Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Kolkata Metro: The only Metro of IR. কলকাতা মেট্রো : তিলোত্তমার জীবন রেখা ।। - PPG

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Wed Dec 8 22:53:16 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Post PNRAdvanced Search

KRBA/Korba (3 PFs)
     कोरबा

Track: Double Electric-Line

Show ALL Trains
Old Bus stand Rd, Sitamani, Korba
State: Chhattisgarh

Elevation: 287 m above sea level
Zone: SECR/South East Central   Division: Bilaspur

Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 16
Number of Originating Trains: 10
Number of Terminating Trains: 9
Rating: 3.9/5 (67 votes)
cleanliness - excellent (9)
porters/escalators - good (9)
food - good (9)
transportation - good (8)
lodging - good (8)
railfanning - good (8)
sightseeing - good (8)
safety - good (8)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 514 News Items  next>>
Yesterday (07:51) नई व्यवस्था:उरगा से गेवरारोड से बीच नई रेल लाइन, क्राॅसिंगों पर दबाव होगा कम (www.bhaskar.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
5797 views

News Entry# 471777  Blog Entry# 5156297   
  Past Edits
Dec 07 2021 (07:51)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 07 2021 (07:51)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 07 2021 (07:51)
Station Tag: New Kusmunda Cabin/NKCA added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 07 2021 (07:51)
Station Tag: Gevra Road/GAD added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 07 2021 (07:51)
Station Tag: Urga/URGA added by Adittyaa Sharma/1421836
उरगा से गेवरारोड, कुसमुुंडा को जोड़ने रेल लाइन बिछाई जाएगी। इसका सर्वे काफी पहले हो चुका है। इस रेललाइन के अस्तित्व में आते ही उरगा रेलवे स्टेशन का ओहदा बढ़ जाएगा। इस दिशा में तेजी से काम चल रहा है। इसका फायदा यह होगा कि शहर की रेलवे क्राॅसिंगों पर हर 15-20 मिनट में गुजरने वाली मालगाड़ी के कारण बंद रहने से लोगों को होने वाली परेशानी से निजात मिल जाएगी।
इस परियोजना से कोरबा स्टेशन और शहर के बीच से सिर्फ यात्री ट्रेन गुजरेंगी और नदी उस पार आने-जाने वाली मालगाड़ी उरगा रेलवे स्टेशन से सीधे गेवरारोड पहुंचा करेगी। हालांकि इसके लिए गेवरारोड पेंड्रारोड और धरमजयगढ़ उरगा रेल कॉरिडोर को पूरा होने तक इंतजार करना पड़ेगा।
रेलवे
...
more...
के एक अधिकारी की मानें तो वर्ष 2024 तक इन परियोजनाओं काे पूरा कर लिया जाएगा। इसे देखते हुए सेतुनिगम, पीडब्ल्यूडी व रेलवे संयुक्त रूप से उरगा रेलवे फाटक पर 600 मीटर लंबाई वाला फ्लाई ओवरब्रिज का काम करा रहे हैं। फ्लाईओवर बनने से उरगा फाटक पर लंबे समय तक इंतजार करने वाले वाहन चालकों को भी राहत मिलेगी।
बंट जाएगा कोल डिस्पैच का क्षेत्र, दबाव होगा कमधरमजयगढ़ से एक रेल लाइन उरगा रेलवे स्टेशन से जुड़ेगी। उरगा से परियोजना की दूसरी रेल लाइन कुसमुंडा से जुड़कर गेवरा-दीपका, बांकीमोंगरा, कटघोरा, जटगा, पसान से पेण्ड्रारोड से जुड़ेगी। हावड़ा रूट पर जाने वाली गुड्स ट्रेनें धरमजयगढ़ से पास होने लगेंगी तो नागपुर की ओर जाने वाली गुड्स ट्रेनें चांपा व बिलासपुर होकर निकलंेगी। कटनी रूट की गुड्स ट्रेन पेण्ड्रारोड होकर चलेंगी। धरमजयगढ़ से कटनी रूट की गुड्स ट्रेनों को भी उरगा स्टेशन से पेण्ड्रा के रास्ते पास किया जाएगा।
दिन भर में 7 मालगाड़ियां ही आएंगी शहर की ओरनई व्यवस्था के बाद शहर में वही मालगाड़ी आएंगी, जो बालको और सीएसईबी पूर्व, डीएसपीएम संयंत्र को कोयला आपूर्ति करेगी। इन दोनों संयंत्रों में रोजाना 5 से 7 मालगाड़ी ही आती है, जबकि शहर के बीच से दौड़ने वाली हर दिन करीब 35 मालगाड़ी कुसमुंडा से सीधे उरगा जाती है, फिर वहां से कटनी रूट पर आगे जाएगी। इससे संजयनगर, पवन टाॅकीज रेलवे क्राॅसिंग दबाव मुक्त हो जाएगा।
रूट पर यात्री ट्रेनों की मिलेगी सुविधा: रंजनदक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के सीपीआरओ साकेत रंजन के अनुसार दोनों रेल काॅरिडोर परियोजनाएं पूरी होने पर यात्रियों की सुविधाएं बढ़ जाएंगी। लोगों की जरूरतों और डिमांड को देखते हुए उक्त रूट पर यात्री ट्रेनों को भी चलाया जा सकेगा, फिलहाल इसके लिए क्षेत्र के लोगों को इंतजार करना पड़ेगा।
Dec 05 (07:42) बड़ी लापरवाही:लिंक एक्सप्रेस का समय 4:10 बजे, रेलवे ने 11:30 बजे दी सूचना- यह गाड़ी रहेगी रद्द (www.bhaskar.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
5478 views

News Entry# 471641  Blog Entry# 5154329   
  Past Edits
Dec 05 2021 (07:42)
Station Tag: Itwari Junction (Nagpur)/ITR added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 05 2021 (07:42)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 05 2021 (07:42)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836
यात्रियों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। अब तो जिले के यात्रियों की ओर से ऐसी चर्चाएं होने लगी है कि रेलवे प्रशासन न चलाए कोई नई ट्रेन या बंद गाड़ियों को, पर जो चल रही हैं उन्हें विलंब से चलाकर परेशान तो न करे। सर्वाधिक परेशानी गेवरारोड से इतवारी के बीच नियमित चलने वाली गाड़ी संख्या 18239 के यात्रियों को हो रही है।
यह गाड़ी कोविड के बाद जब से शुरू हुई है तब से गिनती के ही दिन समय पर चली होगी। इस गाड़ी के यात्री तो परेशान थे ही शनिवार को अचानक गाड़ी संख्या 18517/18518 कोरबा-विशाखापट्टनम-कोरबा लिंक एक्सप्रेस को रद्द होने से इसमें सफर करने वाले यात्री दूसरे दिन भी परेशान हुए। शुक्रवार को इस
...
more...
इस गाड़ी को रेलवे प्रशासन ने 3 दिन पहले रद्द रहने की घोषणा कर दी थी, लेकिन शनिवार को कोरबा से 4.10 बजे छूटने वाली लिंक एक्सप्रेस के रद्द होने की सूचना सुबह 11.30 बजे जारी की गई।
इससे यात्री 3 बजे से स्टेशन पहुंचने लगे थे, लेकिन उन्हें लौटना पड़ा। हालांकि इस गाड़ी को रद्द करने के पीछे जवाद चक्रवात को प्रभावी होना बताया गया है। इससे यात्रियों ने परेशान होने के साथ राहत की भी महसूस किए। इसका फायदा ऑटो चालकों ने भी जमकर उठाया। क्योंकि उन्हें इस बात की जानकारी तो थी कि लिंक एक्सप्रेस शनिवार को भी रद्द है, लेकिन वे इस गाड़ी के यात्रियों को सही जानकारी देने के बजाय स्टेशन पहुंचाकर अपनी जेब भरते रहे। शिवनाथ एक्सप्रेस को समय पर नहीं चला पाने की बात पर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के सीपीआरओ साकेत रंजन ने कहा कि बिलासपुर ही विलंब से पहुंच रहा है रैक इस कारण कोरबा से देरी से छूट रही है।
Dec 03 (06:52) समिति की कोर कमेटी भंग:कमजोर पड़ी रेल संघर्ष समिति, जब अफसर चाहेंगे तभी मिलेगी कोरबा को यात्री गाड़ी (www.bhaskar.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
2875 views

News Entry# 471450  Blog Entry# 5152344   
  Past Edits
Dec 03 2021 (06:52)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 03 2021 (06:52)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836
Stations:  Bilaspur Junction/BSP   Korba/KRBA  
विगत 4 सालों से यात्री सुविधाओं के विस्तार, नई ट्रेनों को चलाने समेत यात्रियों के हित से जुड़ी मांगों को लेकर संघर्ष करने वाली रेल संघर्ष समिति लोगों का समर्थन नहीं मिलने से कमजोर पड़ गई है। आंदोलन ही नहीं अब समिति की होने वाली बैठकों से भी दूरी बनाने लगे हैं। जिसे देखते हुए गुरुवार को रेल संघर्ष समिति की कोर कमेटी को भंग कर दिया गया। कोरबा में रेलवे का इतिहास 62 साल पुराना है।
इन 62 सालों में कोरबा से रेलवे को राजस्व के रूप में साल दर साल आय बढ़ती चली गई है। बीते साल तक कोरबा की भागीदारी सालाना 6 हजार करोड़ से अधिक थी, जो दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की आय में सर्वाधिक हिस्सा कोरबा से
...
more...
देश के राजस्व खाते में पहुंच रहा है। उसके अनुरूप अगर यात्री सुविधाओं, ट्रेनों के विस्तार, नए रूट पर ट्रेनों के चलाने की बात ही क्यों न हो इन सभी में कोरबा सबसे पीछे खड़ा है।
लोगों की परेशानियों को देखते हुए जहां शहर के कुछ युवाओं ने सोशल प्लेटफार्म पर रेल संघर्ष समिति का गठन कर मांगों के लिए आवाज उठाते रहे हैं। संगठन से 400 से अधिक जुड़ चुके थे, लेकिन अब इनको भी कोई लेना-देना नहीं है, यही कारण है कि न तो लोग आंदोलनों में शामिल हो रहे हैं और न ही बैठकों में, जिसका फायदा रेलवे प्रशासन उठाता जा रहा है।
ट्रेन चाहिए तो आगे आएं वरना बंद होने की स्थितिदपूम रेलवे बिलासपुर जोन के एक अफसर ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर पहले ही बताया था कि ट्रेन चाहिए तो जनप्रतिनिधियों को आगे आना होगा। अन्यथा जो ट्रेन चल रही हैं उनसे भी कोरबा के लोगों को हाथ धोना पड़ जाएगा। उन्होंने कहा आपके जनप्रतिनिधियों को क्षेत्र के विकास से कोई लेना नहीं देना है।
पड़ोसी जिलों के जनप्रतिनिधियों से लेनी होगी सीख, जैसा वे चाहते हैं, वैसा ही करता है वहां का रेलवे प्रशासन
कोरबा जिले के जनप्रतिनिधियों को पड़ोसी जिलों के जनप्रतिनिधियों से सीख लेनी चाहिए। रेल मामलों से जुड़ा कोई भी आंदोलन क्यों न हो हमारे जनप्रतिनिधियों की भूमिका होती ही नहीं है। वे सिर्फ व सिर्फ अपने मतलब के आंदोलनों को ही हवा देते हैं। यही कारण है कोरबावासी मिलने वाली रेल सुविधाओं से वंचित हैं। चांपा-जांजगीर की बात करें या सक्ती, खरसिया की, अंबिकापुर हो या बिलासपुर वहां के जनप्रतिनिधि जो चाहते हैं, रेलवे प्रशासन को वैसा करना पड़ता है।
सड़क से है परेशानी, रेलवे भी नहीं दे रहा राहत, समर्थन के अभाव में कमजोर पड़ गई है रेल संघर्ष समिति
कोरबा जिले में सड़कों की हालत अब तक नहीं सुधर सकी है। इससे हर कोई आवागमन करने में पेरशान हो रहा है। उपर से रेलवे द्वारा मिली हुई ट्रेनों को भी बंद रखा गया है, इससे लोगों की परेशानी और भी बढ़ती जा रही है। इन मांगों पर अगर समय रहते जिले लोग नहीं जागे तो वह दिन दूर नहीं कि कोरबा से यात्री ट्रेनों के स्थान पर केवल मालगाड़ी ही दौड़ती दिखें‌गी। रेल संघर्ष समिति ने इस दिशा में काफी प्रयास किए, पर समर्थन के अभाव में कमजोर हो गई है। इसलिए अफसर नहीं सुन रहे हैं।
Dec 02 (10:52) छत्तीसगढ़ के बाद अब जम्मूतवी की पेंट्रीकार पकेगा भोजना, सात से मिलेगी सुविधा (www.naidunia.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
6869 views

News Entry# 471375  Blog Entry# 5151296   
  Past Edits
Dec 02 2021 (10:52)
Station Tag: Jammu Tawi/JAT added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 02 2021 (10:52)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 02 2021 (10:52)
Station Tag: Amritsar Junction/ASR added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 02 2021 (10:52)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836

Dec 02 2021 (10:52)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836
बिलासपुर। कोरबा- अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के बाद दुर्ग- जम्मूतवी एक्सप्रेस के यात्रियों को पेंट्रीकार से ही भोजन मिलेगा। आइआरसीटीसी ने इस ट्रेन में सात दिसंबर से सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया है। इसके लिए पुराने लाइसेंसी को जवाबदारी सौंपी गई है। इसके साथ ही उसे तैयारियां करने के लिए कहा गया है।
जोन की करीब सात ट्रेनों में पेंट्रीकार की सुविधा है। इसकी कमान आइआरसीटीसी के पास है। इन ट्रेनों में पेंट्रीकार की सुविधा तो हैं पर खाना पकाने की अनुमति नहीं दी गई थी। इस पर रेलवे बोर्ड से ही पाबंदी थी। पर पिछले दिनों बोर्ड ने पाबंदियां हटा दी है। पाबंदी हटाने के साथ ही आइआरसीटीसी को सुविधा शुरू करने के लिए निर्देश भी दिए गए हैं।
इसके
...
more...
तहत आइआरसीटीसी तत्काल में उन्हीं ट्रेनों में पेंट्रीकार में खाना पकाने की अनुमति दे रहा है, जिनके लाइसेंसियों की ठेका अवधि बची है। इसी के तहत छत्तीसगढ़ में जल्द सुविधा शुरू हो सकी है। जम्मूतवी ट्रेन के संचालक का भी समय बाकी है, इसलिए उसे भी ठेका देते हुए तैयारी शुरू करने के लिए कहा गया है। यह साप्ताहिक ट्रेन है। इसलिए सात दिसंबर को दुर्ग से जो ट्रेन छूटेगी, उसमें यह सुविधा उपलब्ध रहेगी।
हालांकि इससे पहले आइआरसीटीसी की टीम व्यवस्था परखेगी। यह इसलिए जरुरी है कि अभी कोरोना संक्रमण पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है। ऐसे में पेंट्रीकार की सफाई, कर्मचारियों द्वारा कोविड-19 के नियमों का पालन करना और खानपान की क्वालिटी सभी महत्वपूर्ण है। आइआरसीटीसी का कहना है कि बची ट्रेनों की पेंट्रीकार में सुविधा प्रारंभ होने में कुछ महीने और लगेंगे।
Nov 30 (16:54) छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में 21 माह बाद जला चूल्हा (www.naidunia.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
8214 views

News Entry# 471268  Blog Entry# 5149696   
  Past Edits
Nov 30 2021 (16:54)
Station Tag: Amritsar Junction/ASR added by Adittyaa Sharma/1421836

Nov 30 2021 (16:54)
Station Tag: Korba/KRBA added by Adittyaa Sharma/1421836

Nov 30 2021 (16:54)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836
बिलासपुर। कोरबा- अमृतसर छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस की पेंट्रीकार का चूल्हा 21 माह बाद मंगलवार को जलने लगा है। इस ट्रेन के यात्रियों को अब मनचाहा भोजन या नाश्ता लेने के लिए प्लेटफार्म पर नहीं उतरना पड़ेगा। ट्रेन के बिलासपुर रेलवे स्टेशन से रवाना होने से पहले आइआरसीटीसी की टीम पेंट्रीकार का निरीक्षण किया। इस दौरान सफाई के अलावा यूनिफार्म, मास्क व दस्ताने पहनने के लिए कर्मचारियों को सख्त हिदायत दी गई। उन्हें चेतावनी भी दी गई यदि किसी तरह की शिकायत आती है तो सीधे जुर्माने की कार्रवाई की जाएगी।
कोरोना संक्रमण के कारण रेलवे बोर्ड से लगी पाबंदी की वजह से इस ट्रेन की पेंट्रीकार में खाना नहीं पक रहा था। केवल पैकेट बंद सामान ही बिक
...
more...
रहे थे। इस स्थिति में यात्री मनपसंद भोजन से वंचित हो जा रहे थे। इसके लिए उन्हें अवैध वेंडर या फिर स्टेशनों में उतरना पड़ रहा था। जबकि यात्री चाह रहे थे कि उनकी बर्थ पर ही भोजन व नाश्ता पहुंच जाएं। पर प्रतिबंध की वजह से ऐसा नहीं हो पा रहा था।
पिछले दिनों रेलवे बोर्ड ने पेंट्रीकार में भी खाना पकाने की अनुमति दी। इसकी सूचना आइआरसीटीसी को देकर व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए गए थे। हालांकि यह सुविधा रविवार से शुरू हो जानी चाहिए थी। लेकिन कोरोनाकाल में इस ट्रेन का परिचालन सप्ताह में तीन दिन कर दिया गया है। इस लिहाज से सुविधा मंगलवार से शुरू हुई। पर संबंधित लाइसेंसी ने तैयारियां पहले ही प्रारंभ कर दी थी।
चूंकि इस सुविधा का मंगलवार को पहला दिन था। इसलिए आइआरसीटीसी ने पेंट्रीकार का निरीक्षण किया। जांच के दौरान सबसे प्राथमिकता सफाई को दी गई। सफाई का जायजा लेने के साथ- साथ टीम ने यह देखा की पेंट्रीकार के कर्मचारियों ने यूनिफार्म पहना है या नहीं। आईकार्ड और राशन सामग्रियों की क्वालिटी भी परखी गई।
Page#    Showing 1 to 20 of 514 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy