Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

The sweetest sounds in the universe - "chai chai"

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sun Sep 19 08:21:00 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Post PNRAdvanced Search

MXA/Marauda (1 PFs)
     मरौदा

Track: Single Electric-Line

Show ALL Trains
Marauda RLY Station, Utai Rd, Bhilai, Durg (C.G.)
State: Chhattisgarh


Zone: SECR/South East Central   Division: Raipur

No Recent News for MXA/Marauda
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 1
Number of Halting Trains: 12
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
Rating: NaN/5 (0 votes)
cleanliness - n/a (0)
porters/escalators - n/a (0)
food - n/a (0)
transportation - n/a (0)
lodging - n/a (0)
railfanning - n/a (0)
sightseeing - n/a (0)
safety - n/a (0)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 16 of 16 News Items  
Jun 08 (07:47) रायपुर रेल मंडल में अंतर्राष्‍ट्रीय समपार फाटक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है (mediapassion.co.in)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
24084 views

News Entry# 455339  Blog Entry# 4979835   
  Past Edits
Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Maroda/MRDA removed by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Kumhari/KMI added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Tilda Neora/TLD added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Bhatapara/BYT added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Marauda/MXA added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Maroda/MRDA added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Durg Junction/DURG added by Adittyaa Sharma/1421836

Jun 08 2021 (07:47)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Adittyaa Sharma/1421836
रायपुर : दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के संरक्षा विभाग के द्वारा दिनांक 04.06.21से 10.06.21 तक अंतर्राष्‍ट्रीय समपार फाटक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है , जिसके तहत मुख्य संरक्षा अधिकारी/ दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे/ बिलासपुर , अपर मंडल रेल प्रबंधक/ परिचालन/रायपुर, वरि. मंडल संरक्षा अधिकारी/रायपुर , सहायक मंडल संरक्षा अधिकारी/रायपुर , संरक्षा सलाहकाराेें एवं सिविल डिफेंस वोलैंटियर के द्वारा विभिन्‍न समपार फाटकों जैसे दुर्ग यार्ड पूर्व, मरौदा यार्ड , भाटापारा यार्ड पश्चिम, कचना गेट, कुम्हारी यार्ड पश्चिम, कैवल्यधाम गेट, टेकारी गेट, सरस्वती नगर गेट, रावण मैदान गेट, तिल्दा यार्ड, खमतराई गेट एवं कुछ अन्य फाटको में जाकर लोगों को पंपलेट वितरण करके समपार फाटक को सही तरीके से पार करने एवं इससे संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान किया गया साथ में लोगों की काउंसिलिंग भी की गई इस अवसर पर रायपुर मंडल के विभिन्न स्टेशनों में ऑडियो रिकॉर्डिंग के माध्यम से लोगों को जागरूक किया...
more...
जा रहा है एवं समपार फाटक पार करते समय बरती जाने वाली महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की जा रही है ।
छत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर जारी है। हालात यह है कि अस्पतालों में मरीज दाखिल करने के लिए बेड नहीं हैं। कोरोना मरीज बिस्तरों के इंतजार में अस्पतालों के सामने सड़क पर, वाहनों में लेटे हुए हैं। बेड नहीं मिलने से कहीं-कहीं मरीज सड़क पर ही दम तोड़ रहे हैं। ऐसे में आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि प्रदेश में कोरोना मरीजों के लिए बनाए गए करीब 900 बेड खाली पड़े हुए हैं। इनमें से 400 बेड दुर्ग जिले में हैं। इनमें आज तक एक मरीज भी भर्ती नहीं किया गया। रेलवे विभाग का कहना है कि इनको संचालित करने के लिए पैरामेडिकल स्टाफ और डाॅक्टरों की जरूरत होगी। वो न तो हमारे पास और न ही जिला प्रशासन के पास हैं।
छत्तीसगढ़
...
more...
के दुर्ग जिले के मरोदा रेलवे यार्ड में पिछले करीब 11 महीनों से आइसोलेशन ट्रेन के डिब्बे खड़े-खड़े कबाड़ हो रहे हैं। रायपुर और बिलासपुर डिवीजन के अंतर्गत 105 डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड में बदला गया था, जिसमें मरोदा यार्ड में 50 डिब्बों में 400 बेड बनाए गये थे। इनको बनाने में तकरीबन दो लाख रुपए प्रति कोच खर्च किए गए थे, लेकिन अब तक इनमें एक भी कोरोना मरीज एडमिट नहीं किया गया है। दरअसल 400 बिस्तर तो हैं, लेकिन न तो डाक्टर हैं न पैरामेडिकल स्टाफ। ऐसे और कोच बिलासपुर में भी खड़े हैं। इसके अलावा 56 कोच बिलासपुर, उमरिया व कलमीटार में खड़े हैं। रेलवे राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का इंतजार कर रही है पर सरकार ने इसका उपयोग करने आदेश ही जारी नहीं किया है।
कोरोना काल में पिछले साल संक्रमण की लहर के चलते रेलवे प्रशासन ने ट्रेन के डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड बनाया था। इसके बाद से इन डिब्बों को कभी खोला नहीं गया। डिब्बों की खिड़कियों में लगे प्लास्टिक फटने लगे हैं। महीनों से खड़े इन डिब्बों को देखने से यही लगता है कि आइसोलेशन डिब्बे तैयार करके रेलवे प्रशासन उन्हें भूल गया हैं।
ऐसे हैं आइसोलेशन वार्डरेलवे ने ऐसे हर कोच में आठ बेड की व्यवस्था की थी, जो जरूरत पड़ने पर 16 बेडों में बदले जा सकते हैं। ये दरअसल द्वितीय श्रेणी के कोच हैं, जिनमें सेंट्रली काम करने वाले एयर कंडिशन (एसी) नहीं लगे होते हैं। इनकी खिड़कियां खोली जा सकती हैं। पर्दे लगाकर बेड का क्यूबिकल बनाया गया है। ताकि किसी मरीज के कारण दूसरे को और दूसरों के कारण उस मरीज में संक्रमण न फैले।
डिब्बों का हो सकता कोरोना मरीजों के लिए इस्तेमाल
छत्तीसगढ़ में कोरोनावयरस की दूसरी लहर ने कोहराम मचा कर रखा है। कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है और लोगों को अस्पतालों में बेड नहीं मिल पा रहे हैं। कई अस्पतालों में मरीजों को स्ट्रेचर नहीं मिल रहा तो कहीं उनका जमीन पर ही उनका इलाज किया जा रहा है। इस समय रेलवे के आइसोलेशन डिब्बों का इस्तेमाल राज्य सरकार कर सकती है। रायपुर के बाद सबसे ज्यादा कोरोना को लेकर हालात दुर्ग जिले में खराब है। इन डिब्बों को कोरोना मरीजों के इलाज करने के काम में लाया जा सकता है।
रेलवे और जिला प्रशासन का क्या है कहना
आइसोलेशन डिब्बों को लेकर रायपुर रेलवे मंडल के PRO शिव प्रसाद ने बताया कि हमारे सारे डिब्बे दुर्ग के मरोदा यार्ड में खड़े हैं, जिसमें सारी सुविधाएं हैं, जो कोरोना मरीज को दी जा सकती है। लेकिन इनको संचालित करने के लिए पैरामेडिकल स्टाफ और डाॅक्टरों की जरूरत होगी। वो न तो हमारे पास और न ही जिला प्रशासन के पास हैं। इस कारण फिलहाल सभी डिब्बे यार्ड में खड़े किए गए हैं।
दुर्ग कलेक्टर ने कहा
दुर्ग कलेक्टर डॉक्टर सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे ने बताया कि यह रेलवे की प्रॉपर्टी है। हमने अपनी तरफ से स्वास्थ्य सचिव को जानकारी दे दी है। रेलवे के पास आइसोलेशन के डिब्बे खाली हैं। अभी तक हमें कुछ भी निर्देश शासन की तरफ से नहीं मिले हैं। फिलहाल हमारे पास अस्पतालों में पर्याप्त बेड हैं और अभी 60 ऑक्सीजन बेड खाली हैं। 300 और बेड तैयार किए जा रहे हैं। हमारे यहां ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं हैं। लेकिन ICU बेड की जरूरत है। उसकी भी व्यवस्था की जा रही है।
जिले में बेड की संख्या
जिले में 6 सरकारी अस्पतालों में 1147 बेड हैं। निजी अस्पतालों में 802 बेड़ और सामाजिक संस्थाओं के द्धारा तैयार किए गये 171 बेड हैं जिसमें ICU के 327 बेड हैं। वहीं वेंटिलेटर बेड की संख्या 106 है।
Mar 12 (04:59) मरौदा-बालोद लाइन पर भी ट्रेनों की रफ्तार होगी तेज (www.naidunia.com)
IR Affairs
SECR/South East Central
0 Followers
13217 views

News Entry# 444133  Blog Entry# 4904614   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Stations:  Balod/BXA   Marauda/MXA  
भिलाई। रावघाट रेल परियोजना भिलाई इस्पात संयंत्र के लिए जितना महत्वपूर्ण है उतना ही आम लोगों के आवागमन की सुविधा के लिहाज से भी अहम है। भविष्य में इसी रेल मार्ग से दुर्ग-जगदलपुर से जुड़ जाएगा। परियोजना के तहत फिलहाल रावघाट क्षेत्र में रेल लाइन बिछाने का काम जारी है।
वहीं मरौदा से लेकर दल्ली राजहरा तक रेल लाइन के सुदृढ़ीकरण का काम चल रहा है। 63 साल पुरानी इस रेल लाइन का विद्युतीकरण भी किया जा रहा है। मरौदा से बालोद तक यह काम पूरा हो गया है। इस पर विद्युत रेल इंजन दौड़ाकर ट्रायल भी कर लिया गया। गुरुवार को रेलवे के संरक्षा आयुक्त ने इसकी जांच की। बताया जा रहा है कि इस मार्ग पर भी यात्री ट्रेन
...
more...
100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ाने की तैयारी है।
भिलाई इस्पात संयंत्र को रावघाट से बड़ी उम्मीद है। दल्ली राजहरा के बाद रावघाट माइंस से ही उच्च गुणवत्ता वाला लौह अयस्क का खनन होना है। यहीं से रेल मार्ग के द्वारा भिलाई इस्पात संयंत्र को आयरन ओर की सप्लाई होगी। इसके लिए दल्ली राजहरा से लेकर रावघाट तक कुल 75 किलोमीटर रेल लाइन निर्माण के परियोजना पर काम चल रहा है।
वर्तमान में दल्ली राजहरा से 42 किलोमीटर दूर केंवटी तक रेल लाइन बिछने के अलावा यात्री ट्रेन का आवागमन भी शुरू कर दिया गया है। वहीं 53 किलोमीटर लाइन बिछाने का काम प्रगति पर है।
-जांच के बाद परिचालन
इधर दल्ली राजहरा तक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल द्वारा अधोसंरचना विकास से जुड़े कई कार्य वर्तमान में किए जा रहे हैं। जिससे भविष्य की अपेक्षाओं को पूरा किया जा सके। इसी के तहत मरौदा से बालोद रेलवे स्टेशन तक 61.2 ट्रैक किलोमीटर रेल लाइन का विद्युतीकरण का काम पूरा हो गया है।
रेल लाइन का विद्युतीकरण होने के बाद आयुक्त रेलवे संरक्षा द्वारा निरीक्षण किया जाता है एवं उनकी अनुमति के बाद ही रेल लाइनों पर ट्रेनों का विद्युतीकरण के माध्यम से परिचालन किया जाता है।
-हर पहलुओं को देखा
रेलवे के संरक्षा आयुक्त दक्षिण पूर्व सर्कल एएम चौधरी द्वारा सफलतापूर्वक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने विद्युतीकरण माध्यम से ट्रेनों के परिचालन संबंधित पहलुओं का गहन निरीक्षण किया। अधिकारियों के साथ चर्चा कर आवश्यक जानकारी ली। आयुक्त चौधरी ने 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से विद्युत रेल इंजन वाले ट्रेन को दौड़कर स्पीड ट्रायल लिया।
यह होगा फायदा
मरौदा-बालोद के मध्य विद्युतीकरण हो जाने से यहां के यात्रियों को शीघ्र ही विद्युत रेल इंजन वाले ट्रेन की सुविधा मिल सकेगी। वर्तमान में इस लाइन पर डीजल इंजन वाले ट्रेन संचालित हैं। विद्युत रेल इंजन से पर्यावरण संरक्षण को बढावा मिलेगा एवं प्रदूषण में कमी आएगी। यह रायपुर रेल मंडल की महत्वपूर्ण उपलब्धि है। मरौदा-बालोद स्टेशन दुर्ग-दल्लीराजहरा सेक्शन का महत्वपूर्ण स्टेशन है।
आज निरीक्षण के दौरान संरक्षा आयुक्त के साथ मंडल रेल प्रबंधक रायपुर श्याम सुंदर गुप्ता सहित रायपुर रेल मंडल के वरिष्ठ अधिकारी, बिलासपुर मुख्यालय के प्रधान मुख्य विधुत इंजीनियर एवं अन्य रेल उपक्रमो के संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।
Jan 02 (08:21) सफर होगा आसान:विद्युतीकरण का काम बालोद तक हुआ पूरा, 110 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से बिजली से चलेगी ट्रेन (www.bhaskar.com)
Commentary/Human Interest
SECR/South East Central
0 Followers
20145 views

News Entry# 431382  Blog Entry# 4831243   
  Past Edits
Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Marauda/MXA added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Raipur Junction/R added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Antagarh/ANTGR added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Kusumkasa/KYS added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Dallirajhara/DRZ added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Jan 02 2021 (08:22)
Station Tag: Balod/BXA added by Anupam Enosh Sarkar/401739
रेलवे की ओर से विद्युतीकरण काम जारी है। बालोद तक पोल व तार लगाने का काम पूरा हो चुका है। तीन माह में दल्लीराजहरा तक काम पूरा कराने का लक्ष्य है। कुसुमकसा से आगे पोल लगाने का काम शुरू हो गया है। इस साल डीजल के बजाय बिजली इंजन से अंतागढ़ से रायपुर तक 110 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रेन चलाने की तैयारी है। इसका फायदा ट्रेन में सफर करने वाले बालोद, दुर्ग, रायपुर, कांकेर कुल चार जिले के यात्रियों को मिलेगा। अफसरों के अनुसार विद्युतीकरण कार्य पूरा होते ही डीजल की जगह बिजली इंजन से ट्रेन रायपुर से अंतागढ़ तक दौड़ेगी। डीजल इंजन में 80 से 90 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रेन चलती आ रही है। अभी कुसुमकसा के आगे कार्य चल रहा है। 1.16 अरब रुपए की लागत से कई काम होना प्रस्तावित है।
मार्च
...
more...
में दल्लीराजहरा तक काम पूरा होने की संभावना
रेल विद्युतीकरण कार्य की मॉनिटरिंग कर रहे जूनियर इंजीनियर जी. कृष्णा ने बताया कि मरोदा से बालोद तक बिजली पोल और तार लगाने का काम पूरा हो चुका है। मार्च के अंत तक दल्लीराजहरा तक काम पूरा होने की संभावना है। राजहरा से भिलाई तक सबसे ज्यादा ट्रैफिक होती है। माइंस की लगातार गाड़ियां चलती है। इसलिए दल्लीराजहरा तक विद्युतीकरण का काम पूरा हो। इस पर फोकस है।
बालोद-दल्ली रेललाइन में विद्युतीकरण के लिए पोल लगाने व तार जोड़ने का काम चल रहा है। इसके बाद इस रूट पर ट्रेन की रफ्तार बढ़ेगी।
डीजल के बजाय बिजली इंजन से अंतागढ़ से रायपुर तक 110 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रेन चलेगी। इसका फायदा ट्रेन में सफर करने वाले बालोद, दुर्ग, रायपुर, कांकेर जिले के लोगों को होगा। इसके लिए 1.16 अरब रुपए की लागत से विद्युतीकरण होगा। मरोदा से बालोद-दल्लीराजहरा तक विद्युतीकरण के लिए पोल लगाने व तार जोड़ने का काम चल रहा है।
चीफ स्टेशन मास्टर का अनुमान है कि
...
more...
एक साल में यह काम पूरा हो जाएगा। रेलवे के अफसरों का कहना है कि फिलहाल रेलवे ने कम यात्रियों के कारण ट्रेन नहीं चलाने का निर्णय लिया है। लेकिन जल्द ही हालात बेहतर होते ही ट्रेन चलाने का निर्णय लिया जाएगा। विभागीय रिकॉर्ड में ट्रेनों की रफ्तार अभी 60 से 70 किमी प्रतिघंटा है। रेलवे बोर्ड ने स्पीड बढ़ाने के निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत विद्युतीकरण कार्य हो रहा है।
लोकल ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की योजना: लोकल ट्रेनों में रोज हजारों यात्री सफर करते हैं। इसलिए रेलवे प्रशासन ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने का प्लान तैयार किया है। इसके तहत विद्युतीकरण का काम पूरा होने के बाद ट्रेनें 110 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से दौड़ेगी। फिलहाल रायपुर से केंवटी तक डीजल इंजन वाली ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है, क्योंकि मरोदा से केंवटी तक विद्युतीकरण का काम नहीं हुआ है। बिजली इंजन नहीं चलने से रेलवे को राजस्व का नुकसान हो रहा है इसलिए विद्युतीकरण जारी है।
पहले चरण में मरोदा से दल्ली तक का काम होगा
रेलवे विभाग के अनुसार प्रथम चरण में मरोदा से दल्लीराजहरा तक विद्युतीकरण किया जाएगा। फिर आगे के स्टेशनों तक विद्युतीकरण किया जाएगा। वर्तमान में रायपुर से केंवटी तक 166 किलोमीटर तक ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है। अंतागढ़ तक ट्रेक बिछ चुकी है। जिसका विस्तार हालात अनुसार जल्द होगा।
इस रूट पर फिलहाल डीजल से चल रही है ट्रेनें
कोरोनाकाल के पहले तक केंवटी से रायपुर तक एक ट्रेन रोजाना एक बार आना-जाना कर रही थी। इसके अलावा केंवटी से दुर्ग फिर दल्लीराजहरा तक रात तक 6 फेरा लगा रही थी। फिलहाल विभागीय रिकॉर्ड में सभी ट्रेनें डीजल इंजन से चल रही हैं। विद्युतीकरण के बाद यात्रियों का समय भी बचेगा।
विद्युतीकरण होने से इंजन को नहीं बदलना पड़ेगा
चीफ स्टेशन मास्टर पीके वर्मा ने बताया कि डीजल इंजन के चलने से प्रदूषण होता है। वहीं गाड़ियों की गति भी कम होती है। दरअसल इस रूट पर जाने के लिए ट्रेनों का इंजन कई बार बदलना पड़ता है। विद्युतीकरण होने से इंजन नहीं बदलना पड़ेगा, बिजली इंजन लगने से ट्रेनों की गति बढ़ जाएगी।
दुर्ग से रायपुर महज 28 मिनट में पहुंचाएगी ट्रेन
कार्य पूरा होने के बाद दुर्ग से रायपुर का सफर महज 28 मिनट तक पूरा होने का अनुमान है। अभी इसे पूरा करने में 55 मिनट लगते हैं। बालोद से सफर करने वाले यात्री भी 15-20 मिनट पहले ही दुर्ग, भिलाई, रायपुर, दल्लीराजहरा पहुंचेंगे। दुर्ग, मरोदा, गुडंरदेही, लाटाबोड़, बालोद, दल्लीराजहरा, भिलाई-3, चरोदा, कुम्हारी से रायपुर तक लोकल ट्रेनें से यात्री आना-जाना करते हैं।
स्पीड बढ़ाने की शुरुआत बालोद-दुर्ग रूट पर पहले
लोकल ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की शुरुआत दुर्ग से दल्लीराजहरा रूट से होगी। मेमू रायपुर से 6 फेरे ले रही है। रायपुर से सुबह 9.15 बजे छूटती है। दुर्ग, मरोदा, गुुंडरदेही, बालोद, कुसुमकसा, होते हुए दोपहर 12.50 बजे भानुप्रतापपुर पहुंचती है। मेमू 158 किलोमीटर दूरी तय करने में 3.35 घंटे ले रही है। स्पीड बढ़ने से करीब एक घंटे का समय कम लगेगा।
सीएसएम ने कहा- एक साल में काम पूरा होगा
चीफ स्टेशन मास्टर पीके वर्मा ने बताया कि 110 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से डीजल के बजाय बिजली से ट्रेन चलाने की योजना बनी है। इसके तहत बालोद में विद्युतीकरण कार्य जारी है। उन्होंने कहा कि एक साल में यह काम पूरा होने का अनुमान लगा रहे हैं। डीजल से प्रदूषण होता है, जो नहीं होगा। फिलहाल केंवटी से रायपुर तक ट्रेन नहीं चल रही है।
Copyright © 2020-21 DB Corp ltd., All Rights Reserved
Page#    Showing 1 to 16 of 16 News Items  

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy