Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Vivek Express - জেগে ওঠো, সচেতন হও এবং লক্ষ্যে না পৌঁছানো পর্যন্ত থেমো না - Dip

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Fri Jan 21 22:02:02 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Post PNRAdvanced Search

KTV/Kottavalasa Junction (5 PFs)
కొత్తవలస జంక్షన్     कोत्तवलसा जंक्शन

Track: Quadruple Electric-Line

Show ALL Trains
Jn. Point of KRPU/VZM/VSKP, Araku-Visakhapatnam Road, Kottavalasa, Vizianagaram District, Pincode-535183
State: Andhra Pradesh

Elevation: 56 m above sea level
Zone: ECoR/East Coast   Division: Waltair

No Recent News for KTV/Kottavalasa Junction
Nearby Stations in the News
Type of Station: Junction
Number of Platforms: 5
Number of Halting Trains: 48
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
0 Follows
Rating: 3.9/5 (8 votes)
cleanliness - excellent (1)
porters/escalators - average (1)
food - poor (1)
transportation - excellent (1)
lodging - average (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - excellent (1)
safety - excellent (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 71 News Items  next>>
Dec 31 2021 (07:48) मालगाड़ी दुर्घटना की उच्चस्तरीय जांच शुरू (www.naidunia.com)
IR Affairs
ECoR/East Coast
0 Followers
8389 views

News Entry# 473547  Blog Entry# 5178042   
  Past Edits
Dec 31 2021 (07:48)
Station Tag: Visakhapatnam Junction/VSKP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 31 2021 (07:48)
Station Tag: Kottavalasa Junction/KTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 31 2021 (07:48)
Station Tag: Kirandul/KRDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 31 2021 (07:48)
Station Tag: Jagdalpur/JDB added by Adittyaa Sharma/1421836
जगदलपुर। किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन के किरंदुल रेलखंड में 17 दिसंबर को हुई मालगाड़ी दुर्घटना की रेलमंडल मुख्यालय विशाखापटनम ने उच्चस्तरीय जांच शुरू कर दी है। चार सदस्यीय जांच कमेटी में रेलमंडल के वरिष्ठ अधिकारी सीनियर डिवीजनल आपरेशन मैनेजर, सीनियर डिवीजनल इंजीनियर, सीनियर डिवीजनल इलेक्ट्रिक इंजीनियर व कुछ अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं। जांच कमेटी ने 27 दिसंबर को दंतेवाड़ा व किरंदुल के डीटीआइ, लोको इंस्पेक्टर, पीडब्ल्यूआइ को विशाखापटनम बुलाकर बयान दर्ज किया है।
जल्दी ही दुर्घटनाग्रस्त मालगाड़ी के चालक, सह चालक व गार्ड के साथ ही भांसी-कमलूर स्टेशन के घटना के समय ड्यूटी पर तैनात रहे स्टेशन मास्टर को भी बयान के लिए बुलाया जाएगा। ज्ञात हो कि 17 दिसंबर को किरंदुल रेलखंड के भांसी-कमलूर स्टेशनों के बीच तड़के चार बजे किरंदुल
...
more...
से लौह अयस्क भरकर बड़े आरापुर साइडिंग जा रही मालगाड़ी के 18 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इनमें 15 डिब्बे आपस में टकराकर कंडम हो गए हैं। प्रारंभिक जांच में रेल दुर्घटना के पीछे रेलपांत में तकनीकी खामी को बताया गया है।
घटनास्थल के लिए नक्सल प्रभावित इलाका होने से रेल दुर्घटना को रेलवे ने गंभीरता से लिया है। दुर्घटनास्थल से जांच दल को कोई ऐसा सुराग नहीं मिला है जिसमें घटना के पीछे नक्सल हाथ होने की आंशका को बल मिले। ज्ञात हो कि इसी क्षेत्र में 26 नवंबर को भी मालगाड़ी दुर्घटना हुई थी जिसे नक्सलियों द्वारा पटरी उखाड़कर अंजाम दिया गया था।
मालगाड़ी दुर्घटना के पीछे तकनीकी खामी
बताया जाता है नक्सलियों का घटना के पीछे हाथ होने के पुख्ता सबूत होने से उस समय घटना की प्रारंभिक जांच करके प्रकरण को बंद कर दिया गया था। इसके बाद हुई मालगाड़ी दुर्घटना के पीछे तकनीकी खामी की बात सामने आने पर रेलवे द्वारा उच्चस्तरीय जांच कमेटी गठित कर जांच कराई जा रही है।
Dec 29 2021 (06:28) हम सत्याग्रही, रेल रोकने से भी नहीं हिचकेंगेः सांसद (www.naidunia.com)
Politics
ECoR/East Coast
0 Followers
11616 views

News Entry# 473382  Blog Entry# 5176428   
  Past Edits
Dec 29 2021 (06:28)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 29 2021 (06:28)
Station Tag: Visakhapatnam Junction/VSKP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 29 2021 (06:28)
Station Tag: Kottavalasa Junction/KTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 29 2021 (06:28)
Station Tag: Kirandul/KRDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 29 2021 (06:28)
Station Tag: Jagdalpur/JDB added by Adittyaa Sharma/1421836
जगदलपुर। सांसद दीपक बैज ने कहा है कि कांग्रेस सत्य अहिंसा के रास्ते पर चलने वाली पार्टी है। उचित मांगों के लिए सत्याग्रह करने पर पार्टी का विश्वास रहा है। इसका मतलब यह भी नहीं है सत्याग्रह को अस्वीकार करने पर कांग्रेस रेल रोकने का साहस नहीं कर सकती। इतिहास गवाह है कि बस्तर में रेल मांगों को लेकर बस्तरवासियों के साथ मिलकर कांग्रेस ने रेल रोकने से भी परहेज नहीं किया है।
रेल प्रशासन यदि बस्तर की रेल मांगों को लेकर तत्परता से कार्रवाई नहीं करेगा तो रेल रोकने से भी हम नहीं हिचकेंगे। सांसद बैज ने यह बातें मंगलवार को स्टेशन के बाहर आयोजित सत्याग्रह (धरना) को संबोधित करते हुए कही। सत्याग्रह सांसद के नेतृत्व में किया गया था।
...
more...
दोपहर बारह बजे से शाम तीन बजे तक चले सत्याग्रह में छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष व विधायक नारायणपुर चंदन कश्यप, शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष राजीव शर्मा, प्रदेश महामंत्री यशवर्धन राव, ग्रामीण जिला अध्यक्ष बलराम मौर्य, पूर्व जिला अध्यक्ष उमाशंकर शुक्ल व मनोहर लूनिया, निगम सभापति कविता साहू, युकां प्रदेश महासचिव सुशील मौर्य, कांग्रेस के विभिन्ना प्रकोष्ठों के पदाधिकारी, पार्षदगण व शहर व ग्रामीण क्षेत्रों से पहुंचे पार्टी के पदाधिकारी कार्यकर्ता तथा विशेष रूप बस्तर चेंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज, जिला बार एसोसिएशन, बस्तर परिवहन संघ, आटो संघ आदि विभिन्ना संघ संगठनों के प्रतिनिधियों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया।
सत्याग्रह का आयोजन हावड़ा-जगदलपुर समलेश्वरी एक्सप्रेस का संचालन शुरू करने, विशाखापटनम-किरंदुल नाइट एक्सप्रेस को दैनिक यात्री ट्रेन के रूप में संचालित करने, तीन साल से बंद दुर्ग-जगदलपुर एक्सप्रेस को दोबारा शुरू करने तथा रावघाट-जगदलपुर रेललाइन का निर्माण शीघ्र शुरू करने की मांग को लेकर किया गया था। सत्याग्रह के बाद रेल मंत्री के नाम पर संबोधित ज्ञापन स्टेशन मैनेजर एसएस चंद्रा को सौंपा गया।
सत्याग्रह सभा को संबोधित करते हुए दीपक बैज ने कहा कि उनके द्वारा लगातार संसद में बस्तर की आवाज उठाई जा रही है। रेल मांगों को लेकर भी वह संसद में बस्तरवासियों आवाज बुलंद करते रहे हैं लेकिन केंद्र की वर्तमान सरकार मांगों को अनसुनी कर बस्तर के साथ छल कर रही है। केंद्र सरकार का यह रवैया ठीक नहीं है। रेल मांगों को मनवाने के लिए यदि उग्र आंदोलन (रेल रोको आंदोलन) करने की जरूरत पड़ी तो ऐसा करने से भी हम हिचकेंगे नहीं।
राजीव शर्मा ने कहा कि कांग्रेस की भी केंद्र में सरकार रही है, पर कभी क्षेत्रीय हिसाब से भेदभाव नहीं किया। बस्तर में रेल सुविधाओं के विस्तार के लिए काफी किया, वहीं भाजपा के नेतृत्व में वर्तमान केंद्र सरकार बस्तर के साथ धोखा कर रही है। उन्होंने सांसद बैज की तारीफ करते हुए कहा कि संसद में बस्तर की आवाज बनकर वे लगातार मुखर हैं लेकिन केंद्र सरकार अपनी जिद पर अड़ी है। ऐसी स्थिति में यदि आंदोलन तेज करने की जरूरत पड़ी तो कांग्रेस पीछे नहीं हटेगी। उमाशंकर शुक्ल ने कहा कि 2010 में कांग्रेस ने 50 घंटे से अधिक समय तक रेल रोको आंदोलन कर बस्तर की रेल मांगों को पूरा कराया था। आगे भी आंदोलन की राह पकड़कर ही कुछ हासिल हो सकता है।
अरकू के लिए स्पेशल ट्रेन मुंह चिढ़ा गई
धरना को कांग्रेस नेता यशवर्धन राव, बलराम मौर्य, मनोहर लूनिया, कमल झज्ज, प्रकाश अग्रवाल, जावेद खान, बस्तर चेंबर आफ कामर्स के अध्यक्ष मनीष शर्मा, पूर्व अध्यक्ष पुखराज बोथरा, बस्तर परिवहन संघ के अध्यक्ष मलकीत सिंह कोना, बार एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेशचंद्र जोशी आदि अनेक वक्ताओं ने संबोधित किया। युकां नेता सुशील मौर्य ने कहा कि रेल प्रशासन पड़ोसी राज्य आंध्रप्रदेश में किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन स्थित पर्यटन स्थल अरकू के लिए विशाखापटनम से नई स्पेशल ट्रेन चलाने जा रहा है।
जानबूझकर रोका गया समलेश्वरी एक्सप्रेस
दूसरी ओर तीन माह से रेलवे बोर्ड द्वारा समलेश्वरी एक्सप्रेस को चलाने का आदेश जारी किए जाने के बाद भी इसे जानबूझकर रोके रखा गया है। धरना में बचेका के पूर्व अध्यक्ष संतोष जैन, किशोर पारख, कांग्रेस नेता रामशंकर राव, अनवर खान,राजेश राय, विक्रम सिंह डांगी, उदयनाथ जेम्स, कैलाश नाग, हेमू उपाध्याय, ओंकार जसवाल, सूरज कश्यप, कोमल सेना, अनुराग महतो, बलराम यादव आदि बड़ी संख्या में पार्टी नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।
Dec 20 2021 (06:51) रेल रोको आंदोलन, बिना संघर्ष पूरी नहीं होती बस्तर की मांगें (www.naidunia.com)
Commentary/Human Interest
ECoR/East Coast
0 Followers
5943 views

News Entry# 472717  Blog Entry# 5167293   
  Past Edits
Dec 20 2021 (06:51)
Station Tag: Kottavalasa Junction/KTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 20 2021 (06:51)
Station Tag: Kirandul/KRDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 20 2021 (06:51)
Station Tag: Jagdalpur/JDB added by Adittyaa Sharma/1421836
जगदलपुर। बस्तर में रेल यात्री सुविधाओं की मांग को लेकर सबसे लंबी अवधि तक चले रेल रोको आंदोलन के बीस दिसंबर को दस साल पूरे हो रहे हैं। इस दिन जगदलपुर स्टेशन में चरणबद्ध रूप से शुरू हुआ रेल रोको आंदोलन बाद में अनिश्चितकालीन बन गया था। 20 दिसंबर 2011 से 21 जनवरी 2012 के बीच 257 घंटे तक रेलमार्ग ठप करके बस्तरवासियों ने उस समय अपनी कई रेलमांगें पूरी करा ली थी। तब तत्कालीन रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी को भी कहना पड़ा था कि यात्री ट्रेनों के विस्तार के लिए इतना लंबा रेल रोको आंदोलन इसके पहले उन्होंने नहीं देखा सुना था।
बस्तर के लोग आज भी 10 साल पहले हुए उस ऐतिहासिक आंदोलन को याद करते हैं। आंदोलन की सफलता
...
more...
इसी बात से समझी जा सकती है कि आंदोलन का सूत्रपात राजनीतिक दल के रूप में भारतीय जनता युवा मोर्चा ने किया था। तब मोर्चा में भाजपा नेता महेश गागड़ा राष्ट्रीय पदाधिकारी व संग्राम सिंह राणा जिला अध्यक्ष थे। भाजयुमो का आंदोलन जल्दी ही सर्वदलीय बन गया था। उस समय केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व में यूपीए की सरकार थी इसलिए कांग्रेस प्रत्यक्ष रूप से रेल रोको आंदोलन में भले ही शामिल नहीं थी लेकिन अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस ने भी आंदोलन का समर्थन किया था।
बस्तर और दंतेवाड़ा जिले के सभी समाज व संगठनों व स्कूली बच्चों सहित सभी वर्ग ने मिलकर आंदोलन को जन आंदोलन बना दिया था। इसे इस तथ्य से समझा जा सकता है कि आंदोलनकारियों को चर्चा के लिए रेलमंत्री द्वारा दिल्ली बुलाया गया तो प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व तत्कालीन भाजपा सांसद दिनेश कश्यप और कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक कवासी लखमा ने किया था। 20 दिसंबर को मांगों को लेकर चेतावनी के रूप में एक दिन के रेल रोको आंदोलन से शुरुआत हुई थी।
इसके बाद सात से 12 जनवरी 2012 तक किरंदुल से लेकर बस्तर संभाग की सीमा के अंदर आमागुड़ा स्टेशन तक चरणबद्ध रूप से रेल रोको आंदोलन करने के बाद 13 जनवरी 2012 से 21 जनवरी तक अनिश्चितकालीन आंदोलन दिन रात चला था। इस आंदोलन का असर यह हुआ कि उस समय उठाई गई रेल संबंधी मांगों से एक कदम आगे बढ़कर केंद्र सरकार ने बस्तर ही नहीं छत्तीसगढ़ में रेल विकास की कई परियोजनाओं को मंजूरी दे दी थी।
रेलमंत्री ने कहा था कि वह छत्तीसगढ़ से केंद्र में मंत्री हैं
दो घंटे दिल्ली में चली बैठक में एक मौका ऐसा आया जब रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी को कहना पड़ा था कि उनके पूर्व जिस प्रदेश से रेलमंत्री हुए हैं उनके द्वारा अपने गृह राज्य को रेलवे से सबसे अधिक सौगातें दी गई हैं। त्रिवेदी को कहना पड़ा था कि वह छत्तीसगढ़ राज्य को अपना गृह राज्य मानकर सौगातें देंगे। कुछ मांगें बैठक में ही स्वीकार कर ली गई थी। इसके 15 दिनों बाद रेलबजट आने से पहले सात फरवरी 2012 को रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी रायपुर आए और यहां भाजपा की प्रदेश सरकार और कांग्रेस दोनों दलों के लोगों के साथ बस्तर से प्रतिनिधिमंडल को एक बार फिर रायपुर आमंत्रित कर चर्चा की।
यह मांगें हुई थी पूरी
ऐतिहासिक रेल रोको आंदोलन के बाद हावड़ा-कोरापुट समलेश्वरी एक्सप्रेस का जगदलपुर तक विस्तार, दुर्ग से जगदलपुर के लिए एक्सप्रेस ट्रेन, किरंदुल-कोत्तावालसा रेलमार्ग के दोहरीकरण परियोजना को बजट में शामिल करने सहित बस्तर में यात्री सुविधाओं में विस्तार, स्टेशनों का उन्नायन आदि मांगें पूरी हुई थी। उसी दौर में छत्तीसगढ़ में कुछ रेल कारीडोर को भी मंजूरी दी गई थी। बस्तर चेंबर आफ कामर्स के पूर्व अध्यक्ष संतोष जैन उस आंदोलन को याद करते बताते हैं कि वे कई रेल रोको आंदोलन में शामिल रहे हैं। 2011-12 का आंदोलन जन आंदोलन था। आंदोलन के नायकों में शामिल रहे संग्राम सिंह राणा का कहना है कि भाजयुमो का आंदोलन सर्वदलीय और जन आंदोलन बन जाएगा इसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी।
चार दशक पुराना है बस्तर में रेल आंदोलन का इतिहास
बस्तर को जोड़ने वाली किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन 1966-67 में बनकर तैयार हुई थी। 1972-73 में बस्तर चेंबर आफ कामर्स के गठन के बाद रेल मांगों को लेकर आंदोलनों की शरूआत हुई। तब शुरूआती दौर में आंदोलन प्रतीकात्मक हुआ करते थे। संतोष जैन बताते हैं कि बिना आंदोलन बस्तर की रेल मांगें शायद ही कभी पूरी हुई हैं। 1976 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के निर्देश पर तत्कालीन रेल मंत्री कमलापति त्रिपाठी ने बस्तर को विशाखापटनम-किरंदुल के रूप में पहली यात्री गाड़ी की सौगात दी थी।
कभी उग्र आंदोलन नहीं हुआ
बाद में बीच बीच में आंदोलन होते रहे लेकिन कभी उग्र आंदोलन नहीं हुआ। दो जनवरी 2010 से चार जनवरी 2010 तक लगातार तीन दिनों तक कांग्रेस नेता उमाशंकर शुक्ल के नेतृत्व में रेल रोको आंदोलन जगदलपुर स्टेशन में किया गया था। इस आंदोलन से भुवनेश्वर-कोरापुट हीराखंड का विस्तार जगदलपुर तक कराने में सफलता मिली थी। इसके करीब दो साल बाद 2011-12 में भाजयुमो के नेतृत्व में जन आंदोलन ने एक नई चेतना रेल मांगो पर संघर्ष के लिए लोगों में पैदा कर दी थी।
Dec 19 2021 (05:34) रेललाइन बहाल होते ही दौड़ीं मालगाड़ियां (www.naidunia.com)
IR Affairs
ECoR/East Coast
0 Followers
9523 views

News Entry# 472655  Blog Entry# 5166464   
  Past Edits
Dec 19 2021 (05:34)
Station Tag: Visakhapatnam Junction/VSKP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 19 2021 (05:34)
Station Tag: Kottavalasa Junction/KTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 19 2021 (05:34)
Station Tag: Kirandul/KRDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 19 2021 (05:34)
Station Tag: Jagdalpur/JDB added by Adittyaa Sharma/1421836
जगदलपुर। किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन के किरंदुल रेलखंड में दुर्घटनाग्रस्त मालगाड़ी के डिब्बों को हटाकर रेलमार्ग की मरम्मत के बाद शनिवार सुबह 11ः15 बजे रेल आवागमन बहाल कर दिया गया। इसके तुरंत बाद लौह अयस्क की ढुलाई के लिए मालगाड़ियों का परिचालन भी शुरू कर दिया गया गया लेकिन इस सेक्शन में यात्री ट्रेनों के परिचालन को लेकर फिलहाल संशय की स्थिति बनी हुई है।
रेल प्रशासन से यात्री ट्रेनों के परिचालन को लेकर मार्गदर्शन मांगा गया है। इस बीच शनिवार को भी विशाखापटनम- किरंदुल पैसेंजर ट्रेन को ओड़िशा के कोरापुट में रद कर वहीं से डाउन ट्रेन के रूप में विशाखापटनम भेज दिया गया। मालगाड़ी दुर्घटना के दिन शुक्रवार को भी इस गाड़ी को कोरापुट से लौटा दिया गया था। वाल्टेयर रेलमंडल
...
more...
से शनिवार सुबह आदेश जारी कर रविवार को विशाखापटनम से जगदलपुर आकर किरंदुल जाने वाली नाइट एक्सप्रेस को जगदलपुर में रद करने का निदर्ेेश दिया गया है।
यात्री ट्रेनों के किरंदुल तक संचालन को लेकर असमंजस की स्थिति इसलिए भी निर्मित हुई है क्योंकि पिछले माह 26 नवंबर को इसी सेक्शन में मालगाड़ी दुर्घटना के बाद 19 दिनों तक यात्री ट्रेनें जगदलपुर से आगे किरंदुल की ओर नहीं भेजी गई थी। ज्ञात हो कि शुक्रवार तड़के चार बजे किरंदुल रेलखंड के नक्सल प्रभावित भांसी-कमलूर स्टेशन के बीच किरंदुल से लौह अयस्क भरकर जा रही मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी।
इस घटना में मालगाड़ी के 18 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इनमें से 15 डिब्बे को एक दूसरे से टकराकर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त होने के कारण कंडम घोषित करने का प्रस्ताव मंडल रेल प्रशासन को भेजा गया है। दुर्घटनाग्रस्त मालगाड़ी के डिब्बों को रेलमार्ग से हटाने और मार्ग की मरम्मत का काम दिन रात करके रिकार्ड 32 घंटे में पूरी करना भी उपलब्धि रही है। आमतौर पर किरंदुल रेलखंड के नक्सल प्रभावित जंगली क्षेत्र में रेल दुर्घटना की स्थिति में रेललाइन बहाल करने में काफी समय लगता रहा है। 26 नवंबर को हुई रेल दुर्घटना के दौरान भी लाइन बहाल करने में 43 घंटे का समय लगा था।
दो दिन जगदलपुर-विशाखापटनम के बीच नहीं चली यात्री ट्रेनें
मालगाड़ी दुर्घटना के कारण शुक्रवार व शनिवार को जगदलपुर-विशाखापटनम के बीच भी रेल यात्री सेवा बाधित रही। किरंदुल से पैसेंजर ट्रेन की वापसी संभव नहीं होने के कारण एक ही रैक को अप और डाउन ट्रेन बनाकर कोरापुट-विशाखापटनम के बीच चलाया गया। रविवार से जगदलपुर से विशाखापटनम के बीच रेल यात्री सेवा बहाल होगी।
Dec 17 2021 (09:39) दंतेवाड़ा के किरंदुल में लौह अयस्क से भरे मालगाड़ी पटरी के 18 डिब्वे पटरी से उतरे, रेल आवागमन बंद (www.naidunia.com)
Major Accidents/Disruptions
ECoR/East Coast
0 Followers
7684 views

News Entry# 472485  Blog Entry# 5164755   
  Past Edits
Dec 17 2021 (09:39)
Station Tag: Visakhapatnam Junction/VSKP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 17 2021 (09:39)
Station Tag: Kottavalasa Junction/KTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 17 2021 (09:39)
Station Tag: Kirandul/KRDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 17 2021 (09:39)
Station Tag: Dantewara/DWZ added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 17 2021 (09:39)
Station Tag: Jagdalpur/JDB added by Adittyaa Sharma/1421836
जगदलपुर (नईदुनिया)। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में किरंदुल-कोत्तावालस रेललाइन के किरंदुल रेलखंड में 20 दिनों के भीतर दूसरी बार मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। किरंदुल से लौह अयस्क भरकर विशाखापटनम जा रही मालगाड़ी के 18 डिब्बे पटरी से उतर गए। कुछ डिब्बे आपस मे टकराकर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। घटना शुक्रवार तड़के सवा चार बजे दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से 24 किलोमीटर दूर कमलूर-भांसी स्टेशन के बीच (किलोमीटर नंबर 421) हुई।
किरंदुल रेलखंड नक्सल प्रभावित इलाका है, इसलिए पहले घटना के पीछे नक्सलियों का हाथ माना जा रहा था पर मौके से कोई नक्सली पर्चा आदि नहीं मिला है। इससे फिलहाल नक्सलियों का हाथ होने से पुलिस ने भी इन्कार किया है। ज्ञात हो कि 20 दिन पहले 26 नवंबर को
...
more...
इसी क्षेत्र में नक्सलियों ने पटरी उखाड़कर मालगाड़ी गिराई थी।
रेल यातायात प्रभावित
लौह अयस्क से भरी मालगाड़ी के पटरी से उतरने के बाद किरंदुल-विशाखापटनम रेल लाइन पर ट्रेनों के परिचालन पर असर पड़ा है। पटरी की मरम्मत में रेलवे के अधिकारी और कर्मचारी जुट गए है। वहीं रेल लाइन से मालगाड़ी के डिब्बे उतरने की जांच की जा रही है। रेलवे के अधिकारियों के साथ सुरक्षा के लिए डीआरजी के जवान मौके पर जुटे हैं। दंतेवाड़ा एसपी डा. अभिषेक पल्लव ने कहा कि मौके से कोई नक्सली पर्चा नहीं मिला है।
दुर्घटना स्थल पर पुलिस रेल सुरक्षा बल और सीआरपीएफ की टीम के साथ किरंदुल, बचेली दंतेवाड़ा से रेलवे के अधिकारी कर्मचारी पहुंचे हैं। कोरापुट से रिलीफ ट्रेन भेजी गई है। रेलमंडल विशाखापटनम से स्पेशल ट्रेन में एडीआरएम सुधीर गुप्ता वरिष्ठ अधिकारियों की टीम लेकर रवाना हो चुके हैं । यह घटना ऐसे समय पर हुई है जब 19 दिनों बाद घटना के एक दिन पहले ही गुरुवार से किरंदुल एक्सप्रेस किरंदुल भेजी गई है। यह गाड़ी शुक्रवार से किरंदुल से संचालित होनी थी लेकिन मालगाड़ी दुर्घटना ने एक बार फिर इस ट्रेन को खड़ी कर दिया है।
Page#    Showing 1 to 20 of 71 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy