Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

No Alcohol No Drugs - the only addiction is Railfanning, to escape the negativity of the world. - Keshav Singh

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Thu Jan 21 18:07:48 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

SVDK/Shri Mata Vaishno Devi Katra (3 PFs)
شری ماتا ویشنو دیوی كٹڑا     श्री माता वैष्णो देवी कटड़ा

Track: Single Electric-Line

Show ALL Trains
Katra Station Road, Katra, Distt - Reasi Pin - 182320
State: Jammu and Kashmir


Zone: NR/Northern   Division: Firozpur

No Recent News for SVDK/Shri Mata Vaishno Devi Katra
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 0
Number of Originating Trains: 21
Number of Terminating Trains: 20
Rating: 5.0/5 (480 votes)
cleanliness - excellent (62)
porters/escalators - excellent (61)
food - excellent (60)
transportation - excellent (59)
lodging - excellent (59)
railfanning - excellent (61)
sightseeing - excellent (59)
safety - excellent (59)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 452 News Items  next>>
Jan 19 (07:44) कटड़ा में महिलाओं ने अपने उत्पादों की लगाई प्रदर्शनी (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
2154 views

News Entry# 433993  Blog Entry# 4849664   
  Past Edits
Jan 19 2021 (07:44)
Station Tag: Shri Mata Vaishno Devi Katra/SVDK added by Anupam Enosh Sarkar/401739
संवाद सहयोगी, कटड़ा : सरकार द्वारा सहायता प्राप्त महिलाओं ने अपने स्थानीय उत्पादन का प्रदर्शन कटड़ा के रेलवे स्टेशन पर किया। मेरा हुनर मेरा अभिमान कार्यक्रम के तहत लगाई गई एक दिवसीय प्रदर्शनी के दौरान देशभर से आए श्रद्धालुओं ने काफी दिलचस्पी दिखाई और स्थानीय सामान आदि भी खरीदा। जेकेएलएम यानी की जम्मू कश्मीर लाइवहुड मिशन के तहत जिला रियासी की महिलाओं ने इस एक दिवसीय प्रदर्शनी में अपने उत्पादों का प्रदर्शन किया, जिसमें स्थानीय खिलौने, बेडशीट, आर्ट एंड क्राफ्ट, पापड़, कैंडी, मुरब्बा, अचार, टोकरियां आदि स्थानीय उत्पादन प्रमुख थे। कटड़ा रेलवे स्टेशन परिसर में आयोजित एक दिवसीय प्रदर्शनी में ट्रेन द्वारा आधार शिविर कटड़ा पहुंचने वाले श्रद्धालुओं ने काफी दिलचस्पी दिखाई और खरीदारी भी की। इस एक दिवसीय प्रदर्शनी का आयोजन जिला प्रशासन द्वारा किया गया। जेकेएलएम के जिला नोडल ऑफिसर जुगल मगोत्रा ने बताया कि सरकार द्वारा महिलाओं के उत्थान के लिए यूं तो कई सारी परियोजनाएं...
more...
चलाई गई हैं, जिनमें जेकेएलएम प्रमुख है। जिला रियासी की करीब 17,500 महिलाएं इस परियोजना के साथ जुड़कर अपनी आजीविका कमा रही हैं। जिला रियासी की महिलाएं अपने स्थानीय उत्पाद को बनाकर बाजारों में बेचती हैं, जिसके लिए सरकार द्वारा बैंक के जरिए इन महिलाओं की मदद की जाती है। जुगल मगोत्रा ने बताया कि बीते वर्ष जुलाई और दिसंबर माह के बीच ही करीब दो करोड़ रुपये की राशि की सहायता इन महिलाओं को बैंक द्वारा दी गई, ताकि वे अधिक से अधिक स्थानीय उत्पाद बनाकर बाजार में बेच सके।
जुगल मगोत्रा ने बताया कि कटड़ा के रेलवे स्टेशन परिसर में प्रदर्शनी आयोजित करने का मुख्य मकसद डोगरी संस्कृति व उत्पादन को देशभर में पहुंचाना है, ताकि देशभर से आने वाले श्रद्धालु अधिक से अधिक स्थानीय उत्पाद खरीद सकें। महिलाओं ने जिला प्रशासन से अपील की है कि वह जल्द से जल्द उन्हें कटड़ा में विशेषकर रेलवे परिसर के समीप कोई प्लेटफॉर्म मुहैया करवाए, ताकि वे अपने स्थानीय उत्पाद आसानी से भेज सकें। इस एक दिवसीय प्रदर्शनी का उद्घाटन एसडीएम कटड़ा अशोक चौधरी ने किया। इस मौके पर स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही वरिष्ठ नागरिक मौजूद थे।
मां वैष्णो देवी के भक्तों को एक बार फिर से बुलावा आने लगा है और भक्त भी बिना किसी परेशानी के सीधे दर तक पहुंचने लगे हैं। मां के भक्तों का यह सफर अब ट्रेनों ने आसान कर दिया है। अब 18 जोड़ी ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया है। इसमें गुजरात, मध्यप्रदेश, गुवाहटी, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और मुंबई से चलने वाली ट्रेनें शामिल हैं। इसमें 7 जोड़ी ट्रेनों का संचालन सीधा श्री माता वैष्णो देवी धाम कटरा तक और 11 जोड़ी ट्रेनों का संचालन जम्मूतवी/उधमपुर तक दोनों दिशाओं में हो रहा है। पिछले साल कोरोना के कारण 22 मार्च से ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। कोराना काल के लगभग 3 महीने बाद कुछ स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू हुआ लेकिन ये ट्रेनें सिर्फ दिल्ली से ही आगामी स्टेशनों के लिए चल रहीं थीं। इसके बाद सितंबर में पंजाब की तरफ 16 जोड़ी ट्रेनों का संचालन...
more...
शुरू हुआ। इसे भी किसान आंदोलन की वजह से कभी पूरी तरह रद्द तो कभी बीच रास्ते रद्द कर चलाया गया। लगभग 9 महीने बाद मां के भक्तों को पहली ट्रेन नई दिल्ली से जम्मूतवी जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस के तौर पर मिली। तब भी कोरोना नियमों के चलते भक्त दरबार तक नहीं पहुंच पाए। अब 18 जोड़ी ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया है 
श्री माता वैष्णो देवी कटरा जाने वाली ट्रेन और समय
022439 वंदेभारत नई दिल्ली-कटरा : सुबह 8.10 बजे04671 बांद्रा से कटड़ा : सुबह 8.52 बजे02461 नई दिल्ली से कटड़ा श्री शक्ति एक्सप्रेस : रात 8.20 बजे04609 ऋषिकेश से कटरा हेमकुंड एक्सप्रेस : रात 9.20 बजे04679 जामनगर से कटरा (सोमवार व गुरुवार) : सुबह 8.50 बजे04675 गांधीधाम से कटरा (रविवार) : सुबह 8.50 बजे02919 मालवा एक्सप्रेस डॉ. आंबेडकर नगर से कटरा (मंगलवार, बुधवार व शनिवार) : सुबह 9.15 बजे जम्मू और उधमपुर जाने वाली ट्रेन व समय02421 अजमेर-जम्मूतवी स्पेशल : रात 1.40 बजे02237 वाराणसी-जम्मूतवी : तड़के 3.52 बजे01077 पूना-जम्मूतवी : रात 1.40 बजे02355 पटना से जम्मूतवी : तड़के 3.35 बजे02587 गोरखपुर से जम्मूतवी : सुबह 5.50 बजे02331 हावड़ा से जम्मूतवी : सुबह 5.50 बजे05097 भागलपुर से जम्मूतवी (साप्ताहिक शनिवार) : सुबह 5.50 बजे04131 प्रयागराज से उधमपुर (बुधवार और रविवार) : सुबह 4.05 बजे09805 कोटा-उधमपुर (साप्ताहिक गुरुवार) : तड़के 3.35 बजे04677 हापा से जम्मूतवी (बुधवार व सोमवार) : सुबह 8.50 बजे08215 दुर्ग से उधमपुर (गुरुवार) : सुबह 10.50 बजे।
मां वैष्णो देवी भक्तों को ट्रेनें चलने की काफी आशा थी। उनकी आशा के अनुरूप ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया है। सभी ट्रेनों में आरक्षण भी सुविधा अनुसार मिल रहा है। -हरि मोहन, वरिष्ठ वाणिज्य अधिकारी
Jan 07 (23:21) Bilaspur News: पूरी तरह सुरक्षित रहेगी वैष्णो देवी व अयोध्या की यात्रा: डीजीएम (www.naidunia.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
18813 views

News Entry# 432314  Blog Entry# 4837359   
  Past Edits
Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Katni Junction/KTE added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Umaria/UMR added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Shahdol/SDL added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Anuppur Junction/APR added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Bhatapara/BYT added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Raj Nandgaon/RJN added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Gondia Junction/G added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Bhandara Road/BRD added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:26)
Station Tag: Itwari Junction (Nagpur)/ITR added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:25)
Station Tag: Shri Mata Vaishno Devi Katra/SVDK added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:25)
Station Tag: Ayodhya Junction/AY added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:25)
Station Tag: Prayagraj Junction (Allahabad)/PRYJ added by Adittyaa Sharma/1421836

Jan 07 2021 (23:25)
Station Tag: Varanasi Junction/BSB added by Adittyaa Sharma/1421836
बिलासपुर। Bilaspur News: भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) 31 मार्च को भारत दर्शन ट्रेन चलाने जा रही है। इसके जरिए वाराणसी, प्रयागराज, अयोध्या व माता वैष्णो देवी के दर्शन कराएंगे। नौ दिन की यह यात्रा पूरी तरह सुरक्षित रहेगी। कोरोना वायरस से बचाव के सारे उपाय किए जाएंगे। इस पैकेज की सबसे खास बात यह है कि किराया बहुत कम है। पर सुविधाएं सभी उपलब्ध कराई जाएंगी।
यह बातें दक्षिण मध्य जोन, सिकंदराबाद आइआरसीटीसी के उप महाप्रबंधक (पर्यटन) किशोर सत्या ने कही। गुरुवार को जोनल स्टेशन में आयोजित पत्रवार्ता के दौरान उन्होंने आइआरसीटीसी द्वारा चलाई जा रही भारत दर्शन ट्रेन के संबंध में जानकारी दी। इस यात्रा के दौरान स्लीपर व एसी-3 श्रेणी में यात्रा कराई जाएगी। इसके अलावा धर्मशाला
...
more...
में रात्रि विश्राम, शाकाहारी भोजन, नान एसी बसों द्वारा दार्शनिक स्थानों का भ्रमण कराया जाएगा। इस दौरान यात्रा बीमा की सुविधा भी दी जा रही है। इस यात्रा की शुरुआत इतवारी से होगी।
भंडारारोड, गोंदिया, राजनांदगांव, दुर्ग, रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया और कटनी भी बोडिर्ग स्टेशन है। जहां से यात्रा कर सकते हैं। स्लीपर कोच में बुकिंग कराने पर 9030 रुपये और एसी के लिए 10 हजार 920 रुपये का पैकेज है। यात्रा पूरी तरह सुरक्षित होगी। कोरोना को देखते हुए यात्रियों को एक किट दिया जाएगा। जिसमंे मास्क, सैनिटाइजर होंगे। ताकि यात्री इसका इस्तेमाल कर सके। पत्रवार्ता के दौरान आइआरसीटीसी बिलासपुर के एरिया मैनेजर एसजे सोरेन भी उपस्थित थे।
फ्लाइट टूर पैकेज भी किया तैयार
उप महाप्रबंधक ने बताया कि आइआरसीटीसी दो डामेस्टिक फ्लाइट टूर पैकेज भी तैयार किया है। इसमें बुकिंग कराने वालो को कंफर्म टिकट के साथ, डीलक्स होटल में ठहराने आदि की सुविधा भी रहेंगी। पहला टूर पैकेज के मेघालय के लिए हैं। इसके तहत गुवाहाटी, शिलांग, चेरापूंजी, मौलिन्न्ोंग,काजीरंगा नेशनल पार्क घूमाया जाएगा। यह फ्लाइट रायपुर से 12 मार्च को उड़ेगी। इसका किराया 29 हजार 667 रुपये निर्धारित किया गया। इसी तरह दूसरे पैकेज में लखनऊ, नैमिषारण्य, अयोध्या, प्रयागराज व वाराणसी की यात्रा कराई जाएगी। यह यात्रा तीन मार्च को शुरू होगी। इस दौरान किराया प्रति व्यक्ति 21 हजार 700 रुपये तय किया गया।
Jan 05 (10:01) Udhampur Banihal Raillink: पहाड़ सी चुनौतियां और हमारे इंजीनियरों का जुनून; जज्बे के आगे Corona भी बौना हो गया, पढ़ें पूरी कहानी (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
7918 views

News Entry# 431851  Blog Entry# 4834525   
  Past Edits
Jan 05 2021 (10:15)
Station Tag: Qazigund/QG added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 05 2021 (10:15)
Station Tag: Shri Mata Vaishno Devi Katra/SVDK added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 05 2021 (10:02)
Station Tag: Banihal/BAHL added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 05 2021 (10:02)
Station Tag: Udhampur/UHP added by Anupam Enosh Sarkar/401739
जम्मू, दिनेश महाजन। कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत को एक करने के रेलवे इंजीनियरों के जुनून को सलाम है। सामने पहाड़ सी चुनौतियां थी, लेकिन इंजीनियरों के हौसले बुलंद रहे। कभी पहाड़ खिसकने की चिंता तो कभी अचानक झरने फूटना। तमाम चुनौतियों से जूझते रहे। जब कार्य गति पकडऩे लगा तो कोरोना ने झटके देने आरंभ कर दिए। यह झटके भी हौसला नहीं तोड़ पाए और इस प्रोजेक्‍ट के महारथी लड़ते हुए आगे बढ़ते रहे।
गत वर्ष कोरोना से सब कुछ थम सा गया, लेकिन देश की महत्वाकांक्षी रेल परियोजना में निर्माण कुछ एहतियात बरतते हुए जारी रहा। इस दौरान एक-एक कर 366 इंजीनियर कोरोना से संक्रमित हो गए, पर कार्य बंद नहीं होने हुआ। क्‍वारंटाइन में रहकर भी इंजीनियर हो या श्रमिक
...
more...
मोबाइल से वीडियो काल कर दिशा निर्देश जारी करते रहे और काम चलता रहा।
ऐसे जुझारू दल की बदौलत ही जम्मू से बारामुला रेल ट्रैक का कार्य अब अंतिम चरण में पहुंचता दिख रहा है। कश्मीर की वादियों में ट्रेन की गूंज एक दशक पहले ही सुनाई देने लग गई थी पर ट्रैक पर सबसे बड़ी चुनौती पीर पंजाल की पहाडिय़ों को काटकर और वहां के दरियाओं को नापकर दर्जनों सुरंग और पुल बनाने की थी। ऊधमपुर से बनिहाल तक का यह रेल लिंक एक और कुदरत की चुनौती को बौना साबित करने की इंसानी जिद की मिसाल है और वहीं देश के इंजीनियरिंग कौशल का नायाब नमूना भी।
रेलवे अफसरों की मानें तो लॉकडाउन में रेलवे को कुछ स्टाफ कम करना पड़ा था, लेकिन इंजीनियरों के जज्बे ने काम की रफ्तार पर ब्रेक नहीं लगने दी। इसके परिणाम अब दिखने लगे हैंं। विश्व के सबसे ऊंचे रेलवे पुल की आर्च का 95 फीसद निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। अब देश के पहले केबल ब्रिज अंजी पुल का निर्माण तेजी से चल रहा है। इस ट्रैक की बड़ी चुनौतियों में शामिल दोनों महत्वपूर्ण पुलों का कार्य इस वर्ष के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे ट्रैक का कार्य पूरा करने की डेडलाइन 15 अगस्‍त 2022 तय की है।
नार्दन रेलवे के जनरल मैनेजर आशुतोष गंगल ने बताया कि 111 किलोमीटर लंबे कटड़ा-बनिहाल रेल सेक्शन में निर्माण कार्य के दौरान रेलवे के 366 इंजीनियर और कर्मी कोरोना संक्रमित हो गए। रियासी और रामबन जिले महीनों तक रेड जोन में रहे और इन जिलों में ही सबसे अधिक सुरंगे और पुल बन रहे हैं। रेलवे ने कर्मचारियों की सुविधाओं को देख निर्माण स्थल पर ही आइसोलेशन सेंटर बना दिए। कुशल कर्मियों का अलग से कैंप बनाया हैं। रेलवे कर्मियों की मेहनत व कार्य निष्ठा के चलते कठिन हालात में बन रहे कटड़ा बनिहाल रेल सेक्शन का निर्माण चलता रहा। रेलवे की तीन एजेंसियों इरकान, केआरसीएल और नार्दर्न रेलवे इस महत्वाकांक्षी परियोजना में अहम भूमिका निभा रही हैं।
जब कोरोना ने दी चुनौती
सीन-1 ::विश्व के सबसे ऊंचे पुल के आर्च के निर्माण के दौरान कई दिक्कतें भी आईं। कोरोना से कई इंजीनियर संक्रमित हो गए। उस दौरान क्‍वारंटाइन में वह अन्य संक्रमित इंजीनियरों और मौके पर मौजूद टीम को वीडियो कांफ्रेंसिंग से दिशा-निर्देश देकर काम आगे बढ़ाते रहे। यही कारण था कि काम नहीं रुका। इंजीनियर विकास ने कहा कि हमारे लिए यह परियोजना चुनौती है।
सीन-2 : कोरोना के समय (मार्च से) कामकाज बंद होने के बाद देशभर में श्रमिक घरों की तरफ निकल पड़े थे, लेकिन रेलवे की सभी एजेंसियों ने किसी श्रमिक को ऐसी नौबत नहीं आने दी। यही कारण था श्रमिक इंजीनियरों के साथ जुनून के साथ काम में जुटे थे। वेतन को लेकर भी कोई दिक्कत नहीं आने दी।
सीन-3 : कोरोना से संक्रमित सभी 366 इंजीनियर व कर्मचारियों के लौटने के बाद काम में और तेजी आई। वे दिन-रात साइट पर ही जुटे रहते और कहते कि पंद्रह दिन छुट्टी काटी है, देश की महत्वाकांक्षी  परियोजना में देरी हमारे लिए शर्मनाक होगी। हालांकि कोरोना के समय श्रमिकों का भी रोस्टर था। साइट पर श्रमिकों की संख्या कम रहती थी पर वह यही दोहराते रहते कि काम तय समय पर ही पूरा होगा।
चूंकि देश का सवाल है....: कुछ इंजीनियरों ने नाम न बताते हुए कहा कि चुनौतियां पहले भी आईं लेकिन पिछले सात-आठ माह का समय वाकई चुनौतियों वाला था। अपने मनोबल को बुलंद रखा। काम के साथ स्वास्थ्य का ध्यान रखा। इस अवधि में परिवार से जरूर दूर रहे। हां, बीच में हमारे कुछ साथी संक्रमित हो गए, लेकिन हौसले पहले जैसे थे। देश का मसला है। यह परियोजना हमारे लिए चुनौती है। पहाड़ों को चीर दिया, इस मुश्किल समय को भी पार कर लेंगे। सभी जुटे हैं, मंजिल पास है: श्रमिकों ने भी कहा कि काम करते हमारे स्टाफ और इंजीनियर बाबुओं को कोरोना  हो गया था, लेकिन कभी मोबाइल फोन से तो कभी अन्य बड़े इंजीनियर हमें दिशा-निर्देश देकर काम करवाते। लॉकडाउन में पूरे बचाव से खूब काम किया। काम रुकने नहीं दिया। प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा कि 2022 में काम खत्म हो। सभी जुटे हुए हैं, मंजिल पास है।
हमने काम रुकने नहीं दिया : इरकान के चिनाब पुल के प्रोजेक्ट मैनेजर विश्वामूर्ति कहते हैं कि कोरोना के समय साइट में काम काफी सतर्कता से किया। साइट पर ही एंबुलेंस, डाक्टर और टेस्टिंग टीम मौजूद रहती थी। दिक्कत आने पर तुरंत इलाज के प्रबंध किए जाते थे। विपरीत परिस्थितियों में हमने काम रुकने नहीं दिया। एसओपी का पालन किया। हमारी साइट पर छह सौ से अधिक इंजीनियर, श्रमिक व अन्य काम में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि छुट्टी काट आने वाला पहले रियासी अस्पताल में टेस्ट करवाता फिर साइट पर। रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद अनुमति होती। इसी जज्बे से हमने 85 फीसद काम खत्म कर लिया है।
15 अगस्त 2022 तक पूरा होना है कार्य : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेलवे के इंजीनियरों का मनोबल बढ़ाते हुए उनकी प्रशंसा की है। प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त 2022 तक जम्मू बारामूला रेल सेक्शन के निर्माण कार्य को पूरा करने को कहा है। यह प्रोजेक्‍ट देश की शान है।जम्मू-ऊधमपुर-श्रीनगर-बारामुला रेल ट्रैक-- यह है कश्मीर को देश से जोड़ने का मेगा प्रोजेक्ट
1. जम्मू-ऊधमुपर -कटड़ा :: 78 किलोमीटर
माता वैष्णो देवी के धाम कटड़ा तक ट्रेन पहले ही पहुंच चुकी है। प्रतिदिन हजारों लोग रेल मार्ग से मां वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए यहां पहुंचते हैं। ऊधमपुर और कटड़ा के 25 किलोमीटर के ट्रैक में से 11 किलोमीटर सुरंगों से गुजरता है।
2. कटड़ा - काजीकुंड -- 129 किलोमीटर
यह इस रेलवे ट्रैक का सबसे कठिन कार्य है। बनिहाल से काजीगुंड पीर पंजाल टनल के माध्यम से जुड़ चुके हैं और 18 किलोमीटर का यह ट्रैक चल रहा है। शेष कटड़ा से बनिहाल 111 किलोमीटर के लिंक पर कार्य चल रहा है। इस लाइन पर कुल 27 पुल, 37 सुरंगें हैं। इसे इस तरह समझा जा सकता है कि कुल 111 किलोमीटर ट्रैक में से 97 किलोमीटर पुल या सुरंग से ट्रैक गुजरेगा। इसमें 81 किलोमीटर का निर्माण भी हो चुका है।
3. काजीकुंड - बारामुला -- 119 किलोमीटर काजीगुंड से बारामुला तक रेलवे ट्रैक काफी समय से चल रहा है। यह मुख्य तौर पर कश्मीर की वादियों और बागानों से होकर गुजरता है। सॢदयों में  बर्फ से लदी पहाडिय़ों के बीच काफी मनमोहक हो जाती हैं। करीब एक दशक से यह ट्रैक चल रहा है।
जब पहाड़ से रिसने लगा झरना
रियासी में बन रही यह टनल नंबर-5 में सबसे बड़ी चुनौती पहाड़ से रिसने वाला पानी था। हिमालयन शृंखला बन रही छह किलोमीटर की इस टनल का निर्माण किसी चुनौती से कम नहीं था। पानी के रिसाव के कारण तीन कंपिनयां काम छोड़कर प्रोजेक्‍ट से किनारा कर गईं और प्रोजेक्‍ट के आरंभ होने के करीब डेढ़ दशक बाद टनल की खोदाई पूरी हो पाई। निर्माण कंपनी के अधिकारियों के अनुसार वर्ष 2017 के अगस्त माह में टनल के ऊपरी भाग से लगभग 300 लीटर प्रति सेकेंड पानी रिसने लगा और यह इंजीनियरों की अपेक्षा से कई गुना अधिक था। निर्माण कंपनी ने खुदाई में 50 लीटर प्रति सेकंड पानी निकलने की तैयारी कर रखी थी। ऐसे में तुरंत रणनीति बदलनी पड़ी और अब इस कार्य को पूरा किया जा चुका है।
Dec 31 2020 (08:19) Jammu Railways: एक जनवरी से बहाल होगी वंदे भारत एक्सप्रेस, लोगों को मिलेगी राहत (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
4754 views

News Entry# 431058  Blog Entry# 4829171   
  Past Edits
Dec 31 2020 (08:19)
Station Tag: New Delhi/NDLS added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 31 2020 (08:19)
Station Tag: Shri Mata Vaishno Devi Katra/SVDK added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 31 2020 (08:19)
Train Tag: Shri Mata Vaishno Devi Katra - New Delhi Vande Bharat Express/22440 added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 31 2020 (08:19)
Train Tag: New Delhi - Shri Mata Vaishno Devi Katra Vande Bharat Express/22439 added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Jammu Railways रेल मंत्रालय की इस घोषणा के बाद जम्मू व कटड़ा के व्यापारियों ने राहत की सांस ली है। उनका कहना था कि रेल सेवाएं पूरी तरह सुचारू होने से बाजार में छाई आर्थिक मंदी दूरी होगी। लोगों की एक बार फिर आमद बढ़ेगी और व्यापार में सुधार होगा।
जम्मू, जागरण संवाददाता: भारतीय रेलवे ने नई दिल्ली और कटड़ा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को एक जनवरी से फिर से बहाल करने का आदेश जारी हैं। कोरोना काल के बाद इस रेलगाड़ी को शुरू किया गया था, लेकिन पंजाब में जारी किसान आंदोलन के चलते एक बार फिर से वंदे भारत को रोक दिया गया था। वंदे भारत एक्सप्रेस सुबह दिल्ली से चल कर दोपहर को कटड़ा पहुंचती है और
...
more...
उसी दिन दोपहर को कटड़ा से चल कर देर रात को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन में पहुंच जाएगी।
रेल मंत्रालय की इस घोषणा के बाद जम्मू व कटड़ा के व्यापारियों ने राहत की सांस ली है। उनका कहना था कि रेल सेवाएं पूरी तरह सुचारू होने से बाजार में छाई आर्थिक मंदी दूरी होगी। लोगों की एक बार फिर आमद बढ़ेगी और व्यापार में सुधार होगा। उन्होंने मंत्रालय से बंद की गई अन्य रेल सेवाओं को भी जल्द बहाल करने की मांग की।
सामान्य रहा रेल यातायात : उत्तर भारत में छाए घने काेहरो के बावजूद देश के विभिन्न हिस्सों से जम्मू आने वाले रेलगाड़ियां लगभग अपने तय समय पर ही जम्मू रेलवे स्टेशन में पहुंची। रेलवे अधिकारियों के अनुसार जबलपुर से श्री माता वैष्णो देवी कटड़ा पहुंची रेलगाड़ी अपने तय समय से तीन घंटे देरी से आई। अर्चना एक्सप्रेस आधा घंटा देरी से आई। बाकी अन्य रेलगाड़ी सामान्य रही।
रेल विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कोहरे से पेश आने वाली दिक्कतों को देखते हुए उन्होंने पहले से ही सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दे दिए हैं। उन्हें यह भी कह दिया गया है कि लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो इसका पूरा ध्यान रखा जाए। यात्रियों को समय पर व सुरक्षित मंजिल तक पहुंचाना ही रेल विभाग का दायित्व है। इस जिम्मेदारी को विभाग पूरी निष्ठा के साथ निभाएगा।
Page#    Showing 1 to 20 of 452 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy