Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

कोशी की जीवन रेखा — मानसी सहरसा रेलखंड - Prabhat Sharan

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Thu Jun 17 15:17:49 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

BNI/Budni (2 PFs)
بدني     बुदनी

Track: Double Electric-Line

Show ALL Trains
Budni, District Sehore 466445
State: Madhya Pradesh

Elevation: 311 m above sea level
Zone: WCR/West Central   Division: Bhopal

No Recent News for BNI/Budni
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 6
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 4.0/5 (32 votes)
cleanliness - good (4)
porters/escalators - average (4)
food - good (4)
transportation - good (4)
lodging - good (3)
railfanning - excellent (5)
sightseeing - excellent (5)
safety - good (3)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 54 News Items  next>>
Jun 01 (21:03) రైలు పట్టాలపై ఆహారం.. 12 పులుల మృతి! (www.andhrajyothy.com)
Major Accidents/Disruptions
WCR/West Central
0 Followers
3277 views

News Entry# 454158  Blog Entry# 4974956   
  Past Edits
Jun 01 2021 (21:03)
Station Tag: Midghat/MIG added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147

Jun 01 2021 (21:03)
Station Tag: Choka/CHQ added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147

Jun 01 2021 (21:03)
Station Tag: Barkhera/BKA added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147

Jun 01 2021 (21:03)
Station Tag: Budni/BNI added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147
Stations:  Budni/BNI   Barkhera/BKA   Choka/CHQ   Midghat/MIG  
రైళ్లలోని ప్యాంట్రీ కార్ల నిర్వాహకుల నిర్లక్ష్యం వల్ల గత ఐదేళ్లలో 100కు పైగా జంతువులు మృతి చెందాయని మధ్యప్రదేశ్ అటవీ విభాగం ఓ నివేదికను రూపొందించింది. రైళ్లలోని ప్యాంట్రీ కార్ల నిర్వాహకులు వ్యర్థ ఆహారాన్ని రైలు పట్టాలపై పారేస్తుండడం వల్ల వాటిని తినడానికి వచ్చిన దాదాపు 100కు పైగా జంతువులు గత ఐదేళ్లలో మృతి చెందాయని పేర్కొంది. వాటిల్లో 5 పులులు, 7 చిరుతలు కూడా ఉన్నాయని తెలిపింది. 
సెహోర్ జిల్లాలో ఉన్న రతపాని టైగర్ రిజర్వ్ స్టేషన్ వద్దే ఈ పులులు చనిపోయాయని నివేదికలో పేర్కొంది. ఈ అటవీ ప్రాంతం గుండా 20 కిలోమీటర్లు రైలు పట్టాలు ఉన్నాయి. రైలు పట్టాలపై పడి ఉండే ఆహారం కోతులను, ఇతర జంతువులను ఆకర్షిస్తోందని, వాటి కోసం పులులు కూడా అక్కడకు వస్తున్నాయని తెలిపింది. అలా రైళ్ల కింద పడి చనిపోతున్నాయని తెలిపింది.
Jun 01 (12:52) MP forest dept blames food dumping by trains for deaths of 12 big cats (www.hindustantimes.com)
Commentary/Human Interest
WCR/West Central
0 Followers
3456 views

News Entry# 454034  Blog Entry# 4974621   
  Past Edits
Jun 01 2021 (12:53)
Station Tag: Shrirangapattana/S removed by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147

Jun 01 2021 (12:53)
Station Tag: Barkhera/BKA added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147

Jun 01 2021 (12:53)
Station Tag: Budni/BNI added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147
Stations:  Budni/BNI   Barkhera/BKA  
Madhya Pradesh forest department has alleged that dumping of leftover food by railway pantry staff was the primary reason for five tigers and seven leopards getting crushed to death in the past five years in Ratapani Tiger reserve. However, the Railways and wildlife experts do not agree.
Forest department’s conclusion is based on a study done by field officers, analysing the deaths of big cats in Ratapani Wildlife Sanctuary in Sehore district. The sanctuary has 45 tigers. The study says pantry car staff were in the habit of dumping leftover food in large quantities on the railway tracks to feed monkeys inside Ratapani Wildlife Sanctuary between Budhni and Barkhera railway stations.
“The
...
more...
food attracts monkeys and other herbivores in large number[s] on the railway track and the herbivores attract big cats. At least there are 7-8 spots between Budhni and Barkhera railway stations, where the track is very narrow [as it] passes between mountains. Most of the time pantry car employees dump food near these spots, where animals get trapped on the track and crushed to death by trains,” said Pradeep Tripathi, field director of Ratapani Wildlife Sanctuary, who was part of the group conducting the study.
He said another probable cause of the deaths was Gadariya Nullah, a water body between up and down tracks, where animals drank water and got hit by trains. “...But we are resolving this issue with immediate effect by digging water holes on both sides of the track,” said Tripathi.
As many as 12 big cats and more than 90 monkeys, deers and other herbivores have been killed on the 20-km track between Budhni and Barkhera in the past five years. This year too, a leopard and a sub-adult tiger were crushed to death, says the forest officer.
Principal chief conservator of forest (PCCF), (wildlife) Alok Kumar said backed the theory and alleged inaction on the Railways part. “We have written to Railways many times... but they are not paying any heed to it. We have also requested [them] to appoint a guard to check the dumping of food, especially at night, so that action could be taken against the pantry car employees, but the Railways appointed a guard who worked just for 2-3 days,” Kumar said.
Railways, however, calls it a weird theory. “This is weird... and we can’t accept it. This is true that big cats have been hit by trains, but it is happening due to the design of the track,” Bhopal divisional railway manager Uday Borwankar said.
“We are making a first of its kind animals’ bridge to connect the mountains, and animals will then not need to come down to cross the track. Rail Vikas Nigam Limited is working on this project. We are also putting [up a] fencing to stop animals from passing through vulnerable accident points,” he added.
Wildlife activist Ajay Dubey said, “There are proper guidelines for railway tracks passing from the forest area but in MP both Railways and forest department failed to follow the guidelines. Blaming leftover food for deaths of animals is a non-serious observation of the forest department.”
\
May 17 (13:56) Bhopal Railway News: बाघ-तेंदुए की जान बचाने 20 अंडरपास व पांच ओवरपास का काम 50 फीसद पूरा (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
10278 views

News Entry# 451763  Blog Entry# 4963608   
  Past Edits
May 17 2021 (13:56)
Station Tag: Itarsi Junction/ET added by Adittyaa Sharma/1421836

May 17 2021 (13:56)
Station Tag: Budni/BNI added by Adittyaa Sharma/1421836

May 17 2021 (13:56)
Station Tag: Barkhera/BKA added by Adittyaa Sharma/1421836

May 17 2021 (13:56)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836
भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। ट्रेनों की चपेट में आकर बाघ, तेंदुए की मौत न हो, इसके लिए रेलवे ने बरखेड़ा—बुदनी के जंगल में रेलवे ट्रैक पर 20 अंडपास और पांच ओवरपास में से कुछ का काम 50 फीसद पूरा कर दिया है। पांच पहाड़ी इलाकों को काटने की जगह उनमें सुरंग बनवा रहा है। इनमें से दो सुरंगें तो लगभग तैयार हो गई हैं। ओवरपास और सुरंगों के उपर से और अंडरपास के नीचे से बाघ, तेंदुए और दूसरे वन्यप्राणी आसानी से जंगल के एक से दूसरे हिस्सों में आ जा सकेंगे। अभी ये रेलवे ट्रैक पार करके आना-जाना करते हैं। ट्रेनों की चपेट में आ जाते हैं और मौत हो जाती है। बीते पांच साल में पांच बाघ, चार तेंदुए और 12 से अधिक भालू समेत दूसरे वन्यप्राणियों की मौतें हो चुकी हैं।
दरअसल,
...
more...
भोपाल से इटारसी के बीच बरखेड़ा-बुदनी का जंगल पड़ता है। यह 25 किलोमीटर का घना और पहाड़ी जंगल है। यहीं से भोपाल-इटारसी तीसरी रेल लाइन बन रही है। पूर्व से दो मौजूदा लाइनों पर ट्रेनें चल रही है। इस क्षेत्र में अब तक दो लाइनें थी। जिन पर आए दिन बाघ, तेंदुए और दूसरे वन्यप्राणी आ जाते थे, मौतें होती थी। तीसरी रेल लाइन चालू हुई तो ये घटनाएं और बढ़ जाएंगी।
इसे देखते हुए मप्र वन्यप्राणी बोर्ड ने रेलवे को लाइन का काम शुरू करने से पहले बाघ, तेंदुए समेत दूसरे वन्यप्राणियों के आवागमन को सुचारू करने के लिए रेलवे ट्रैक पर अंडरपास, ओवरपास बनाने की अनिवार्यता रखी थी। यह भी कहा था कि नई लाइन के लिए पहाड़ काटने की बजाए सुरंगें बनाई जाए। रेलवे ने इन कामों को एक साल पहले शुरू किया था, इनमें से कुछ काम 50 फीसद पूरे हो चुके हैं। यह लाइन साल 2022 तक चालू करने का लक्ष्य है। बीना से इटारसी के बीच बाकी सभी हिस्सों में तीसरी लाइन चालू हो चुकी है।
यात्रियों को ये फायदें
बरखेड़ा-बुदनी घाट सेक्शन में तीसरी रेल लाइन चालू होने से ट्रेनों का आवागमन सुचारू होगा। सामान्य दिनों में अधिक दबाव होने पर ट्रेनों की गति कम नहीं करनी पड़ेगी। ट्रेनों को रोकने की नौबत नहीं आएंगी। ट्रेनें भोपाल से इटारसी के बीच जल्द पहुंचेंगी। यात्रियों का 10 से 15 मिनट बचेगा।
वर्जन
बरखेड़ा-बुदनी के बीच तीसरी रेल लाइन का काम करवाने वाली नोडल एजेंसी रेल विकास निगम लिमिटेड के अधिकारियों को वन्यप्राणियों की सुरक्षा को देखने में रखते हुए तेजी से काम पूरा करने के निर्देश दिए हैं। रेलवे भी समय-समय पर कामों की प्रगति की समीक्षा कर रहा है।
— उदय बोरवणकर, डीआरएम भोपाल रेल मंडल
May 16 (19:32) बुधनी घाट सेक्शन में वन्य जीवों के लिए बनाई पांच सुरंग, छह डैम बुझाएंगे प्यास (www.naidunia.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
11951 views

News Entry# 451733  Blog Entry# 4963312   
  Past Edits
May 16 2021 (19:32)
Station Tag: Bhopal Junction/BPL added by Adittyaa Sharma/1421836

May 16 2021 (19:32)
Station Tag: Barkhera/BKA added by Adittyaa Sharma/1421836

May 16 2021 (19:32)
Station Tag: Bina Junction/BINA added by Adittyaa Sharma/1421836

May 16 2021 (19:32)
Station Tag: Budni/BNI added by Adittyaa Sharma/1421836

May 16 2021 (19:32)
Station Tag: Itarsi Junction/ET added by Adittyaa Sharma/1421836
इटारसी नवदुनिया प्रतिनिधि। वन्य क्षेत्र से गुजरने वाली रेलवे की थर्ड लाइन की चपेट में आने से लगातार विलुप्त प्रायः वन्य जीव रेल हादसे का शिकार हो रहे हैं। बुधनी-बरखेड़ा के बीच कई बाघ, तेंदुए, रीछ ट्रेनों की चपेट में आकर मारे गए हैं। इनके संरक्षण के लिए प्रोजेक्ट में तय शर्तो के मुताबिक अब रेलवे ने यहां सुरक्षा के इतंजाम किए हैं। भोपाल मण्डल के बरखेड़ा से बुदनी (घाट सेक्शन) के मध्य निर्माणाधीन 26.50 किलोमीटर रेल लाइन तिहरीकरण खंड पर पांच सुरंगों का निर्माण किया जा रहा है। वन्य जीव संरक्षण हेतु इस लाइन पर पांच ओवर पास, 20 अंडर पास, वन्य जीवों को पानी पीने के लिए छह डेम का निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा एक जल भंडार भी रहेगा, जहां सौर उर्जा से संचालित बोरबेल भी रेलवे ने लगाया है। पर्यावरण संरक्षण हेतु टनल के आस पास सघन वृक्षारोपण किया गया है।
यह
...
more...
लाइन दिसंबर 2022 तक चालू हो जाने के लिए प्रस्तावित है। इस लाइन के बन जाने से इटारसी से बीना तक तीसरी लाइन का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। इस लाइन के चालू हो जाने से गाड़ियों की गति बढ़ने के साथ ही क्षेत्र की प्रगति होगी। हाल में रेलवे ट्रेक पर ट्रेन से टकराने से हुई वन्य प्राणियों की मृत्यु को देखते हुए पश्चिम मध्य रेल प्रबंधन ने रेल विकास निगम लिमिटेड को इस ओवरपास का काम तेज गति से कराने को कहा है। वन विभाग से हुई बैठक के निर्णय के अनुसार, ट्रेक के किनारे प्रस्तावित फेंसिंग बनाने के लिए बजट का इतंजार कराने को कहा गया है।
रेलवे का कहना है कि ट्रेक पर वन्य जीवों की मौत के कारणों को लेकर ट्रेनों के पेट्रींकार से खाना फेंकने का दावा किया गया, लेकिन कोरोना की वजह से पिछले एक साल से ट्रेनों के पेट्रींकार बंद हैं। रेल हादसे में पालतु मवेशियों की मौत को लेकर रेलवे ने चिंता जताते हुए कहा कि इससे वन्य जीवों की जान खतरे में है, बल्कि रेलवे की सुरक्षा और समय भी प्रभावित हो रहा है। इसे लेकर रेलवे ने गांव-गांव में अभियान चलाया था। मवेशियों को ट्रेक पर खुला छोड़ना गैरकानूनी भी है। कई बार मवेशियों के जख्मी होने या मरने पर लोको पॉयलेट खुद मवेशियों को खींचकर बाहर निकालते हैं।
रेलवे ने कहा है कि घाट में विपरीत हालत होने के कारण ट्रेनों को 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से निकाला जाता है, इस वजह से लोको पॉयलेट सावधानी के साथ ट्रेन चलाते हैं।
देश में पहली बार बाघ-चीते सहित अन्य वन्य प्राणियों को रेलवे ट्रैक पर जाने से रोकने और उनके एक से दूसरी ओर आवागमन के लिए पटरियों के ऊपर पहाड़ियों के बीच 4 एनिमल ओवरपास बन रहे हैं। ये ओवरपास हबीबगंज से इटारसी के बीच बिछाई जा रही तीसरी रेल लाइन के बुदनी-बरखेड़ा सेक्शन में बन रहे हैं।
ऐसी 5 टनल होंगी
13 बड़े ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है इस सेक्शन में
54
...
more...
छोटे ब्रिज का निर्माण कार्य जारी है अभी।
06 डैम का निर्माण पूरा।
22 स्थानों पर अंडरपास का निर्माण
कुछ इस तरह बनेंगे 26.50 किमी में 4 ओवरपास
तीसरी लाइन के दो सेक्शन में काम पूरा
हबीबगंज-बरखेड़ा और बुदनी-इटारसी सेक्शन का काम पूरा हाे गया है। तीसरे सेक्शन बुदनी-बरखेड़ा में काम चल रहा है। इस काम को देख रहे रेल विकास निगम द्वारा इनका डिजाइन और जगह निर्धारित कर ली गई है। डीआरएम उदय बोरवणकर का कहना है कि पहाड़ों के ऊपर से वन्य प्राणियों को एक से दूसरी ओर आने जाने के लिए पहली बार ऐसी प्लानिंग की जा रही है।
Page#    Showing 1 to 20 of 54 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy