Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Uttarbanga Exp: উত্তরের আত্মার আত্মীয় - Avinaba Bose

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sat Jan 23 20:26:06 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

NHH/Nihalgarh (3 PFs)
نہال گڑھ     निहालगढ़
[Jagdishpur]

Track: Double Electric-Line

Show ALL Trains
Nihalgarh Railway Station, State Highway 15, Jagdishpur
State: Uttar Pradesh

Elevation: 108 m above sea level
Zone: NR/Northern   Division: Lucknow Charbagh NR

No Recent News for NHH/Nihalgarh
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 3
Number of Halting Trains: 48
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: 2.5/5 (8 votes)
cleanliness - average (1)
porters/escalators - average (1)
food - average (1)
transportation - average (1)
lodging - average (1)
railfanning - average (1)
sightseeing - average (1)
safety - average (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 15 of 15 News Items  
Jan 15 (23:52) स्टेशन की उपचार पेटिकाओं में मिलीं एक्सपायर्ड दवाएं (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
3245 views

News Entry# 433486  Blog Entry# 4846336   
  Past Edits
Jan 15 2021 (23:52)
Station Tag: Nihalgarh/NHH added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Nihalgarh/NHH  
जगदीशपुर (अमेठी)। यात्रियों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने की कोशिश में जुटे मंडल रेल प्रबंधक ने शुक्रवार को स्पेशल ट्रेन अचानक निहालगढ़ रेलवे स्टेशन पर रुकवा दी। ट्रेन से उतरने के बाद मंडल रेल प्रबंधक ने मौजूद सुविधाओं के साथ परिचालन व अन्य कार्यों का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान प्राथमिक उपचार पेटिका में एक्सपायर दवा मिलने से नाराज मंडल प्रबंधक ने आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।लखनऊ-वाराणसी रेल ट्रैक से शुक्रवार को वाराणसी जा रहे मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी की स्पेशल ट्रेन 11.40 बजे अचानक निहालगढ़ रेलवे स्टेशन पर रुक गई। ट्रेन से उतर कर मंडल रेल प्रबंधक ने स्टेशन परिसर की साफ सफाई, पैनल रूम में मौजूद परिचालन, कॉमर्शियल व वाणिज्यिक समेत अन्य अभिलेखों का अवलोकन किया। निरीक्षण के दौरान ट्रैक पर गंदगी के साथ प्राथमिक उपचार पेटिका में मौजूद कुछ दवाएं एक्सपायर मिलीं। ट्रैक पर गंदगी व एक्सपायर डेट की दवा मिलने से नाराज...
more...
मंडल रेल प्रबंधक ने ट्रैक की साफ-सफाई तथा प्राथमिक उपचार पेटिका में आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। इस दौरान मंडल रेल प्रबंधक ने आरक्षण बुकिंग काउंटर का निरीक्षण कर स्टेशन अधीक्षक एलएल मीना को आवश्यक दिया निर्देश दिया। निरीक्षण के बाद 12:15 बजे मंडल रेल प्रबंधक स्पेशल ट्रेन से वाराणसी की ओर रवाना हो गए।निरीक्षण के दौरान उप मंडल रेल प्रबंधक अश्विनी श्रीवास्तव, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक केके रोरा, सीनियर डीएसटीई विकास श्रीवास्तव, सीनियर डीसीएम जगतोष शुक्ला, वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी बबलू यादव आदि मौजूद रहे।
Dec 28 2020 (08:27) लोकल ट्रेन, यात्री ट्रेन चले तो कारोबार का पहिया भी डोले (www.amarujala.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
4603 views

News Entry# 430470  Blog Entry# 4825703   
  Past Edits
Dec 28 2020 (08:27)
Station Tag: Nihalgarh/NHH added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 28 2020 (08:27)
Station Tag: Hapur Junction/HPU added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Hapur Junction/HPU   Nihalgarh/NHH  
रंजीत बाबेल का जरी के कपड़ों का काम है और लेबर मेरठ, हापुड़, पलवल तमाम क्षेत्रों से आती हैं। केन्द्रीय मंत्रालय और सचिवालय का लोअर स्टाफ भी दूर दराज के क्षेत्र से आता है। यही स्थिति लक्ष्मीनगर, चांदनी चौक, गांधी नगर, नेहरू प्लेस और पीतम पुरा की भी है। छोटे, लघु उद्योंगों की संस्था से जुड़े अनिल खेतान का कहना है कि बाजार और कारोबार भले खुल गया है, लेकिन लेबर की समस्या के कारण रौनक नहीं आ पा रही है। राधेश्याम गोयल कहते हैं कि लोकोमोटिव, डेमू या लोकल ट्रेन जबतक नहीं चलेगी, तब तक इसी तरह के हालात बने रहेंगे। हापुड़ के पास से आने वाले विद्यानंद केन्द्रीय सचिवालय के पास नौकरी करते हैं। सात हजार रुपये की तनख्वाह है। पार्ट टाइम करके कुल 10-12 हजार तक कमाते हैं, लेकिन इन दिनों एक बार आने और जाने में उन्हें 198 रुपये का भुगतान किराये के रूप में करना पड़ता...
more...
है। समय भी तीन गुना लगता है, इसलिए विद्यानंद आना ही नहीं चाहते। विद्यानंद का कहना है कि लोकल पैसेंजर ट्रेन चल जाए तो बात बने। विद्यानंद की तरह ही दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा, साहिबाबाद, शहादरा, गांधी नगर, चादनी चौक, सदर बाजार समेत तमाम कामकाजी जगहों पर कामगार लोकल ट्रेन से आते हैं। जहां कामगारों को लोकल ट्रेन के चलने का इंतजार है। वहीं कारोबारियों को भी कामगारों की कमी अब खलने लगे हैं।लोकल ट्रेन चले तो छोटे-छोटे शहरों का धंधा चमकेजौनपुर, इलाहाबाद, बनारस, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, लखनऊ समेत उ.प्र. के तमाम छोटे-बड़े जिलों को भी लोकल ट्रेन का बेसब्री से इंतजार है। सुल्तानपुर के वकील प्रदीप पाठक बताते हैं कि हर रोज लोकल ट्रेन का कम किराया होने के कारण बड़ी संख्या में शहर में मजदूर, छोटे कामकागार, दफ्तर के बाबू, छात्र, मास्टर, मुकदमा की पैरवी करने वाले और दूधिए आते हैं। इससे न केवल कचहरी गुलजार रहती है, बल्कि शहर का कामकाज भी तेजी से चलता है। कोुिवड-19 संक्रमण के ट्रेनों का परिचालन रुका और इसका सीधा लोगों को कारोबार तथा शहरों की रौनक पर पड़ रहा है। सिरकोनी के दयाराम यादव अपने बेटे और सहायक के साथ प्रतिदिन लोकल ट्रेन पर दूध का टंका लादकर बनारस में पांच क्विंटल दूध की आपूर्ति करने जाते थे। दयाराम बताते हैं कि उनके इस कारोबार पर लोकल ट्रेन न चलने से प्रतिकूल असर पड़ रहा है। उनकी तरह करीब 50 दूध कारोबारी इस समस्या से जूझ रहे हैं। दयाराम बताते हैं कि लोकल ट्रेन से दूध ले जाना काफी सस्ता पड़ जाता था, जबकि बसों में लादकर इसे ले जाना काफी मंहगा सौदा है।मुंबई की तो लाइफ लाइन है लोकल ट्रेनमहाराष्ट्र इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में असिस्टेंट इंजीनियर विजय यादव प्रतिदिन लोकल ट्रेन से ही दफ्तर जाते थे। अभी वह कार का सहारा लेते हैं। विजय कहते हैं कि लोकल ट्रेन तो मुंबई की लाइफ लाइन मानी जाती है। यह रोज मुंबई में 75 लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक ले जाती है। अभी तो तमाम पाबंदियों के कारण लाखों यात्रियों को मन मसोस कर रह जाना पड़ रहा है। पालघर से मुंबई आकर कामकाज करके शाम को लौट जाने वाले वरुण चौबे कहते हैं कि आंशिक तौर पर लोकल ट्रेन चल रही है। सभी लोगों को उसमें यात्रा की इजाजत नहीं है। 15 दिसंबर के बाद से लोकल ट्रेन के परिचालन में थोड़ी ढिलाई बरते जाने से अभ धीरे-धीरे कामकाज पटरी पर लौट रहा है। यही स्थिति नाला सोपाड़ा स्टेशन के पास भूजा बेचने वाले छेदी राम गुप्ता की भी है। गुप्ता का कहना है कि वह अभी भी कोविड-19 की त्रासदी झेल रहे हैं। उन्हें भी पहले की तरह लोकल ट्रेन और उसमें लोगों के यात्रा करने वाले समय का इंतजार है।
राजधानी, शताब्दी से भी ज्यादा लोकल ट्रेन के परिचालन की मांग
निहालगढ़ रेलवे स्टेशन में परिचालन विभाग से जुड़े सूत्र की माने तो राजधानी, शताब्दी, पैसेंजर ट्रेन से ज्यादा मांग लोकोमोटिव, डेमू ट्रेनों की है। सूत्र बताते हैं कि कम पैसे में यात्रा के कारण के कारण रोजमर्रा के कामकाजी लोगों को इसके न चलने से काफी परेशानी हो रही है। बनारस रेलवे स्टेशन के प्रमुख सूत्र का भी कहना है कि जौनपुर-बनारस-सुल्तानपुर जैसी ट्रेनों की काफी मांग है। हर दिन रेलवे का स्टाफ इन ट्रेनों के परिचालन की जानकारी देते-देते थक जाता है। सूत्र बताते हैं कि कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए अभी इन ट्रेनों के परिचालन पर कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया जा सका है।अभी रेलवे बोर्ड कुछ बता पाने की स्थिति में नहींरेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव शनिवार को एक रूपरेखा के साथ प्रेसवार्ता में आए, लेकिन अभी यात्री ट्रेनों को चलाने को लेकर उनके पास भी कोई ठोस जवाब नहीं था। रेलवे बोर्ड चेयरमैन का कहना है कि अधिकारी यात्री ट्रेनों के परिचालन के लिए राज्य सरकारों से संपर्क  कर रहे हैं। समझा जा रहा है कि कोविड-19 की स्थिति और सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखकर रेलवे बोर्ड ट्रेनों के परिचालन के मामले में काफी फूंक-फूंककर कदम रख रहा है। नादर्न रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि यात्री ट्रेनों के परिचालन का दबाव है, लेकिन इससे ज्यादा जरूरी लोगों की सुरक्षा है। सूत्र का कहना है कि रेलवे का देश की अर्थ व्यवस्था और कारोबार में प्रत्याक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से काफी बड़ा योगदान रहता है, लेकिन स्थितियों को देखते हुए अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।
गौरतलब है कि रेलवे 13523 से अधिक यात्री ट्रेनों का परिचालन करता है। इसमें हर दिन करीब 8.5 अरब लोग यात्रा करते हैं। 12,147 के करीब लोकोमोटिव ट्रेन चलती है और पूरे देश में 7231 रेलवे स्टेशनों को रेलवे जोड़ता है। इस तरह से जम्मू-कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश को जोडऩे वाला रेल नेटवर्क देश के आर्थिक विकास में काफी बड़ा योगदान करता है। कोविड के चलते यह सब प्रभावित हुआ है।
Dec 25 2020 (01:57) आधुनिक पटरियों पर सुरक्षित और तेज होगा सफर (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
9563 views

News Entry# 429957  Blog Entry# 4822835   
  Past Edits
Dec 25 2020 (01:57)
Station Tag: Nihalgarh/NHH added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Dec 25 2020 (01:57)
Station Tag: Sultanpur Junction/SLN added by Anupam Enosh Sarkar/401739
ट्रैक पर कम होगी रेल फ्रैक्चर की घटनाएं निहालगढ़ से सुलतानपुर तक 60 किलोमीटर के पहले चरण का कार्य पूरा हुआ। आज रात से परिचालन शुरू होने की संभावना।
सुलतानपुर : ट्रेनों का सफर सुरक्षित और तेज करने के लिए लखनऊ रेलखंड पर आधुनिक रेल पटरियां बिछाई जा रही हैं। यह काम अब अंतिम चरण में है। इन पटरियों में सर्दियों में चटकने (फ्रैक्चर) की घटनाएं कम होंगी। साथ ही ट्रैक पर ट्रेनों और मालगाड़ियों की औसत गति में भी वृद्धि होगी। पहले चरण में निहालगढ़ से सुलतानपुर जंक्शन तक 60 किलोमीटर तक की पटरियां बदली गई हैं। गुरुवार को स्टेशन के उत्तरी केबिन के निकट चल रहे इस काम का रेलवे के उच्चाधिकारियों ने निरीक्षण किया। उम्मीद है कि देर रात
...
more...
से इस ट्रैक पर मालगाड़ियों का परिचालन शुरू हो जाएगा।
इस रेलखंड पर अब तक 25 साल पुरानी 52 आर की पटरियां थीं। बढ़ते यातायात और सामान्य दिनों में ट्रैक से 24 घंटे में तकरीबन 72 ट्रेनों और इतनी ही मालगाड़ियों की आवाजाही के चलते पटरियों के लिए यह दबाव असहनीय साबित हो रहा था। आने वाले दिनों की जरूरतों के मद्देनजर इन्हें बदला गया है। नवंबर से शुरू यह काम रिकार्ड समय में पूरा कर लिया गया है।
लगाए गए 60 आर के ट्रैक : रेलखंड पर अभी तक 52 आर की पटरियां लगी थी, जिनके स्थान पर अब 60 आर की अत्याधुनिक पटरियों को बिछाया गया है। इससे ट्रैक हाई स्पीड ट्रैक में तब्दील हो सकेगा। बेहतर वीयर व टीयर (कम घिसावट और भारी यातायात के मद्देनजर विश्वसनीय ) आधुनिक पटरियों के बिछाए जाने से रेलगाड़ियों की अधिकतम रफ्तार औसतन 130 से 140 किमी प्रतिघंटा हो सकेगी, जो कि अभी तक 100 से 110 किमी प्रतिघंटा है। अगले दो माह में निहालगढ़ से उतरेटिया तक रेलखंड को बदल दिए जाने से उम्मीद बनती है कि मार्च से इस हाई स्पीड ट्रैक पर तेज रफ्तार का सफर शुरू हो सकेगा। सहायक मंडल अभियंता रेलपथ मंगल यादव ने बताया कि ट्रैक को आधुनिक करने के लिए विभाग के सैकड़ों कर्मियों और मजदूरों ने दिनरात मेहनत कर पटरियों को बदला है। गुरुवार देर रात इस रेलखंड पर मालगाड़ियों का संचालन शुरू होने की उम्मीद है।
Dec 10 2020 (01:41) हादसे का शिकार होते-होते बची राजधानी एक्सप्रेस (www.amarujala.com)
Other News
NR/Northern
0 Followers
3842 views

News Entry# 427852  Blog Entry# 4808249   
  Past Edits
Dec 10 2020 (01:41)
Station Tag: Nihalgarh/NHH added by Anupam Enosh Sarkar/401739
Stations:  Nihalgarh/NHH  
जगदीशपुर (अमेठी)। वाराणसी-लखनऊ रेल मार्ग पर स्थित निहालगढ़ रेलवे स्टेशन के समीप बुधवार को रेलवे क्रॉसिंग पार करते समय टायर फटने से ट्रक रेल ट्रैक के बीचोंबीच खड़ा हो गया। इसी दौरान राजधानी एक्सप्रेस के गुजरने का संकेत मिला। क्रॉसिंग का फाटक बंद करने पहुंचे गेटमैन ने ट्रैक पर ट्रक फंसा देखते मामले की सूचना तत्काल स्टेशन मास्टर को दी। इस पर स्टेशन मास्टर ने ट्रेन को आउटर पर रोकते हुए आरपीएफ कर्मियों को सूचना दी। मौके पर पहुंचे आरपीएफ कर्मियों ने क्रेन की मदद से ट्रक को निकलवाकर ट्रैक बहाल कराया। लखनऊ-वाराणसी रेल ट्रैक पर बुधवार सुबह राजधानी एक्सप्रेस निहालगढ़ रेलवे स्टेशन के समीप दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बच गई। सुबह पांच बजकर पांच मिनट पर मोरंग लादकर अयोध्या जा रही ट्रक का टायर फटने से ट्रैक के बीचोंबीच ट्रक फंस गया। इसी बीच आसाम के डिबरूगढ़ से दिल्ली जा रही राजधानी एक्सप्रेस के नॉन स्टॉप गुजरने का संकेत मिला।
गेटमैन
...
more...
क्रॉसिंग बंद करने निकला तो देखा कि ट्रैक के बीच में एक ट्रक फंसा पड़ा है। आननफानन में गेटमैन ने मामले की सूचना स्टेशन मास्टर बीएल मीना को दी। सूचना पर स्टेशन मास्टर ने कंट्रोल को सूचित करते हुए राजधानी एक्सप्रेस को आउटर पर रोक दिया। ट्रेन रुकने के बाद सक्रिय आरपीएफ कर्मियों ने क्रेन की मदद से ट्रक को ट्रैक से बाहर निकलवाकर रेल यातायात बहाल करवाया। इस दौरान जहां ट्रैक करीब आधा घंटे बाधित रहा वहीं राजधानी एक्सप्रेस 22 मिनट बाद रवाना हो सकी।ट्रक को बाहर निकालने के बाद आरपीएफ ने ट्रक व चालक को कब्जे में लेकर केस दर्ज किया है। ट्रक को ट्रैक से बाहर निकालकर अयोध्या मार्ग पर खड़े होने से पूरे दिन जाम की स्थिति बनी रही। स्टेशन मास्टर बीएल मीना ने रेल ट्रैक पर ट्रक फंसने की वजह से राजधानी एक्सप्रेस को आउटर पर रोकने तथा आरपीएफ एसओ निहालगढ़ शत्रुघ्न सिंह ने ट्रक चालक संतोष को हिरासत में लेकर केस दर्ज करने की पुष्टि की है।
Sep 07 2019 (22:43) 550 करोड़ से होगा अमेठी में रेल विकास: स्मृति (tarunmitra.in)
0 Followers
8971 views

News Entry# 390477  Blog Entry# 4421215   
  Past Edits
Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: Unchahar Junction/UCR added by siddharthrma~/720659

Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: Jais/JAIS added by siddharthrma~/720659

Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: GauriGanj/GNG added by siddharthrma~/720659

Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: Nihalgarh/NHH added by siddharthrma~/720659

Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: Rae Bareli Junction/RBL added by siddharthrma~/720659

Sep 07 2019 (22:43)
Station Tag: Amethi/AME added by siddharthrma~/720659
550 करोड़ के निवेश से अमेठी और इसके आसपास के क्षेत्रों में रेलवे का विकास होगा ताकि क्षेत्रीय लोगों को अधिक से अधिक रेल सुविधायें मिल सकें। आगामी अक्टूबर माह में कोशिश रहेगी कि केंद्रीय रेल मंत्री या फिर रेल राज्य मंत्री का एक अहम दौरा अमेठी के लिए बने जिस दौरान वहां पर पूर्ण हुई रेल परियोजनाओं का शुभारंभ किया जायेगा। ये बातें शनिवार को केंद्रीय मंत्री व अमेठी की सांसद स्मृति ईरानी ने राजधानी लखनऊ में कहीं। अपने राजधानी दौरे के तहत केंद्रीय मंत्री पहले राजभवन गर्इं और दोपहर 12 बजे के करीब हजरतगंज स्थित उत्तर रेलवे डीआरएम आफिस पहुंची। वहां पर उन्होंने डीआरएम संजय कुमार त्रिपाठी से अमेठी में चल रहे या फिर रुके पडे रेल प्रोजेक्ट को लेकर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने बताया कि आगामी 11 सितंबर को वो डीआरएम उत्तर रेलवे की टीम के साथ अमेठी और आसपास चल रहे रेलवे के कार्यों का निरीक्षण...
more...
करेंगी। तत्पश्चात वो डीआरएम आफिस से अपने गंतव्य के लिए रवाना हो गर्इं।
इसी क्रम में डीआरएम ने कहा कि यह बहुत अच्छी पहल है कि इस समय के सांसद रेलवे से जुड़ी अपनी संसदीय क्षेत्र की समस्याओं को लेकर इतने जागरुक हैं। केंद्रीय मंत्री ईरानी से हुई वार्ता के प्रमुख बिंदुओं को रेखांकित करते हुए डीआरएम ने बताया कि उक्त फंड के निवेश से अमेठी सहित बनी, निहालगढ़, जायस और गौरीगंज में रेल विकास को अंजाम दिया जायेगा। 60 किमी के रायबरेली-अमेठी के टैक दोहरीकरण कार्य को पूरा किया जायेगा। डीआरएम ने यह भी बताया कि ऊंचाहार लाइन पर निर्माण कार्य को लेकर जमीन अधिग्रहण संबंधी जो अड़चने आ रही हैं, उसे भी केंद्रीय मंत्री ने हर स्तर से निस्तारित करने का आश्वासन दिया है। डीआरएम के अनुसार पहले फेज में अमेठी-गौरीगंज के बीच 13.37 किमी रेल टैक कार्य दिसंबर 2019 तक, दूसरे में गौरीगंज-जायस के मध्य 17.99 किमी का कार्य मार्च 2020 तक व तीसरे फेज में जायस-रायबरेली के बीच 28.74 किमी टैक का कार्य सितंबर 2020 तक पूर्ण करा लिया जायेगा। इस दौरान उत्तर रेलवे के सीनियर डीसीएम जगतोष शुक्ल व सीनियर डीओएम अजीत कुमार सिन्हा सहित मंडल रेल प्रशासन के अधिकारी व कर्मी मौजूद रहें।
Page#    Showing 1 to 15 of 15 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy