफॉर्म टिकट मिलेगा। वही, टाटानगर में 40 रुपये देने होंगे। दूसरी ओर हावड़ा 50 रुपये, रांची 30 रुपये, खड़गपुर 40, पुरुलिया 20 रुपये, संतरागाछी में 30 रुपये में प्लेटफॉर्म टिकट मिलेगा।
Jan 10 (19:22) भारत की प्रतिष्ठित ट्रेन 13005/06 हावड़ा अमृतसर मेल को भारतीय रेलवे द्वारा इसकी बहुत अनदेखी की गई (www.punjabkesari.in)
IR Affairs
NR/Northern
0 Followers
14676 views

News Entry# 432764  Blog Entry# 4840360   
  Past Edits
Jan 10 2021 (19:23)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Injustice Is Ruling Inhuman India/226565

Jan 10 2021 (19:23)
Station Tag: Amritsar Junction/ASR added by Injustice Is Ruling Inhuman India/226565

Jan 10 2021 (19:23)
Train Tag: Amritsar - Howrah (Punjab) Mail/13006 added by Injustice Is Ruling Inhuman India/226565

Jan 10 2021 (19:23)
Train Tag: Howrah - Amritsar (Punjab) Mail/13005 added by Injustice Is Ruling Inhuman India/226565
सदियों से चलने वाला 13005/06 हावड़ा -अमृतसर मेल ट्रेन का भारी उपेक्षा कर रहा हैं भारतीय रेल I आज़ादी के पहले से चलने वाला इस रेल गाड़ी को हाली में महज 20 मिनट का समय कम किया गया है I करीब 125 साल से चल रही हावड़ा मेल, जिसको पंजाब मेल भी कहा जाता हैं, आज़ादी के पहले पेशावर से हावड़ा के बीच चलती थी I लेकिन इस ट्रैन को न सुपरफास्ट बनाया गया, न इस ट्रैन की यात्रा करने की समय कम किया गया I जहा इसके साथीदार 12903/04 मुंबई अमृतसर फ्रंटियर मेल, जो अब गोल्डन टेम्पल मेल है और 12137/38 मुंबई फ़िरोज़पुर पंजाब मेल, दोनों को ही भारतीय रेल ने 25 साल पहले सुपरफास्ट बना दिया हैं, 13005/06 को हमेशा स्लो किया गया है, जबकि ये तीनों ट्रैन ही 50 से ज़्यादा स्टेशन रूकती है I 12137/38 पंजाब मेल का 54,12903/04 का 50 और 13005/06 का 52 स्टेशन में...
more...
रूकती हैं I यात्रिओ को एक आसान और सुहाना सफर करने के लिए 13005/06 को सुपरफास्ट ट्रैन बनाना ज़रूरी हैं ताकि लोग 32 से 34 घंटो में अमृतसर से हावड़ा आना जाना हो सके |
Jan 07 (17:33) हावड़ा- दिल्ली रूट का सफर और भी होगा फास्ट, राजधानी और शताब्दी ट्रेनों की बढ़ेगी स्पीड (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
ER/Eastern
0 Followers
5095 views

News Entry# 432243  Blog Entry# 4836977   
  Past Edits
Jan 07 2021 (17:33)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Howrah Junction/HWH  
रेलवे बोर्ड के मुताबिक 2022 तक दिल्ली- हावड़ा रूट पूरी तरह से हाई स्पीड ट्रेनों के लिए तैयार हो जाएगा। इसके लिए रेलवे इस रूट पर अपने पूरे सिग्नल नेटवर्क को कंप्यूटराइज्ड कर रहा है। राजधानी व शताब्दी ट्रेनों की स्पीड को बढ़ाने की तैयारी भी की जा चुकी है।
कोलकाता, राज्य ब्यूरो। आने वाले दिनों में हावड़ा- दिल्ली रूट का सफर और फास्ट और सुरक्षित होने वाला है। राजधानी और शताब्दी जैसी ट्रेनों की स्पीड बढ़ेगी। कोलकाता में पूर्व रेलवे मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तहत मॉडर्न सिग्नल सिस्टम बनाने का काम शुरू कर दिया है।
रेलवे
...
more...
बोर्ड के मुताबिक 2022 तक दिल्ली- हावड़ा रूट पूरी तरह से हाई स्पीड ट्रेनों के लिए तैयार हो जाएगा। अधिकारी ने बताया कि इसके लिए रेलवे इस रूट पर अपने पूरे सिग्नल नेटवर्क को कंप्यूटराइज्ड कर रहा है। इसी क्रम में राजधानी व शताब्दी ट्रेनों की स्पीड को बढ़ाने की तैयारी भी की जा चुकी है।
अधिकारी ने बताया कि अब राजधानी और शताब्दी ट्रेनें 160 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ेगी। इससे मात्र 12 घंटे में हावड़ा से दिल्ली पहुंचना संभव हो पाएगा। उन्होंने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तहत करीब 640 किलोमीटर रेल मार्ग पर सिग्नल सिस्टम को मॉडर्न बनाने का काम शुरू हो गया है। ऑटोमेटिक सिग्नलिंग सिस्टम पर जोर दिया जा रहा है, जिसमें सफलता मिलने पर आने वाले समय में फुल सिग्नल नेटवर्क कंप्यूटराइज्ड हो जाएगा।
पांच घंटे कम लगेंगे हावड़ा से दिल्ली पहुंचने में
वर्तमान में राजधानी ट्रेन के माध्यम से अगर हावड़ा से दिल्ली जाते हैं तो 17 घंटे का समय लगता है। आने वाले दिनों में हावड़ा से दिल्ली पहुंचने में पांच घंटे कम समय लगेंगे।
Page#    Showing 1 to 20 of 1266 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy