Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

For RailFans, Platform Announcements are more musical than Bollywood songs. - Prince Maan

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Jan 29 03:35:31 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Post PNRAdvanced Search
no description available
Entry# 2346356-0

GWO/Gwalior NG (2 PFs)
     ग्वालियर एनजी

Track: Narrow Gauge

Show ALL Trains
Racecourse Rd, Gwalior
State: Madhya Pradesh

Elevation: 213 m above sea level
Zone: NCR/North Central   Division: Virangana Lakshmibai

No Recent News for GWO/Gwalior NG
Nearby Stations in the News
Type of Station: Regular
Number of Platforms: 2
Number of Halting Trains: 0
Number of Originating Trains: 0
Number of Terminating Trains: 0
0 Follows
Rating: 1.2/5 (8 votes)
cleanliness - poor (1)
porters/escalators - poor (1)
food - poor (1)
transportation - poor (1)
lodging - poor (1)
railfanning - poor (1)
sightseeing - poor (1)
safety - poor (1)
Show ALL Trains

Station News

Page#    Showing 1 to 20 of 31 News Items  next>>
ग्वालियर-श्योपुर ब्रॉडगेज रेल प्रोजेक्ट के लिए रेलवे बोर्ड ने 150 करोड़ का बजट और जारी कर दिया है। इस प्रकार अब 25+150=175 करोड़ रुपए के फंड से बानमोर से सबलगढ़ के बीच बड़ी रेल लाइन के लिए मिट्‌टी का ट्रैक तैयार करने व बड़े-छोटे पुल बनाने का काम शुरू कराया जा सकेगा। इस परियोजना पर काम कर रहीं पुणे व झांसी की कंपनियों को उम्मीद है कि इस साल और भी बजट मिल सकेगा।
175 करोड़ रुपए की फंडिंग से रेलवे अब जमीन अधिग्रहण के बदले प्रशासन को मुआवजा के लिए भी पैसा जमा कराएगी। प्रशासन ने 100 करोड़ का बजट मुआवजा के लिए रेलवे से मांगा है लेकिन अफसरों का कहना है कि फिलहाल जितना पैसा देना संभव होगा उतना राजस्व
...
more...
विभाग को दिया जाएगा। शेष राशि से मिट्‌टी का ट्रैक तैयार कराने का काम तेज कराया जाएगा। चूंकि रायरू से लेकर सबलगढ़ तक बड़ी रेल लाइन बिछाने का ठेका पुणे की आईएससी कंपनी व झांसी की घनाराम इंजीनियरिंग को दिया गया है इसलिए दोनों ठेकेदारों से अर्थवर्क शुरू कराने के लिए कहा गया है।
किस कंपनी को क्या काम करना है
पुणे की आईएससी निर्माण एजेंसी को बानमोर से सबलगढ़ तक 80 किमी लंबाई में नैरोगेज ट्रैक हटाने, उसके स्थान पर बड़ी लाइन का अर्थट्रैक तैयार करने व सुमावली से सबलगढ़ तक 55 किमी लंबाई में 106 छोटी पुलिया बनाने का काम करने के लिए 244 करोड़ रुपए के टेंडर पर कार्यादेश दिया गया है। यह कंपनी ग्वालियर से सबलगढ़ के बीच 10 बड़े पुलों का निर्माण भी कराएगी। इसके लिए 180 करोड़ के टेंडर पर काम कराया जाएगा। जिसमें बानमोर के पास बड़े पुल का निर्माण कार्य शुरू कराने की प्रक्रिया को तेज किया जाएगा। झांसी की घनाराम इंजीनियरिंग कंपनी रायरू से सुमावली तक बड़ी रेल लाइन के लिए अर्थट्रैक तैयार करने का काम कर रही है। इस रूट पर नैराेगेज ट्रेक से 4 से 6 मीटर की दूरी पर नया ट्रैक बिछाया जाएगा। इसलिए घनाराम कंपनी अर्थट्रैक तैयार करने के काम को अब गति प्रदान करेगी क्योंकि भुगतान के लिए अब बजट संकट जैसी स्थिति नहीं रहेगी।
रेलवे ने अब तक नहीं दी ट्रैक हटाने की अनुमति
ब्रॉडगेज रेल प्रोजेक्ट पर काम कर रहे अफसरों से लेकर रेलवे के ठेकेदारों का कहना है कि बजट बढ़ाकर 175 करोड़ कर दिया लेकिन काम करने के लिए सबसे पहले नैरोगेज रेल ट्रैक हटाने की जरूरत है। मध्यप्रदेश शासन की अनापत्ति के 10 महीने बाद भी रेलवे बोर्ड ने बानमोर से सबलगढ़ तक नैरोेगेज ट्रैक डिसमेंटलिंग की अनुमति अब तक जारी नहीं की है। जब तक पुरानी रेल लाइन हटाई नहीं जाएगी तब तक ठेकेदार उस एलाइनमेंट पर नया काम शुरू नहीं हो सकेगा क्योंकि नैरोगेज रेल लाइन की जगह ही बड़ी रेल लाइन बिछाई जाएगी। पुणे की निर्माण एजेंसी का कहना है कि नैराेगेज ट्रैक हटाने की अनुमति मिलने के 3 दिन बाद उनकी कंपनी छोटी रेल लाइन को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर देगी।
ब्रॉडगेज रेल लाइन होने से आएंगे उद्योग, बढ़ेगा राेजगार
ग्वालियर से श्योपुर के बीच बड़ी रेल लाइन तैयार होने के बाद उद्योगपति अपनी इंडस्ट्री लगाने के लिए मुरैना आने का मन बनाएंगे। 2004 में नागपुर की कंपनी कैलारस के कुटरावली में सीमेंट फैक्टरी लगाने का एमओयू साइन कर गई लेकिन ट्रांसपोर्टेशन की बेहतर सुविधा न होने के कारण कंपनी ने सीमेंट उद्याेग नहीं लगाया। मुम्बई महाराष्ट्र की पारले एग्रो कंपनी बानमोर क्षेत्र में पेयपदार्थ का बड़ा प्लांट स्थापित करना चाहती है। ग्वालियर से श्योपुर ब्रॉडगेज ट्रैक का काम शुरू होने की दशा में यह कंपनी 350 करो़ड़ की देश की सबसे बड़ी सॉफ्ट ड्रिंक यूनिट मुरैना जिले में शुरू करने का मन बनाएगी। नए उद्योग आने से स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर मिल सकेंगे।
यहां बनेंगे बड़े 10 पुल
बानमोर में सांक नदी पर
सुमावली से पहले पतियार नदी पर
सुमावली से जौरा के बीच आसन नदी पर
जौरा स्टेशन से पहले मुरैना ब्रांच कैनाल पर
जौरा में प्रवेश से पहले रेलवे क्रासिंग पर
जौरा से सिकरौदा के बीच सोन नदी पर
कैलारस में प्रवेश से पहले 5 एल नहर पर
कैलारस-सेमई के बीच नेंपरी में क्वारी नदी पर
सबलगढ़ स्टेशन से पहले बड़ी नहर पर
सबलगढ़ स्टेशन के बाद खार नाला पर।
Feb 11 2021 (23:14) The mystery of the derelict locomotive in Indira Gandhi Park (bengaluru.citizenmatters.in)
Commentary/Human Interest
SWR/South Western
1 Followers
41888 views

News Entry# 438511  Blog Entry# 4874261   
  Past Edits
Feb 11 2021 (23:14)
Station Tag: KSR Bengaluru City Junction (Bangalore)/SBC added by YellowRed Double Decker Livery looks like KA Flag/48335

Feb 11 2021 (23:14)
Station Tag: Gwalior NG/GWO added by YellowRed Double Decker Livery looks like KA Flag/48335

Feb 11 2021 (23:14)
Station Tag: Sheopur Kalan/SOE added by YellowRed Double Decker Livery looks like KA Flag/48335
For long, I was intrigued by this derelict locomotive lying in the Indira Gandhi Musical Fountain Park opposite the Jawahar Lal Nehru Planetarium. I would have a fleeting glance of it while passing the gate. I had once seen it from up close and did not see any markings on it. Truly, it was a mystery locomotive.
A few years back I went to the park to do a detailed documentation of the locomotive. The more I looked at it, the prettier it seemed.
The first thing that one usually does when
...
more...
confronted with locomotives that don’t bear any markings, is to measure the gauge. My heart leapt when I discovered that the gauge of the tracks for this locomotive was 2 feet.
Gauging its past
India had two gauges for narrow gauge: 2 feet 6 inches and 2 feet. By a large measure, the 2 feet 6 inch gauge track mileage exceeded the 2 feet narrow gauge.
While there were several 2 feet narrow gauge lines in the pre-independence era, most were dismantled, excluding three, namely, the Darjeeling Himalayan Railway, the Matheran Light Railway and the Gwalior Light Railway.
I am familiar with the locomotives of the Matheran and Darjeeling Railways, both of which involve steep inclines and tight curves. Their locomotives are short and stubby; clearly, this locomotive did not belong to both those hill railways. I, therefore, narrowed down my search for the identity of this locomotive, to the Gwalior Light Railway.
The deductive method
The next step in identifying a locomotive is to look at the wheel arrangements. Steam Locomotives have a numbering style that lists out the numbers of the wheels in each section of the locomotive. Thus, for example, a 4-6-2 locomotive has four wheels in the pilot bogie, 6 driving wheels and 2 in the trailing bogie.
Read more: Why cities like Bengaluru fail to protect heritage
The locomotive in the park has the wheel arrangement 2-8-2. In other words, it has 8 driving wheels. That gives it a long, and in my view, pretty look. The more the driving wheels, the greater its tractive effort.
Besides, this locomotive also has a long tender, with 8 wheels. A tender is the carriage usually pulled just behind the engine, to carry coal and water for the engine. The large size of the tender is necessary because of the dry areas in which the locomotive used to run; it needs fewer stops to take in water and coal.
Luckily, the net has plenty of resources on Indian locomotives. Using pictures that were available, I further narrowed down my search to the 2-8-2 locomotives that ran in Gwalior. I zeroed in, tentatively, to this locomotive manufactured by the Baldwin Locomotive Works, Philadelphia, and delivered to India at around Independence. 
However, could I be sure? I did not think so, because in the final analysis, the numbers on the locomotive must correspond with the numbers indicated by the manufacturer. Sadly, there were no numbers on the locomotive in the park.
The hidden number
Till, one day, I began to scrape away the dirt and the red oxide slapped on the locomotive, and discovered this. 812 was the number assigned to this locomotive by the Indian Railways.
I went scurrying back to the net to look at old pictures. Sadly, there were pictures of other locomotives, but none of 812.
So the mystery continued. I concluded that this locomotive could be from Baldwin; the engineering features and design style was very much like a miniature of the Baldwin meter gauge design, which I knew well, but one could never be sure.
Read more: How Bengaluru became the first Asian city to get electric street lamps 115 years ago
Around Christmas time, I chanced upon a bargain. A rare set of books, penned by one of the foremost archivists of Indian Steam Locomotives, was available on the net for an astoundingly low price. I ordered that set pronto. I had been eyeing them for 20 years, but could not get my hands on them as they were rare and super expensive.
A reference gem
Hugh Hughes’ four-volume labour of love, ‘Indian Locomotives’, is an invaluable guide for the dyed-in-the-wool Indian railway historian. The first three volumes deal with broad, meter and narrow gauge locomotives from 1851 to 1940. The latter volume is about locomotives from 1940 to 1990.
These volumes comprise very little prose; they mostly contain rare pictures and pages and pages of tables. Hughes says that the main object of these books is to list and describe all the locomotives that ran in India in that period.
As the early Indian railway companies all ran on the basis of government guarantees on assured rates of return, the Government directed these companies to give six-monthly returns, from the very inception of the railways.
Hughes delved through enough documents in the India Office archive in London, to compile his priceless tables. Given that locomotives underwent numerous changes in the numbering system as they transited from various private companies to the monolith of the Indian Railways and thence, to the various zones, this was a painstaking task.
Hughes is from New Zealand. Imagine. A New Zealander goes to the India Office in London, travels the length and breadth of India on rails, pores through mountains of post-independence Indian locomotive lists, and compiles the definitive list of Indian Locomotives.
Surprising find
I waited with bated breath for Hughes’ volumes; they arrived by post. And the mystery of our Park locomotive is solved. Locomotive no 812 is not from Baldwin Locomotive Works, Philadelphia. It is not the same loco as the one in the picture, as I had earlier, tentatively, suspected.
Locomotive no 812, is an NH/5 class locomotive. It is one of four manufactured and supplied in 1959 by Nippon Sharyo Limited, Japan.
This is a rare locomotive. A special one. I do not know how many Japanese-built locomotives survive. And it is the last of a special breed.
We must restore this locomotive to its former glory. I am already daydreaming about it.  One has the choice of recreating the livery of the Central Railway, which took over the Scindia State Railway. But I would much rather restore it in the livery of the Scindia State Railway.
We must not only write to the Horticulture Department, but we must also write to His Excellency, the Ambassador of Japan in India. I have no doubt that they will be thrilled with this discovery and that they will put us in touch with Nippon Sharyo Limited. They could contribute to its restoration. This would be similar to how the Russian Government collaborated with the Government of India and the Government of Karnataka, for protection and restoration of the legacy of the Roerichs.
Want to know more about the mystery of the park engine?Heritage Beku, a group of citizens working towards protecting the history that makes Bengaluru unique, along with Horticulture Department and South Western Railway, is organising a free, open-to-all event on February 20 at 4 pm at the Indira Gandhi Musical Fountain Park.

Rail News
40764 views
Feb 11 2021 (23:35)
Gin bypass will save time for Ktgg Ypr Exp
sachinature~   7941 blog posts
Re# 4874261-1            Tags   Past Edits
Front View of the Vintage Locomotive click here
Feb 03 2021 (08:01) श्योपुर-ग्वालियर रेल लाइन:ब्रॉडगेज लाइन के लिए रेलवे को जमीन मिली, जिले में विजयपुर से बिछेगी पटरी (www.bhaskar.com)
Commentary/Human Interest
NCR/North Central
0 Followers
37092 views

News Entry# 436650  Blog Entry# 4865128   
  Past Edits
Feb 03 2021 (08:01)
Station Tag: Vijay Pur/VJP added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Feb 03 2021 (08:01)
Station Tag: Banmor/BAO added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Feb 03 2021 (08:01)
Station Tag: Gwalior NG/GWO added by Anupam Enosh Sarkar/401739

Feb 03 2021 (08:01)
Station Tag: Sheopur Kalan/SOE added by Anupam Enosh Sarkar/401739
श्योपुर-ग्वालियर ब्रॉडगेज रेल लाइन प्रोजेक्ट के तहत निजी जमीन के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी हो गई है। अब रेलवे को यह जमीन मिल गई है। रेलवे को दो साल से यह जमीन मिलने का इंतजार था। इसके बाद रेलवे ने श्योपुर जिले में विजयपुर क्षेत्र में छह महीने बाद काम शुरू करने का फैसला कर लिया है। बता दें कि बानमोर में इस प्रोजेक्ट का काम पहले ही शुरू हो चुका है।
श्योपुर-ग्वालियर ब्रॉडगेज रेल प्रोजेक्ट को साल 2014 में मंजूरी दी गई थी। इसके बाद सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए बजट जारी कर जमीन अधिग्रहण के आदेश जारी किए लेकिन जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया अब तक अटकी रही। लगातार दो साल से रेलवे जिला प्रशासन से निजी भूमि की मांग
...
more...
कर रहा था और बैठकें भी हुईं। हर बार प्रशासन की ओर से आश्वासन दिया गया। अब 218.358 हेक्टेयर निजी जमीन में से करीब 200 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण कर रेलवे को सौंप दिया गया है।
दो साल से प्रशासन सिर्फ आश्वासन दे रहा था
दो साल से रेलवे को श्योपुर प्रशासन से जमीन आवंटन के लिए सिर्फ आश्वासन ही मिल रहे थे। इस बार जमीन कर अधिग्रहण कर लिया गया। यह काम प्रशासन के मुताबिक ही अप्रैल 2019 तक होना था, जिसे बढ़ाकर मार्च 2020 कर दिया गया। बैठक में दिसंबर 2020 तक पूरी जमीन देने का वादा भी प्रशासन ने रेलवे से किया लेकिन ऐसा हो नहीं सका। हालांकि अब रेलवे को जमीन दे दी गई है। साथ ही संबंधित जमीन मालिकों के खाते में भी प्रशासन की ओर से राशि जारी करना शुरू कर दिया गया है। रेलवे ने 40 करोड़ रुपए दिए हैं जबकि प्रशासन की 100 करोड़ रुपए की मांग थी।
गांवों की जमीन के बदले रेलवे से अभी और राशि आने का इंतजार
प्रशासन ने 38 गांवों की 218.358 हेक्टेयर जमीन के बदले रेलवे से 100 करोड़ रुपए मांगे थे लेकिन रेलवे ने सिर्फ 40 करोड़ रुपए ही दिए। अब जमीन अधिग्रहण की पूरी प्रक्रिया हो चुकी है। ऐसे में खेत मालिकों के खातों में फिलहाल राशि नहीं पहुंच पा रही है। इस पर रेलवे की ओर से जल्द ही शेष राशि भेजे जाने की बात प्रशासन से कही गई है।
बानमोर में काम शुरू, लेकिन श्योपुर में लगेगा अभी 6 माह का वक्त
रेलवे ने बानमोर के पास श्योपुर-ग्वालियर ब्रॉडगेज रेल लाइन का काम शुरू कर दिया है जो कि भू-अर्जन के फेर में बंद था। रेलवे की ओर से प्रशासन को भेजे गए पत्रों में बताया गया है कि अगला बजट मिलने के साथ ही श्योपुर जिले में भी रेलवे का विजयपुर क्षेत्र से काम शुरू कर दिया जाएगा। इसमें फिलहाल 6 माह का वक्त लग सकता है।
भू-अर्जन की प्रक्रिया पूरी, आवंटन भी कर दिया गया है
रेलवे के लिए भू-अर्जन की प्रक्रिया पूरी हो गई है। इसमें आवंटन भी कर दिया गया है। बाकी कुछ मामलों में भी इसी महीने आवंटन कर दिया जाएगा।
रूपेश उपाध्याय, प्रभारी एडीएम व एसडीएम, श्योपुर
Feb 22 2020 (22:42) ग्वालियर से जौरा के बीच नैरागेज ट्रेन होगी बंद अप्रैल से बड़ी लाइन बिछाने का काम शुरू होगा (www.google.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
74799 views

News Entry# 401678  Blog Entry# 4572293   
  Past Edits
Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Jora Alapur/JPO added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078

Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Banmor/BAO added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078

Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Rayaru/RRU added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078

Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Sabalgarh/SBL added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078

Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Gwalior NG/GWO added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078

Feb 22 2020 (22:43)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by LHB For शान ए भोपाल~/1868078
ग्वालियर-श्योपुर ब्रॉडगेज रेल लाइन बिछाने का काम रेलवे अप्रैल से शुरू कराएगी। इसके लिए बानमोर से जौरा के बीच किसानों की 90 फीसदी जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका है। बड़ी रेल लाइन बिछाने का काम छोटी रेल लाइन पर होना है इसलिए रेलवे बाेर्ड जल्द ही नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन को जौरा तक बंद करेगा।
बड़ी रेल लाइन बिछाने के पहले चरण का काम रायरू स्टेशन से लेकर जौरा के बीच किया जाएगा। रेलवे ने इस सेक्शन के लिए किसानों की जितनी जमीन की मांग की थी उसमें से 90 फीसदी जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका है। जमीन मिलने के बाद रेलवे ने ठेकेदार को बड़ी रेल लाइन बिछाने का काम शुरू करने के निर्देश दिए हैं। ठेकेदार ने अभी तक
...
more...
रायरू से बानमोर के बीच मिट्‌टी का ट्रेक तैयार करने का काम पूरा कर लिया है। इस ट्रेक पर जितनी पुलिया आवश्यक महसूस की गईं उनके निर्माण का काम भी साथ-साथ चल रहा है। ग्वालियर-श्योपुर ब्रॉडगेज लाइन प्रोजेक्ट के लिए किसानों की निजी जमीन के अधिग्रहण में तेजी लाने के मुद्दे पर चंबल कमिश्नर रेनू तिवारी ने मुरैना व श्योपुर के कलेक्टरों से कहा है कि इस काम में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं की जाएगी। मुरैना कलेक्टर प्रियंका दास का कहना है कि अप्रैल तक जमीन अधिग्रहण की कोई फाइल मुरैना, जौरा, कैलारस, सबलगढ़ के किसी राजस्व कार्यालय में लंबित नहीं रहेगी।
मुआवजा के लिए चाहिए 100 करोड़, मिले 10 कराेड़
कैलारस के 10 गांव व सबलगढ़ के 12 गांव की निजी जमीन के अधिग्रहण के लिए 100 करोड़ रुपए का मुआवजा बांटा जाना है। इसका प्रस्ताव स्थानीय अधिकारियों ने रेलवे बोर्ड को भेजा था लेकिन बोर्ड ने अभी 10 करोड़ रुपए की राशि ही उपलब्ध कराई है। 10 करोड़ का ड्राफ्ट रेलवे के अधिकारियों ने गुरुवार को कलेक्टर प्रियंका दास को सौंपा है। इससे पहले रेलवे जमीन अधिग्रहण के लिए 105 करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध करा चुका है।
बानमोर में हाईवे के ऊपर से निकलेगी बड़ी लाइन
रेलवे के डिप्टी चीफ इंजीनियर एसएन यादव का कहना है कि बानमोर में श्रीराम इंजीनियरिंग कॉलेज के पास बड़ी रेल लाइन को हाईवे के ऊपर से निकाला जाएगा। इसकी डिजायन व ड्राइंग एनएचएआई मुख्यालय को स्वीकृति के लिए भेजी जा चुकी है। उधर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के प्रोजेक्ट डायरेक्टर संजय वर्मा का कहना है कि बड़ी रेल लाइन के नीचे से सिक्सलेन हाइवे निकाला जाएगा। सिक्सलेन हाइवे, रेल लाइन से कम से कम 5.5 मीटर नीचे होगा।
जमीन अधिग्रहण पर एक नजर
जिला तहसील कुल जमीन अधिग्रहण
मुरैना बानमोर 27.927 19.96
जौरा 76.85 61.403
कैलारस 50.122 38.249
सबलगढ़ 81.385 2.491
187.53 किमी लंबी लाइन बिछेगी
{187.53 किमी लंबी ब्रॉडगेज लाइन बिछेगी ग्वालियर से श्योपुर तक।
{45 गांवों की जमीन श्योपुर जिले में अधिग्रहीत की जाएगी।
{63 गांवों की जमीन श्योपुर जिले में अधिग्रहीत की जाएगी।
{115 करोड़ रुपए रेलवे ने भू-अधिग्रहण के लिए राशि दी।
{96.31 करोड़ रुपए मुआवजा बांटने अवार्ड पारित हो चुका है।
ग्वालियर से श्योपुर के बीच जून से पहले बंद होगी नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन
ग्वालियर से श्योपुर के बीच संचालित नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन को जून से पहले ग्वालियर- जौरा के बीच बंद कर दिया जाएगा। इस ट्रेन का संचालन जौरा से श्योपुर के बीच किया जाएगा। यह कार्रवाई इसलिए किया जाना जरूरी है क्योंकि नैरोगेज रेलवे ट्रेक अलाइनमेंट पर ही बड़ी लाइन बिछाने का काम चलेगा। बाद में जैसे-जैसे बड़ी रेल बिछाने का काम कैलारस, सबलगढ़ की दिशा में आगे बढ़ेगा तब नैरोगेज पैसेंजर ट्रेन का संचालन सबलगढ़ से श्योपुर के बीच तक सीमित रह जाएगी। इस प्रकार 106 साल पुरानी लाइट रेल का दौर 2022 तक समाप्त हो जाएगा।
जौरा तक ब्रॉडगेज लाइन बिछाने का काम 2020 के अंत पूरा होने की उम्मीद
ग्वालियर-श्योपुर ब्रॉडगेज प्रोजेक्ट के लिए रेलवे लाइन बिछाने बेस तैयार करने का काम शुरू हो चुका है।
रायरू से बानमोर तक काम शुरू
बड़ी रेल लाइन बिछाने के लिए रायरू से बानमोर गांव के बीच मिट्टी का कार्य लगभग 8 किलोमीटर में पूरा हो चुका है। श्योपुर जिले में रेल्वे लाइन के लिए लगभग 75 किमी लंबाई में कार्य किया जा रहा है। इस जिले में कुल 3 तहसील है। जिनमें से 45 ग्रामों की भूमि इस रेल लाइन परियोजना केे लिये अधिग्रहित की जा रही हैं। 38 गांव की निजी भूमि अधिग्रहण हेतु धारा 11 का प्रकाशन किया जा चुका है एवं धारा 19 का प्रकाशन हेतु कार्रवाई अंतिम चरण में है। 38 ग्रामों में शासकीय भूमि का आवंटन रेल लाइन हेतु किया जा चुका है।

Rail News
62039 views
Feb 23 2020 (00:28)
भारतवर्ष
333~   5296 blog posts
Re# 4572293-1            Tags   Past Edits
Accha hai Bhai, iske baad Gwalior me new pf ka kaam chalu ho jayega lekin pf 7 Bhind end wale ka kaam toh start Kar hi Dena chahiye abhi

Rail News
60098 views
Feb 23 2020 (01:08)
Need stoppage of Singrauli Exp
aryan89~   1407 blog posts
Re# 4572293-2            Tags   Past Edits
Jab tak narrow gauge band nhi hogi tab tak kuch bhi nhi ho sakta h gwalior stn par

Rail News
61844 views
Feb 23 2020 (10:00)
Deepak
Deepak~   178 blog posts
Re# 4572293-3            Tags   Past Edits
Great news, after closed narrow gauge b/w Gwalior-Jora, new PFs 5-6 work will be start
Feb 08 2020 (12:01) ग्वालियर-शिवपुरी लाइन का सिथौली तक थर्ड लाइन के तौर पर होगा उपयोग (www.everythinginhindi.com)
New Facilities/Technology
NCR/North Central
0 Followers
78556 views

News Entry# 400651  Blog Entry# 4560205   
  Past Edits
Feb 08 2020 (12:02)
Station Tag: Gwalior NG/GWO added by सारे जहाँ से अच्छा ग्वालियर हमारा~/1868827

Feb 08 2020 (12:02)
Station Tag: Birlanagar Junction/BLNR added by सारे जहाँ से अच्छा ग्वालियर हमारा~/1868827

Feb 08 2020 (12:02)
Station Tag: Gwalior Junction/GWL added by सारे जहाँ से अच्छा ग्वालियर हमारा~/1868827
ग्वालियर: पड़ाव पुल के आसपास जगह का अभाव है। इससे ग्वालियर-शिवपुरी लाइन का सिथौली रेलवे स्टेशन तक थर्ड लाइन के तौर पर उपयोग किया जाएगा। सिथौली के पास एक आरआरआई (रूट रिले इंटरलॉकिंग) केबिन बनाया जाएगा, जहां से शिवपुरी और झांसी ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। इसके साथ ही रेलवे स्टेशन में नया बदलाव हुआ है।
ताज साइडिंग को हटाकर यहां प्लेटफार्म नंबर 7 बनाया जाएगा। प्लेटफार्म नंबर 7 से भिंड / इटावा और आगरा की तरफ जाने वाली ट्रेनों का संचालन होगा। अभी रेलवे स्टेशन में प्लेटफार्म 4 नंबर हैं। जबकि थर्ड लाइन निकलने के बाद प्लेटफार्म नंबर 5 और 6 नंबर नैरोगेज लाइन को हटाकर विकसित किया जाना है।
नए
...
more...
प्लेटफार्म बढ़ने से ग्वालियर स्टेशन में ट्रेनों का स्टापेज बढ़ जाएगा। साथ ही एलएचबी कोच के लिए दो वाशिंग पिट पुराने मालगोदाम को हटाकर बनाए जाएंगे।
ग्वालियर शहर में बाई पास की जगह नहीं होने के कारण अब तीसरी और चौथी लाइन ग्वालियर स्टेशन से होकर ही जाएगी | रेलवे अफसरों ने बताया कि पड़ाव का पुराना पुल काफी नीचे है, जिसके स्पॉन को हटाकर ऊंचा करना पड़ेगा। यह काम फोर्थ लाइन निकालने पर किया जाएगा। इतना ही नहीं, सिंधिया कन्या विद्यालय के आसपास भी नया ट्रैक निकालने के लिए जगह कम पड़ रही है। इन सबका जायजा लेने के लिए जल्द ही झांसी मंडल के डीआरएम संदीप माथुर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने के लिए आएंगे। साथ ही पुराने मालगोदाम को हटाकर यहां क्या-क्या विकसित किया जाएगा, इसका वह अंतिम निर्णय लेंगे।
प्लेटफार्म नंबर 4 के पास व पुराने मालगोदाम के पास ये काम होने हैं…
प्लेटफार्म नंबर 4 के बाहर बने पुराने मालगोदाम को हटाकर कोचिंग यार्ड बनाया जाएगा। यहां दो लाइन रहेंगी और डिपो भी रहेगा।
नैरोगेज लाइन हटाकर प्लेटफार्म नंबर 5 और 6 बनाया जाएगा।
नैरोगेज का संचालन ग्वालियर से बंद कर तानसेन रोड के रेलवे फाटक के पास से संचालन पर विचार चल रहा है, लेकिन अंतिम फैसला झांसी से डीआरएम माथुर के आने के बाद किया जायेगा।
प्लेटफार्म नंबर 4 पर बना टिकट बुकिंग ऑफिस और आरआरआई केबिन हटाई जाएगी। इसके लिए आगरा एंड में एक नई बिल्डिंग बनाने का कार्य शुरू हो चुका है। इसके साथ ही ऑयल डिपो भी शिफ्ट किया जाएगा।
एलएचबी कोच वाले ट्रेनों के लिए दो वॉशिंग साइड बनाई जाना हैं। यहां पर ट्रेनों की सफाई का कार्य होता है।

5 Public Posts - Sat Feb 08, 2020

24 Public Posts - Sun Feb 09, 2020

18 Public Posts - Mon Feb 10, 2020

46440 views
Feb 10 2020 (17:12)
भारतवर्ष
333~   5296 blog posts
Re# 4560205-48            Tags   Past Edits
Jo bhi ho agar Naya Link cabin usi spot par banega

47489 views
Feb 10 2020 (17:59)
भारतवर्ष
333~   5296 blog posts
Re# 4560205-49            Tags   Past Edits
NCR is influenced by U.P. politics

47323 views
Feb 11 2020 (19:08)
❤NRTIVadodara❤
Rohittkarwal^~   11108 blog posts
Re# 4560205-50            Tags   Past Edits
Haha! Because UP serves far more than MP. UP has bigger economy, more number of political share, more number of representatives, more population. Then why shouldn't UP get more?
MP is just big in area nothing else.

47646 views
Feb 17 2020 (00:30)
® राहुल जैन ™18 🚅🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🛌 ☺ Chai Wal
rahulkumarjain^~   15905 blog posts
Re# 4560205-53            Tags   Past Edits
wow kabse ye soach raha tha ki esha ho aur ek station gwalior se 10 km jhansi side ho aur ek bypass line bhi bane

46629 views
Feb 17 2020 (00:41)
❤NRTIVadodara❤
Rohittkarwal^~   11108 blog posts
Re# 4560205-54            Tags   Past Edits
10km already Sithouli hai par bypass line nahi bani par agar cabin bana toh bypass chord bhi banegi
Page#    Showing 1 to 20 of 31 News Items  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy