Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

The sweetest sounds in the universe - "chai chai"

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Jun 12 16:38:39 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Large Station Board;
Entry# 2053378-0

BIA/Bhilai (4 PFs)
     भिलाई

Track: Triple Electric-Line

Show ALL Trains
NH 6, Near Water Tank, Bhilai
State: Chhattisgarh

Elevation: 309 m above sea level
Zone: SECR/South East Central   Division: Raipur

No Recent News for BIA/Bhilai
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 4
Number of Halting Trains: 31
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 3.8/5 (8 votes)
cleanliness - excellent (1)
porters/escalators - average (1)
food - average (1)
transportation - average (1)
lodging - good (1)
railfanning - excellent (1)
sightseeing - excellent (1)
safety - good (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 129 News Items  next>>
Jun 06 (00:20) चलती ट्रेन में सीआइएसएफ जवान ने नकली रिवाल्वर दिखाकर सीटीआइ को धमकाया (www.naidunia.com)
Crime/Accidents
SECR/South East Central
0 Followers
1449 views

News Entry# 454859  Blog Entry# 4978063   
  Past Edits
Jun 06 2021 (00:20)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 06 2021 (00:20)
Station Tag: Bhilai/BIA added by Adittyaa Sharma/1421836
Stations:  Durg Junction/DURG   Bhilai/BIA  
भिलाई। ट्रेन में टिकट मांगने पर सीआइएसएफ के जवान पर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के एक सीटीआइ (मुख्य टिकट परीक्षक) से विवाद किया। वो शराब के नशे में था। लिहाजा जवान पर सीटीआइ ने जुर्माना किया। जुर्माने से नाराज होकर सीआइएसएफ जवान ने अपने पास रखे रिवाल्वर जैसे दिखने वाले लाइटर से सीटीआइ को धमकाया।
डरकर सीटीआइ दूसरे बोगी में भागा। इसके बाद उसने वायरलेस पर इसकी जानकारी दी। ट्रेन के गोंदिया पहुंचते ही जीआरपी ने उसे पकड़ लिया।
घटना दुर्ग रेलवे स्टेशन के आसपास की थी। इसलिए मामला यहां पहुंचा।
...
more...
पुलिस ने सीआइएसएफ जवान को गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया है।
उक्त घटना बीते एक जून की है। जामदारा कावयाल वासिम महाराष्ट्र निवासी आरोपित संदीप जनार्दन सीआइएसएफ में जवान है। वर्तमान में वो ओडिशा में पदस्थ है। वो एक जून को पुरी-अजमेर एक्सप्रेस से अपने घर जा रहा था। शिकायतकर्ता सीटीआइ सर्वजीत कुमार मदन राम इसी ट्रेन में भुवनेश्वर से अकोला के बीच इसी ट्रेन में टिकट चेक कर रहा था। दुर्ग रेलवे स्टेशन के पास वो बोगी नंबर एस-3 में चढ़ा और टिकट की जांच कर रहा था।
बोगी में आरोपित संदीप जनार्दन शराब के नशे में बैठा मिला। टिकट मांगने पर आरोपित ने विवाद शुरू कर दिया। जांच में पता चला कि आरोपित शराब के नशे में है तो सीटीआइ ने उस पर जुर्माना लगा दिया। जुर्माने से नाराज होकर आरोपित ने अपने बैग से रिवाल्वर जैसा दिखने वाला एक लाइटर निकाल लिया और सीटीआइ को धमकाने लगा।
सीटीआइ को लगा कि वो असली रिवाल्वर है तो वो वहां से भागा और दूसरी बोगी में जाकर छिप गया। वहां से वायरलेस पर घटना की जानकारी दी। ट्रेन के गोंदिया पहुंचते ही जीआरपी ने आरोपित जवान को पकड़ लिया। मामला दुर्ग जीआरपी के पास पहुंचने पर जीआरपी ने आरोपित सीआइएसएफ जवान संदीप जनार्दन को गिरफ्तार किया।
--
घटना दुर्ग जीआरपी क्षेत्र की थी। इसलिए गोंदिया से यहां डायरी भेजी गई थी। आरोपित को गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। वहां से आरोपित पर जुर्माना लगाकर उसे छोड़ दिया गया है।
- हरिश शर्मा, प्रभारी जीआरपी दुर्ग
Jun 01 (07:26) रेलवे का फैसला:6 को सारनाथ एक्सप्रेस जंघई और नौतनवा एक्सप्रेस औड़िहार से होते हुए चलेगी (www.bhaskar.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
5860 views

News Entry# 453962  Blog Entry# 4974423   
  Past Edits
Jun 01 2021 (07:26)
Station Tag: Chhapra Junction/CPR added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 01 2021 (07:26)
Station Tag: Nautanwa/NTV added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 01 2021 (07:26)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 01 2021 (07:26)
Station Tag: Varanasi Junction/BSB added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 01 2021 (07:26)
Station Tag: Bhilai/BIA added by Adittyaa Sharma/1421836
बनारस (वाराणसी) में पांच लेबल क्रॉसिंग की ऊंचाई बढ़ाए जाने के कारण कुछ ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाई जाएगी। इसके अंतर्गत दुर्ग से चलने वाली दुर्ग-नवतनवा और दुर्ग-छपरा सारनाथ एक्सप्रेस का मार्ग एक दिन 6 जून के लिए बदला गया है।
वाराणसी में निर्माण कार्य 18 जून तक किया जाएगा। जारी आदेश के अनुसार 6 जून को नौतनवा से दुर्ग आने वाली ट्रेन बदले हुए मार्ग औड़िहार, जौनपुर होते हुए वाराणसी आएगी। इसी तरह दुर्ग-छपरा सारनाथ एक्सप्रेस प्रयागराज, जंघई और जौनपुर होते हुए चलेगी। 18 तारीख तक इस मार्ग से चलने वाली अन्य ट्रेनों के मार्ग भी बदले जा सकते हैं। रेलवे द्वारा इसे लेकर यात्रियों को सूचना सार्वजनिक की गई है। ताकि किसी प्रकार की दिक्कत न हो।
...
more...
May 29 (17:07) सेल-बीएसपी ने भारतीय रेल की आवश्यकता को पूरा करने के लिए उत्पादन में किया बदलाव (www.outlookhindi.com)
New Facilities/Technology
SCR/South Central
0 Followers
1546 views

News Entry# 453375  Blog Entry# 4972363   
  Past Edits
May 29 2021 (17:07)
Station Tag: Bhilai/BIA added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147
Stations:  Bhilai/BIA  
सेल-बीएसपी ने भारतीय रेल की आवश्यकता को पूरा करने के लिए उत्पादन में किया बदलाव
भारतीय रेल रेल परिवहन में उच्च गति और एक्सल लोड की ओर बढ़ रहा है जिसके लिए रेलवे ने सेल से माइक्रो-अलॉय रेल स्टील का उत्पादन करने की मांग की है।
इसी आवष्यकता को पूरा करने के लिए सेल-बीएसपी ने नए आर-260 ग्रेड रेल के उत्पादन पर विषेष ध्यान केन्द्रित किया है जिससे रेल को उच्च यील्ड स्ट्रेंथ प्रदान किया जा सके।
...
more...
60 ई-1 प्रोफाइल के साथ आर-260 ग्रेड की रेल यूरोपीय स्पेसिफिकेशन ईएन-13674 से कहीं अधिक उच्च गति और अधिक एक्सल लोड लेने में सक्षम है।
सेल-भिलाई को इस बात पर गर्व है कि रेलवे को आपूर्ति किए जाने वाले रेल स्टील में हाइड्रोजन की मात्रा वैश्विक मानकों के न केवल अनुरूप है बल्कि कहीं-कहीं बेहतर है।
नया आर-260 ग्रेड न केवल स्वच्छ स्टील सुनिश्चित करता है बल्कि बेहतर यांत्रिक गुण भी प्रदान करता है।
इस नए ग्रेड के लिए माइक्रो-अलॉयड स्पेशल स्टील का उत्पादन स्टील मेल्टिंग शॉप-3 (एसएमएस-3) और एसएमएस-2 दोनों में किया जा रहा है।
रेल के नए प्रोफाइल के साथ नए ग्रेड को प्लांट की आधुनिक यूनिवर्सल रेल मिल (यूआरएम) तथा रेल और स्ट्रक्चरल मिल (आरएसएम) से रोलिंग किया जा रहा है।
गौरतलब है कि यूआरएम दुनिया की सबसे लंबी 130 मीटर रेल को सिंगल पीस में रोलिंग करने में सक्षम है।
यूआरएम और आरएसएम द्वारा लंबे वेल्डेड पैनलों के रूप में 260 मीटर लंबाई तक के लंबी रेल्स की आपूर्ति की जा रही है।
सेल-भिलाई द्वारा आपूर्ति की जा रही इस नए ग्रेड की रेल, भारतीय रेलवे को उच्च शक्ति वाले तथा अधिक सर्विस लाइफ वाले रेल की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी ।
साथ ही साइकिल टाइम में और अधिक वृद्धि होगी।
उल्लेखनीय है कि रेल के नए आर-260 ग्रेड को पहली बार जून, 2020 में सेल-भिलाई स्टील प्लांट द्वारा विकसित कर रोलिंग किया गया था।
पहले रेक को 30 जून, 2020 को डिजिटल रूप से आयोजित एक कार्यक्रम में भिलाई इस्पात संयंत्र के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने झंडी दिखाकर रवाना किया गया था।
अप्रैल-मई 21 में यूनिवर्सल रेल मिल और रेल एंड स्ट्रक्चरल मिल ने भारतीय रेलवे के आवश्यकता के अनुसार आर-260 ग्रेड रेल के उत्पादन को फिर से प्रारम्भ करने के साथ अब 60 ई-1 प्रोफाइल में आपूर्ति कर रहा है।
रेल के नए ग्रेड और प्रोफाइल का उत्पादन और आपूर्ति सेल-भिलाई स्टील प्लांट, भारतीय रेलवे और इसके अनुसंधान एवं विकास विंग, आरडीएसओ एवं सेल के स्वयं के अनुसंधान केन्द्र आर.डी.सी.आई.एस द्वारा किए गए महीनों के प्रयासों का प्रतिफल है।
चालू वित्त वर्ष के अप्रैल और मई के महीनों में अब तक आर-260 ग्रेड रेल के 60 ई-1 प्रोफाइल रेल की 56 हजार टन रोलिंग की जा चुकी हैं और जिसमें से लगभग 50 हजार टन रेल पहले ही भारतीय रेलवे को भेजी जा चुकी हैं।
अरुण, उप्रेतीवार्ता
प्रधानमंत्री दौरा विवाद पर बोलीं ममता बनर्जी- दुष्प्रचार कर मुझे बदनाम किया जा रहा, योजना के तहत दिखाई जा रही थीं खाली कुर्सियां
सितंबर-अक्टूबर में UAE में होंगे IPL-2021 के बचे मैच, भारत में खराब मौसम को देखते हुए लिया फैसला
आवरण कथा/ नई महामारी : ब्लैक फंगस का डरावना फंदा, बना जानलेवा; गंभीर मरीजों में मृत्यु दर 30% से अधिक
भारतीय रेल रेल परिवहन में उच्च गति और एक्सल लोड की ओर बढ़ रहा है जिसके लिए रेलवे ने सेल से माइक्रो-अलॉय रेल स्टील का उत्पादन करने की मांग की है।
इसी आवष्यकता को पूरा करने के लिए सेल-बीएसपी ने नए आर-260 ग्रेड रेल के उत्पादन पर विषेष ध्यान केन्द्रित किया है जिससे रेल को उच्च यील्ड स्ट्रेंथ प्रदान किया जा सके।
60 ई-1 प्रोफाइल के साथ आर-260 ग्रेड की रेल यूरोपीय स्पेसिफिकेशन ईएन-13674 से कहीं अधिक उच्च गति और अधिक एक्सल लोड लेने में सक्षम है।
सेल-भिलाई को इस बात पर गर्व है कि रेलवे को आपूर्ति किए जाने वाले रेल स्टील में हाइड्रोजन की मात्रा वैश्विक मानकों के न केवल अनुरूप है बल्कि कहीं-कहीं बेहतर है।
नया आर-260 ग्रेड न केवल स्वच्छ स्टील सुनिश्चित करता है बल्कि बेहतर यांत्रिक गुण भी प्रदान करता है।
इस नए ग्रेड के लिए माइक्रो-अलॉयड स्पेशल स्टील का उत्पादन स्टील मेल्टिंग शॉप-3 (एसएमएस-3) और एसएमएस-2 दोनों में किया जा रहा है।
रेल के नए प्रोफाइल के साथ नए ग्रेड को प्लांट की आधुनिक यूनिवर्सल रेल मिल (यूआरएम) तथा रेल और स्ट्रक्चरल मिल (आरएसएम) से रोलिंग किया जा रहा है।
गौरतलब है कि यूआरएम दुनिया की सबसे लंबी 130 मीटर रेल को सिंगल पीस में रोलिंग करने में सक्षम है।
यूआरएम और आरएसएम द्वारा लंबे वेल्डेड पैनलों के रूप में 260 मीटर लंबाई तक के लंबी रेल्स की आपूर्ति की जा रही है।
सेल-भिलाई द्वारा आपूर्ति की जा रही इस नए ग्रेड की रेल, भारतीय रेलवे को उच्च शक्ति वाले तथा अधिक सर्विस लाइफ वाले रेल की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी ।
साथ ही साइकिल टाइम में और अधिक वृद्धि होगी।
उल्लेखनीय है कि रेल के नए आर-260 ग्रेड को पहली बार जून, 2020 में सेल-भिलाई स्टील प्लांट द्वारा विकसित कर रोलिंग किया गया था।
पहले रेक को 30 जून, 2020 को डिजिटल रूप से आयोजित एक कार्यक्रम में भिलाई इस्पात संयंत्र के निदेशक प्रभारी अनिर्बान दासगुप्ता ने झंडी दिखाकर रवाना किया गया था।
अप्रैल-मई 21 में यूनिवर्सल रेल मिल और रेल एंड स्ट्रक्चरल मिल ने भारतीय रेलवे के आवश्यकता के अनुसार आर-260 ग्रेड रेल के उत्पादन को फिर से प्रारम्भ करने के साथ अब 60 ई-1 प्रोफाइल में आपूर्ति कर रहा है।
रेल के नए ग्रेड और प्रोफाइल का उत्पादन और आपूर्ति सेल-भिलाई स्टील प्लांट, भारतीय रेलवे और इसके अनुसंधान एवं विकास विंग, आरडीएसओ एवं सेल के स्वयं के अनुसंधान केन्द्र आर.डी.सी.आई.एस द्वारा किए गए महीनों के प्रयासों का प्रतिफल है।
चालू वित्त वर्ष के अप्रैल और मई के महीनों में अब तक आर-260 ग्रेड रेल के 60 ई-1 प्रोफाइल रेल की 56 हजार टन रोलिंग की जा चुकी हैं और जिसमें से लगभग 50 हजार टन रेल पहले ही भारतीय रेलवे को भेजी जा चुकी हैं।
अरुण, उप्रेतीवार्ता
May 29 (14:20) SAIL started production of better rail tracks than European countries (urbantransportnews.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
1357 views

News Entry# 453331  Blog Entry# 4972219   
  Past Edits
May 29 2021 (14:20)
Station Tag: Bhilai/BIA added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147
Stations:  Bhilai/BIA  
Bhilai, India (Urban Transport News): The state-run government Public Sector Undertaking (PSU), Steel Authority of India Limited (SAIL) has commenced production of high-quality rails (R-260 grade rail) for the Railway industry in its Bhilai Steel Plant. The quality of these rails is better than the rails being used in European countries. On this type of rail track, not only can be used for running high-speed trains but the goods trains can also be run faster than before.
Anirban Dasgupta, director of SAIL and in-charge of Bhilai Steel Plant (BSP) said that rail tracks are being built in Bhilai according to specifications of different grades, quality, profiles and lengths for Indian Railways for more than six decades. Now the new R-260 grade rail
...
more...
with a new 60E-1 profile has been started to suit the changing requirement of the railways. The R-260 grade was first developed and rolled out by the SAIL-Bhilai Steel Plant in June 2020. The plant has supplied over 12,000 tonnes of new grade rails to the Railways in the last financial year.
SAIL officials said that Indian Railways is moving towards higher speed and axle load in rail transport. For this, the Railways have demanded SAIL to produce micro-alloy rail steel. To meet this requirement, SAIL-BSP has given special focus on the production of the new R-260 grade rail. With this, this rail could be provided with high yield strength. The R-260 grade rail with the 60E-1 profile is capable of carrying much higher speeds and greater axle loads than the European specification EN-13674.
In the months of April and May 2021 of the current financial year, 56,000 tonnes of 60 E-1 profile rail of R-260 grade rail has been rolled out so far and out of which about 50,000 tonnes have already been sent to Indian Railways.
May 29 (12:57) SAIL-Bhilai plant switches over Rail Production to Superior R260 Grade Rail Steel PSU NEWS (www.psuconnect.in)
New Facilities/Technology
SECR/South East Central
0 Followers
1067 views

News Entry# 453250  Blog Entry# 4972088   
  Past Edits
May 29 2021 (12:57)
Station Tag: Bhilai/BIA added by ⭐ ⭐ ⭐ Telangana Express Oops AP Express ⭐ ⭐ ⭐/1366147
Stations:  Bhilai/BIA  
New Delhi: SAIL-Bhilai Steel Plant Switches over Rail Production to Superior R260 Grade Rail Steel to Meet Indian Railways' Requirement. SAIL-Bhilai Steel Plant has been producing world-class quality rails for Indian Railways for over six decades as per desired specifications, quality, profile, and length. Bhilai Steel Plant is now producing & supplying the desired new R260 grade of rails with a new 60E1 profile to Indian Railways.
Indian Railways is moving towards operating at higher axle load and speed for which it required micro-alloyed R260 grade Rail steel exhibiting higher yield strength.
This
...
more...
new R260 grade of rails with even more stringent specification norms than European standard EN 13674 coupled with a perfectly engineered 60E1 profile is more suitable for higher speed and higher axle load.
SAIL-Bhilai takes pride in the fact that hydrogen content in Rail Steel being supplied to Indian Railways is at par with global standards and in some cases even better. The new R260 grade not only ensures cleaner steel but also provides better mechanical properties.
This micro-alloyed special R260 grade steel is being produced in both Steel Melting Shops of Bhilai - SMS #3 and SMS #2.
The new grade Rail steel in new profile 60E1 is being rolled out from the Plant’s state-of-the-art Universal Rail Mill (URM) as well as from its Rail & Structural Mill (RSM). It is worth mentioning here that URM rolls out the world’s longest 130 metre rails in a single piece. Both the URM & RSM supply long rails upto 260 meter in length as long welded panels(LWP).
The higher strength of this new grade of rails being supplied by SAIL-Bhilai will enable to withstand more rigorous Rail traffic loads and also achieve better service life and will help in reducing cycle time cost.
It may be recalled that the new R260 grade of Rails in UIC 60 profile was first developed and rolled out by SAIL-Bhilai Steel Plant in June 2020. The first rake of Rails manufactured with R260 grade rail steel had been flagged off from the Plant by Director I/c BSP Shri Anirban Dasgupta with virtual presence of Shri Vishwesh Chaube, then Member Engineering (ME), Railway Board, Chairman, SAIL, and senior officials of Ministry of Steel (MoS). The Plant had supplied over 12,000 Tonnes (T) of the new grade to Railways in the last fiscal year.
With Indian Railways now desiring supply of R260 grade rails in 60E1 profile only, production of the new grade of rails has been resumed and stabilized in Universal Rail Mill and Rail & Structural Mill with new 60E1 profile during the month of April and May 2021. More than 56,000 T of R260 grade rails with 60E1 profile has so far been rolled out and about 50,000 T has already been despatched to Indian Railways in the months of April & May 21 of the current fiscal.
The production & supply of this new grade and profile of rails has been the culmination of months of efforts put in by SAIL-Bhilai Steel Plant, Indian Railways, and its research & development wing, the RDSO, and SAIL’s own research wing RDCIS, Ranchi. In fact, the specifications given by RDSO for this new grade of rails, as mentioned earlier, are even more stringent than the original specifications of rails practiced in European countries. As such the steel for this new grade of rails is cleaner and has higher yield strength.
As Rail makers to the Nation, SAIL’s Bhilai Steel Plant has been an integral part of the day-to-day operations of the Indian Railways, the National Carrier. SAIL-BSP has rolled out the desired volume, quality, and length of rails to meet the changing requirements, year after year, progressively improving standards to roll out world-class rails as per stringent specifications of the Indian Railways. The Rails produced by SAIL/BSP traverse the length and breadth of our Country.
Steel-making for Rails in Maharatna company SAIL’s Bhilai Steel Plant has been specialized to meet and even better the exacting standards set for ensuring the safety of the passengers. SAIL and Indian Railways’ collaboration for carrying out continuous product and process improvements to cater to the changing requirements has been a hallmark of Atmanirbhar Bharat.
Page#    Showing 1 to 20 of 129 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy