Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

patri ke is taraf ya us taraf, zindagi mein hum sab RailFan ek taraf - Ananya D'Souza

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Nov 27 09:06:51 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search
Medium; Large Station Board;
Entry# 4604187-0

LYD/Layabad (1 PFs)
     लयाबाद

Track: Single Electric-Line

Show ALL Trains
Katrash road, Loyabad - 828101
State: Jharkhand

Elevation: 191 m above sea level
Zone: SER/South Eastern   Division: Adra

No Recent News for LYD/Layabad
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 1
Number of Halting Trains: 10
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: NaN/5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 11 of 11 News Items  
Oct 21 (22:50) डीसी लाइन के बांसजोड़ा रेलवे स्टेशन के पास लगे बाक्स से 21 रिले डिवाइस की चोरी (m.jagran.com)
Crime/Accidents
ECR/East Central
0 Followers
4465 views

News Entry# 468126  Blog Entry# 5100451   
  Past Edits
Oct 21 2021 (22:50)
Station Tag: Layabad/LYD added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (22:50)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (22:50)
Station Tag: Bansjora/BZS added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (22:50)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Adittyaa Sharma/1421836
धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन के बांसजोड़ा स्टेशन के समीप बुधवार की रात रिले डिवाइस चोरी हो गई।
संवाद सहयोगी, लोयाबाद: धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन के बांसजोड़ा स्टेशन के समीप बुधवार की रात सिग्नल बाक्स से 21 रिले डिवाइस चोरी हो गई। इसकी कीमत करीब 30 हजार रुपये आंकी गई है। आरपीएफ मामले की जांच में जुट गई है। रिले डिवाइस चोरी हो जाने से सिग्नल फेल कर गया, जिससे मौर्य एक्सप्रेस व वनांचल एक्सप्रेस और दुमका इंटरसिटी सहित आठ माल गाड़ियों को पेपर से पास कराया गया। सिग्नल फेल होते ही महकमे में हलचल मच गई। रात में ही आरपीएफ और रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंच गए और रुकी हुई ट्रेनों को पेपर के माध्यम से पास कराया। गाड़ियों को इधर से गुजरने में
...
more...
काफी परेशानी और विलंब हुआ। नया रिले लगाने के बाद सिग्नल ने काम करना शुरू कर दिया। करीब तीन घंटे से अधिक समय तक सिग्नल फेल रहा। कर्मियों को रात करीब दो बजे सिग्नल फेल होने का पता चला था। स्टेशन मास्टर सुब्रतो कर्मकार द्वारा अधिकारियों को उक्त घटना की जानकारी दी गई।
सिग्नल विभाग के अधिकारी सहित अन्य रेलवे व आरपीएफ अधिकारी तत्काल मौके पर पहुंचे। कर्मियों ने पहले तकनीकी खराबी आने की बात समझा। जांच के दौरान पता चला कि एलओसी बाक्स नंबर नौ से छह पिस बाक्स नंबर 10 से सात पिस व बाक्स नंबर 10/2 से आठ पीस रिले गायब है।
---------------
बाक्स का ताला खोले बिना रिले की चोरी
बांसजोड़ा रेलवे स्टेशन के पास तीन रिले बाक्स लगा हुआ है। तीनों में ताला लगा हुआ था। जांच के दौरान भी ताला लगा हुआ ही पाया गया। चाबी से ताला खोले जाने के बाद रेलवे अधिकारी आश्चर्यचकित रह गए। बाहर से ताला लगा था और अंदर से रिले गायब था। घटना से लोग चकित थे। अपराधियों द्वारा बक्सों को बिना कोई छेड़छाड़ किए कैसे रिले चोरी कर ली यह समझ से परे था।
-----------
रेलवे कर्मी संदेह के घेरे में
बंद बाक्सों से रिले डिवाइस की चोरी हो जाने पर रेल कर्मी संदेह के घेरे में हैं। आरपीएफ और क्राइम इंटेलीजेंस ब्रांच के अधिकारियों का मानना है कि बाक्स को न तोड़ा और न ही किसी तरह से छेड़छाड़ की गई है, फिर चोरी कैसे हुई ? जिस तरह से चोरी की घटना को अंजाम दिया गया है, उससे ऐसा प्रतीत होता है कि चोरी करने वाले के पास चाबी थी।
----------
रेल कर्मियों और आरपीएफ के बीच नोकझोंक
सुबह में जब आरपीएफ और क्राइम इंटेलीजेंस ब्रांच के अधिकारी घटना स्थल पहुंचे। जांच पड़ताल के क्रम में कर्मियों से पूछताछ के दौरान दोनों के बीच नोकझोंक हो गई। जांच कर रहे अधिकारियों को बंद बाक्स से रिले डिवाइस की चोरी हो जाना गले से नीचे नहीं उतर रहा था। रेल कर्मियों का कहना था कि इससे पहले भी चोरी की घटना घटी थी।
-----------
सुरक्षा के लिए आरपीएफ जवानों की रहती है तैनाती
बांसजोड़ा और गडे़रिया के बीच सुरक्षा करने के लिए आरपीएफ जवानों की ड्यूटी रहती है। दो बजे अपराधियों के द्वारा घटना का अंजाम दिया गया। यदि जवान ड्यूटी पर होते तो जरूर चोरों पर नजर पड़ी होती। इससे साफ पता चलता है कि जवानों द्वारा भी ड्यूटी में लापरवाही बरती गई है। इस इलाके में पहले भी केबल और रियल मानीटरिग सिस्टम की चोरी घटना घट चुकी है।
Oct 21 (17:46) IRCTC: बांसजोड़ा स्टेशन के पास लगे बॉक्स से रिले गायब धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग पर थमी ट्रेनें (m.jagran.com)
Major Accidents/Disruptions
ECR/East Central
0 Followers
7829 views

News Entry# 468115  Blog Entry# 5100207   
  Past Edits
Oct 21 2021 (17:46)
Station Tag: Layabad/LYD added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (17:46)
Station Tag: Bansjora/BZS added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (17:46)
Station Tag: Chandrapura Junction/CRP added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 21 2021 (17:46)
Station Tag: Dhanbad Junction/DHN added by Adittyaa Sharma/1421836
धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग में बांसवाड़ा स्टेशन के पास चोरों ने बॉक्स से रिले गायब कर दिया। इस कारण से इस रूट की सभी ट्रेनें बाधित हो गई है चोरों के इस करामात से रेलवे को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है इसके साथ ही यात्रियों की भी परेशानी बढ़ी।
 संवाद सहयोगी, लोयाबाद (धनबाद): धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग के बांसजोडा स्टेशन के पास चोरों ने सिंगनल बॉक्स से  रिले उड़ा लिया। इस रेलवे का सिगनलिंग सिस्टम पूरी तरह फेल हो गया और यात्री ट्रेनों से लेकर मालगाड़ियों तक के पहिए थम गए। डीसी लाईन से गुजरने वाली जो ट्रेनें जहां थी वहीं रुक गई।
ट्रेन
...
more...
रुकते ही जैसे ही रेलवे कंट्रोल रूम को खबर मिली महकमे में  खलबली मच गई। रात में ही रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंचे। ट्रेनों को मैन्युअल सिस्टम के माध्यम से पास कराया गया। हालांकि ट्रेनों बिना सिगनल के इधर से गुजरने में काफी विलंब का सामना करना पड़ा । नया रिले लगाने के बाद सिग्नल काम करना शुरू कर दिया। करीब तीन घंटे से अधिक समय तक सिग्नल फेल रहा। 
 *रात दो बजे हुई थी घटना* 
रात दो बजे के करीब रिले मशीन की चोरी की घटना हुई थी जिससे सिंगनल फेल कर गया। सिंगल नहीं मिलने ट्रेन रुक गई। जब रेलवे केबिन के कर्मियों से संपर्क किया तो  सिग्नल फेल हो जाने की जानकारी मिली। रेलवे कर्मियों ने पहले समझा कि सिग्नल में  कोई तकनीकी खराबी आ गई है। जांच करने के बाद पता चला कि तीन सिग्नल  रिले बाक्स से 21 रिले अपराधियों ने चोरी कर लिया है। हालांकि हैरत की बात यह है कि सभी बाक्स लगा हुआ था। जांच के दौरान पाया गया कि बक्सों के साथ साथ कोई छेड़छाड़ नहीं किया गया और सभी में ताला लगा हुआ था। अधिकारियों ने चाबी से ही बक्से को खोला। चोरी गया रिले की कीमत करीब बीस हजार रुपये आंकी गई है। 
 *आरपीएफ ने शुरू की छापेमारी आसपास के इलाकों में संदिग्धों से कर रही पूछताछ*
 देर रात की घटना के बाद से ही आरपीएफ बांसजोड़ा और उसके आसपास के इलाकों में छापेमारी कर रही है। इस काम में आरपीएफ ने अपने गुप्तचरों को भी लगाया है। संदिग्धों से पूछताछ भी की जा रही है। धनबाद आरपीएफ पोस्ट का प्रभार संभाल रहे राजीव कुमार ने बताया की सघन छापेमारी की जा रही है। हालांकि इस मामले में अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।
Oct 17 (08:15) गोमो लोको शेड का रेल महाप्रबंधक ने किया निरीक्षण (m.jagran.com)
IR Affairs
ECR/East Central
0 Followers
5323 views

News Entry# 467699  Blog Entry# 5097050   
  Past Edits
Oct 17 2021 (08:15)
Station Tag: Layabad/LYD added by Adittyaa Sharma/1421836

Oct 17 2021 (08:15)
Station Tag: Netaji SC Bose Junction Gomoh/GMO added by Adittyaa Sharma/1421836
शनिवार को रेलवे के महाप्रबंधक अनुपम शर्मा डीआरएम राकेश बंसल ने गोमो स्टेशन का निरीक्षण किया।
संवाद सहयोगी, गोमो बाजार: शनिवार को रेलवे के महाप्रबंधक अनुपम शर्मा, डीआरएम राकेश बंसल के साथ सैलून से गोमो स्टेशन पहुंचे। उन्होंने विद्युत शेड का जायजा लिया। लोको शेड के सीनियर डीईई गोवर्धन राम के साथ शोड के विस्तारीकरण पर चर्चा की। मौके पर चीफ यार्ड मास्टर बीसी मंडल, पावर फोरमैन एस. मंडल, पीडब्लूआई शैलेंद्र कुमार, स्वास्थ्य निरीक्षक डी. घोष आदि मौजूद थे।
लोयाबाद: डीसी लाइन की पटरियों को ठीक करने का काम शनिवार से
...
more...
शुरू हो गया। रेलवे अधिकारियों के द्वारा एक सप्ताह के अंदर ठीक करने के दिए गए कड़े निर्देश के बाद काम शुरू हुआ है। अधिकारियों ने जांच के दौरान करीब पांच सौ मीटर दूर तक कई जगहों पर पटरियों में गड़बड़ी पाई थी। कई जगहों पर पटरियां दबी हुई थी। रेलवे जीएम रेलवे लाइन की जांच करने के लिए आने वाले थे। शाम करीब पांच बजे जीएम सैलून कार से आए जरूर, लेकिन यहां पर नहीं रुके। जीएम का इंतजार पटरियों को दुरुस्त कर रहे रेलकर्मी भी कर रहे थे। ये मजदूर उनका स्वागत कर अपनी समस्याओं से संबंधित मांग पत्र सौंपना चाहते थे। मांग पत्र जीएम को नहीं सौंप पाने पर ये लोग काफी मायूस दिख रहे थे। मजदूरों ने बताया कि यहां गैंग हाट और पीने के पानी की बहुत दिक्कत है। 12 अक्टूबर की रात में बांसजोड़ा स्टेशन के समीप 12 नंबर श्रमिक मोहल्ले में स्थित बोरहोल से अचानक आग धधकने लगी थी। इस घटना की जांच करने के लिए 13 अक्टूबर को रेलवे अधिकारियों की टीम पहुंची थी। आग निकलने वाली बोरहोल और रेलवे लाइन का निरीक्षण किया गया था। जांच के दौरान रेल पटरियों में कई जगहों पर गड़बड़ियां पाई गई थी।
Oct 12 (22:50) बांसजोड़ा स्टेशन के समीप बोरहोल से धधकी आग (m.jagran.com)
IR Affairs
ECR/East Central
0 Followers
15440 views

News Entry# 467377  Blog Entry# 5093618   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
लोयाबाद धनबाद-चंद्रपुरा रेलवे लाइन पर फिर खतरा मंडराने लगा है। मंगलवार की देर शाम को यहां बोरहोल से आग धधकने लगी।
लोयाबाद : धनबाद-चंद्रपुरा रेलवे लाइन पर फिर खतरा मंडराने लगा है। मंगलवार की देर शाम को बांसजोड़ा रेलवे स्टेशन से महज 10-12 मीटर की दूरी पर बांसजोड़ा 12 नंबर श्रमिक कालोनी के बगल में एक बोरहोल से अचानक आग निकलने लगा, जिससे वहां अफरा-तफरी मच गई। डीसी लाइन के नीचे लगी आग पर काबू पाने के लिए तीन-चार वर्ष पूर्व इस कालोनी के आसपास में करीब आधा दर्जन से अधिक बोरहोल कराया गया था। इससे जमीन के अंदर लगी आग को नियंत्रित करने के लिए सोडियम सेलिकेट केमिकल का घोल डाला जाता था। बांसजोड़ा कोलियरी प्रबंधन द्वारा 30 हजार लीटर
...
more...
पानी डाल कर आग पर काबू पा लिया गया है। बोरहोल घनी आबादी के करीब है। इस घटना से कालोनी के लोगों में दहशत व्याप्त है। तीन वर्षों से बोरहोल में पानी, न केमिकल डाला जा रहा है :
ग्रामीणों ने बताया कि कोलियरी प्रबंधन द्वारा इस बोरहोल के माध्यम से जमीन के अंदर लगी आग को नियंत्रण में रखने के लिए पानी में केमिकल मिला कर डाला जाता था, जो पिछले तीन वर्षों से बंद है। पूर्व में डीजीएमएस और सिफर के विज्ञानियों के गाइडलाइन का कोलियरी प्रबंधन द्वारा पालन किया जाता था। सिफर स्वयं इसकी मानिटरिग करता था। वर्ष 2002 से ही आग पर काबू पाने की कोशिश हो रही है। रियल टाइम मानिटरिग सिस्टम चोरी होने के बाद जमीनी हलचल की जानकारी बंद :
बांसजोड़ा कोलियरी प्रबंधन द्वारा जमीनी हलचल की जानकारी का पता लगाने के लिए रियल टाइम मानिटरिग सिस्टम मशीन लगाई गई थी। इस मशीन से जमीन के अंदर के तापमान के साथ नीचे हल्की सी होने वाली हलचल की भी जानकारी मिलती थी। यदि जमीन के अंदर तेज हलचल होती थी तो मशीन से जुड़ा सायरन बजने लगता था। मशीन का सेंसर और सोलर पैनल कोलियरी कार्यालय के सर्वे कंप्यूटर से जुड़ा हुआ था। सोलर पैनल व केबल चोरी हो जाने से मशीन पूरी तरह से ठप पड़ गई है। अब रेलवे लाइन के नीचे की हलचल का पता नहीं चलता है।
रेलवे ने एक दिन पहले शुरू किया गया सर्वे : सोमवार को रेलवे के सर्वे विभाग की टीम ने अग्नि प्रभावित डीसी लाइन की जांच की थी। लेबल मशीन से रेलवे ट्रेक का सर्वे किया गया था। टीम के अधिकारियों ने बताया था कि एक जगह रेलवे पटरी थोड़ी सी दबी हुई है, हालांकि उससे परिचालन में कोई खतरा नहीं है।

Rail News
13954 views
Oct 12 (23:05)
jigyasusingh47
JigyasuSinghRF^~   11277 blog posts
Re# 5093618-1            Tags   Past Edits
Passengers safety is much more important than to run trains on dc if this fire still continues than railway may restore it's old closing decision..

4279 views
Oct 21 (21:28)
Rail cum Aviation freak
Subhojyoti^~   1719 blog posts
Re# 5093618-2            Tags   Past Edits
The line is totally unsafe , thats the reality .
Jul 21 2019 (06:30) भूमिगत आग से डीसी लाइन को खतरा तो नहीं (m.jagran.com)
IR Affairs
ECR/East Central
0 Followers
22954 views

News Entry# 387182  Blog Entry# 4383641   
  Past Edits
Jul 21 2019 (06:30)
Station Tag: Layabad/LYD added by Adittyaa Sharma^~/1421836

Jul 21 2019 (06:30)
Station Tag: Katrasgarh/KTH added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Katrasgarh/KTH   Layabad/LYD  
संवाद सहयोगी, कतरास/लोयाबाद: सुप्रीम कोर्ट के अदालत मित्र गौरव अग्रवाल अधिवक्ता शुक्रवार को डीसी लाइन व उसके आसपास में लगी जमीनी आग को देखा। आग बुझाने को लेकर प्रबंधन द्वारा किए जा रहे बचाव कार्य की जानकारी ली। कोल अधिकारियों से यह भी जानना चाहा कि कब तक भूमिगत आग पर नियंत्रण हो पाएगा। इतना ही नहीं अग्नि प्रभावित इलाके में रह रहे लोगों के पुनर्वास के बारे में पूछताछ की। उनके साथ कतरास क्षेत्र के महाप्रबंधक जितेंद्र मल्लिक, सिजुआ क्षेत्र के अपर महाप्रबंधक केआर सत्यार्थी सहित कई अधिकारी थे।
पहले वे डीसी लाईन के बगल कतरास क्षेत्र के लिलटेन अंगारपथरा पहुंचे। यहां जमीनी आग से रेलमार्ग को खतरा है कि नहीं इसके बारे में कोल अधिकारियों से जानकारी ली।
...
more...
डीसी लाईन से करीब 50 फीट दूरी पर आग बुझाने के हो रहे प्रयासों की जानकारी ली तथा आगामी योजना से अवगत हुए। उन्होंने डीसी रेल लाइन बंद होने तथा चालू होने से संबंधित कई बिदुओं पर पूछताछ की। उन्होंने कहा कि नजदीक में आग रहने के बावजूद रेलवे लाइन चालू है, क्या कभी इससे प्रभावित नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि बीसीसीएल प्रबंधन आग को काबू करने की दिशा में कितना कारगर पहल कर रहा है। क्या रेलवे लाइन सुरक्षित है। इसपर अधिकारियों ने कहा कि डीजीएमएस के निर्देशानुसार ट्रेंच कटिग कर डीसी लाइन को सुरक्षित कर दिया गया है। सिफर के सुझाव पर बोर होल करके आग की स्थिति की जानकारी ली जा रही है। आग में जल रहे कोयले को बचाने से संबंधित भावी योजना से संबंधित बातें जानी। उन्होंने अग्नि प्रभावित इलाके का तस्वीर मोबाइल के कैमरे में कैद किया। लिलटेन अंगारपथरा अग्नि प्रभावित इलाके में कराए गये बोर से धुआं व गैस के निकलते भी दिखाया गया।
इसके बाद वे सिजुआ क्षेत्र के बांसजोड़ा पहुंचे। यहां डीसी लाइन व उसके बगल की खनन परियोजना को व्यू प्वांइट से देखा। परियोजना में धधक रही आग व उत्पादन कार्य को देखा। कोल अधिकारियों से परियोजना में लगी आग और किस तरह से अग्नि प्रभावित जोन में की जा रही कोयला उत्पादन के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने नक्शे का अवलोकन किया तथा आसपास की आबादी को हटाने की योजना पर चर्चा की।
कोल अधिकारियों ने डीसी लाइन के बांसजोड़ा रेलवे स्टेशन के समीप उस स्थान को भी दिखाया जहां अक्सर जमीन धंस जाती और रेलवे द्वारा उसकी भराई की जाती है। कोल अधिकारियों ने उन्हें रियल मॉनीटरिग सिस्टम के बारे में भी बताया। वे करीब पंद्रह बीस मिनट तक बांसजोड़ा में रुके और अधिकारियों से जानकारी ली। पत्रकारों से कहा कि वे तो अभी जायजा ही ले रहे हैं। जरेडा के अधिकारियों से मिलने जा रहे हैं। इस मौके पर पीओ जेके जायसवाल, पर्यावरण पदाधिकारी रितेश कुमार, सर्वेयर एमपी चौधरी, एके मिश्रा आदि शामिल थे।
अदालत मित्र गौरव अग्रवाल अग्नि प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने के दौरान वे अपने मोबाइल से फोटो भी ले रहे थे। एक अधिकारी ने आग के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि यदि परियोजना में लगी आग की वास्तविक स्थिति को देखना है तो रात में निरीक्षण करें।
------------------
प्रबंधन ने नहीं लगाया रियल मनीटरिग सिस्टम
कोलियरी प्रबंधन द्वारा जमीनी हलचल की जानकारी देने वाला रियल मानीटरिग सिस्टम नहीं लगाया गया था। जो जमीन के आग से होने वाली हलचल के पल पल की जानकारी देता था। डीसी लाइन बंद हो जाने के बाद अपराधियों ने उक्त मशीन की चोरी कर ली। डीसी लाइन चालू हो गया, लेकिन कोलियरी प्रबंधन द्वारा आज तक इस मशीन को नहीं लगाया गया है।
Page#    Showing 1 to 11 of 11 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy