Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

Train 18 - तेरी प्यारी प्यारी Livery को किसी की नज़र न लगे

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Tue Sep 27 06:06:04 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search

News Posts by Countdown begins for Puri trip 😍😍

Page#    Showing 1 to 5 of 2201 news entries  next>>
Indian Railway Income हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के अनार ने मुरादाबाद रेल मंडल को माला माल कर दिया है। जहां पहले रेलवे को पार्सल बोगी से शून्य आय होती थी वहीं अब इससे प्रत्येक दिन एक लाख रुपये से अधिक आय हो रही है।

जागरण संवाददाता, मुरादाबाद। Indian Railway Income :  हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के अनार ने मुरादाबाद रेल मंडल को माला माल कर दिया है। पार्सल बोगी से इसे हावड़ा भेजा जा रहा है। जहां पहले रेलवे को पार्सल बोगी से शून्य आय होती थी वहीं अब इससे प्रत्येक
...
more...
दिन एक लाख रुपये से अधिक आय हो रही है। स्टील के बर्तन के लिए व्यापारियों ने मांगी बोगी मुरादाबाद रेल मंडल पहली बार पार्सल बोगी से अनार भेज रहा है। दूसरी ओर स्टील के बर्तन भेजने के लिए व्यापारियों द्वारा पार्सल वैगन की मांग की किया जा रही है। हिमाचल प्रदेश, कश्मीर व उत्तराखंड इस साल सेब व अनार की सबसे अधिक पैदावार हुई है। कश्मीर के सेब और अनार इन ट्रेनों से भेजे जा रहे  किसान इन्हें सड़ने से बचाने के लिए रेल मार्ग से देश के विभिन्न स्थानों पर भेज रहे हैं। कश्मीर के सेब, अनार जम्मूतवी से व अमृतसर से चलने वाली ट्रेनों की पार्सल बोगी के द्वारा देश के विभिन्न स्थानों पर भेजा जा रहा है। उत्तराखंड के सेब देहरादून से ट्रेन द्वारा बाहर भेजे जा रहे हैं। जानें हिमाचल प्रदेश के किसान कैसे भेज रहे अनार हिमाचल प्रदेश के किसान के पास अंबाला होकर गुजरने वाली ट्रेनों से अनार व सेब भेजने की व्यवस्था है। अंबाला से गुजरने वाली ट्रेनों में पार्सल बोगी में जगह खाली नहीं मिलने से किसान परेशान हैंं। ऐसे में सेब सड़क मार्ग से दिल्ली व अन्य जगहों पर भेज रहे हैं। Amroha में मुंह दबाकर की गई थी दो साल के अयान की हत्या, रात में बच्चे का किया था अपहरण यह भी पढ़ें कुल्लू का अनार भेजा जा रहा हावड़ा अनार की अच्छी कीमत पाने के लिए कुल्लू के किसान व व्यापारी हावड़ा भेजना का प्रयास कर रहे हैं। दूसरी ओर योगनगरी व हरिद्वार से हावड़ा जाने वाली दून एक्सप्रेस व कुछ एक्सप्रेस की चार पार्सल बोगी इन दिनों खाली जा रही थींं। किसानों ने मुरादाबाद मंडल के अधिकारियों से वार्ता की और कुल्लू से सड़क मार्ग होकर अनार हरिद्वार या योगनगरी ला रहे हैं। Moradabad: किसी का माथा गरम हुआ तो किसी ने दिखाया भौकाल, रील बनाने में एक माह में दो महिला सिपाही समेत छह निलंबित यह भी पढ़ें रेलवे को रोज एक लाख रुपये मिल रहा किराया शुरुआत में प्रत्येक दिन औसत 150 कुंतल अनार पार्सल बोगी द्वारा भेजे जा रहे। जिससे रेलवे को एक लाख का किराया मिल रहा है। धीरे-धीरे अनार भेजने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। दूसरी ओर दीपावली के समय स्टील के बर्तन मुरादाबाद से लगातार देश भर में भेजे जा रहे हैं। स्टील के बर्तन भेजने के लिए की अलग व्यवस्था मुरादाबाद के व्यपारियों ने रेल प्रशासन से छह पार्सल वैगन की मांग की है। मुख्यालय से वैगन उपलब्ध नहीं होने के कारण व्यापारी परेशान हैंं। इस पर रेल प्रशासन ने जिस ट्रेन की पार्सल बोगी में जगह खाली मिलती है, उसमें स्टील के बर्तन भेजना शुरू कर दिया है। मुरादाबाद में झमाझम बारिश से रामलीला मैदान बना तालाब, अभी तक शुरू नहीं हो पाया मंचन यह भी पढ़ें वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि कुल्लू के अनार की पार्सल बोगी से ढुलाई करने का पहली बार मौका मिला है। इससे रेलवे की आय बढ़ेगी। इसके अलावा स्टील के बर्तनों को भी देश भर में भेजने के प्रयास किए जा रहे हैं। Edited By: Samanvay Pandey



जागरण संवाददाता, मुरादाबाद। Indian Railway Income :  हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के अनार ने मुरादाबाद रेल मंडल को माला माल कर दिया है। पार्सल बोगी से इसे हावड़ा भेजा जा रहा है। जहां पहले रेलवे को पार्सल बोगी से शून्य आय होती थी वहीं अब इससे प्रत्येक दिन एक लाख रुपये से अधिक आय हो रही है।

मुरादाबाद रेल मंडल पहली बार पार्सल बोगी से अनार भेज रहा है। दूसरी ओर स्टील के बर्तन भेजने के लिए व्यापारियों द्वारा पार्सल वैगन की मांग की किया जा रही है। हिमाचल प्रदेश, कश्मीर व उत्तराखंड इस साल सेब व अनार की सबसे अधिक पैदावार हुई है।



किसान इन्हें सड़ने से बचाने के लिए रेल मार्ग से देश के विभिन्न स्थानों पर भेज रहे हैं। कश्मीर के सेब, अनार जम्मूतवी से व अमृतसर से चलने वाली ट्रेनों की पार्सल बोगी के द्वारा देश के विभिन्न स्थानों पर भेजा जा रहा है। उत्तराखंड के सेब देहरादून से ट्रेन द्वारा बाहर भेजे जा रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश के किसान के पास अंबाला होकर गुजरने वाली ट्रेनों से अनार व सेब भेजने की व्यवस्था है। अंबाला से गुजरने वाली ट्रेनों में पार्सल बोगी में जगह खाली नहीं मिलने से किसान परेशान हैंं। ऐसे में सेब सड़क मार्ग से दिल्ली व अन्य जगहों पर भेज रहे हैं।



अनार की अच्छी कीमत पाने के लिए कुल्लू के किसान व व्यापारी हावड़ा भेजना का प्रयास कर रहे हैं। दूसरी ओर योगनगरी व हरिद्वार से हावड़ा जाने वाली दून एक्सप्रेस व कुछ एक्सप्रेस की चार पार्सल बोगी इन दिनों खाली जा रही थींं। किसानों ने मुरादाबाद मंडल के अधिकारियों से वार्ता की और कुल्लू से सड़क मार्ग होकर अनार हरिद्वार या योगनगरी ला रहे हैं।



शुरुआत में प्रत्येक दिन औसत 150 कुंतल अनार पार्सल बोगी द्वारा भेजे जा रहे। जिससे रेलवे को एक लाख का किराया मिल रहा है। धीरे-धीरे अनार भेजने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। दूसरी ओर दीपावली के समय स्टील के बर्तन मुरादाबाद से लगातार देश भर में भेजे जा रहे हैं।

मुरादाबाद के व्यपारियों ने रेल प्रशासन से छह पार्सल वैगन की मांग की है। मुख्यालय से वैगन उपलब्ध नहीं होने के कारण व्यापारी परेशान हैंं। इस पर रेल प्रशासन ने जिस ट्रेन की पार्सल बोगी में जगह खाली मिलती है, उसमें स्टील के बर्तन भेजना शुरू कर दिया है।



वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि कुल्लू के अनार की पार्सल बोगी से ढुलाई करने का पहली बार मौका मिला है। इससे रेलवे की आय बढ़ेगी। इसके अलावा स्टील के बर्तनों को भी देश भर में भेजने के प्रयास किए जा रहे हैं।
Yesterday (15:44) Indian Railway News : महाजाम के पांच दिन, रेलवे को 1000 करोड़, सड़क जाम होने से भी 200 करोड़ रुपये का नुकसान, ट्रेनों का परिचालन शुरू, जानें और क्या-क्या हुआ (www.jagran.com)
IR Affairs
SER/South Eastern
0 Followers
6014 views

News Entry# 498750  Blog Entry# 5488301   
  Past Edits
Sep 26 2022 (15:59)
Station Tag: Adra Junction/ADRA added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836

Sep 26 2022 (15:59)
Station Tag: Chakradharpur/CKP added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836

Sep 26 2022 (15:59)
Station Tag: Kharagpur Junction/KGP added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836

Sep 26 2022 (15:59)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by ପୁରୀ ଶ୍ରୀନଗର ସ୍ୱର୍ଗଦ୍ୱାର ଏକ୍ସପ୍ରେସ🙏🇮🇳/1421836
चक्रधरपुर आद्रा व खड़गपुर रेल मंडल के विभिन्न स्टेशनों पर आदिवासी कुड़मी समाज की ओर से रेल रोका और हाइवे जाम के कारण जहां यात्रियों को व्यापक परेशानियों का सामना करना पड़ा वहीं रेलवे को 1000 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है। व्यापारियों को 200 करोड़ का नुकसान हुआ है।
जासं, जमशेदपुर : कुड़मियों के रेल राेको आंदोलन व महाजाम के कारण पांच दिन तक ट्रेनों का परिचालन ठप होने के कारण दक्षिण पूर्व रेलवे को लगभग 1000 करोड़ रुपये का नुकसान होने की संभावना है। आदिवासी कुड़मी समाज के लोगों ने पांच दिनों तक आद्रा डिवीजन के नीमडीह व कुस्तौर, चक्रधरपुर मंडल के आंगलाझुड़ी व खड़गपुर डिवीजन के खेमाशुली व सालबनी रेलवे स्टेशन पर आकर रेलवे ट्रैक को जाम कर
...
more...
दिया था। इसके कारण हावड़ा-मुंबई मार्ग पूरी तरह से ठप हो गया था। ऐसे में पांच दिनों में रेलवे ने 295 मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों को रद किया। इसके अलावा 90 ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर शार्ट टर्मिनेट किया और 105 ट्रेनों को बदले हुए मार्ग से चलाया। इसके कारण अलग-अलग स्टेशनों से लाखों यात्रियों ने अपने कंफर्म टिकट को रद कराया। वहीं, बदले हुए मार्ग से ट्रेन चलाने से ट्रेन अपने वर्तमान स्टेशन के बजाए बदले हुए मार्ग से चली, लंबी दूरी तय करने के कारण रेलवे को भी करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ। आंदोलन खत्म होने के बावजूद अब जाकर ट्रेन का परिचालन सामान्य हो रहा है। Jamshedpur News : आंदोलन की राह पकड़ रहे झारखंड के शिक्षक, 11 अक्टूबर से प्राथमिक शिक्षकों का अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन यह भी पढ़ें 150 गुड्स ट्रेनों की नहीं हुई लोड़िंग दक्षिण पूर्व रेलवे का चक्रधरपुर मंडल पूरे देश में माल ढुलाई के मामले में दूसरे नंबर पर है। यहां से लौह अयस्क, कोयला, सीमेंट, पेट्रोलियम प्रद्धार्थ सहित कई तरह की खाद्य सामग्रियों की लोड़िंग-अनलोड़िंग होती है। आंदोलन के कारण पांच दिनों में 150 गुड्स ट्रेनों की लोड़िंग नहीं हुई। जबकि 175 ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोक दिया गया, वे अपने निर्धारित समय पर गंतव्य तक नहीं पहुंच पाई। इसके कारण भी रेलवे को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ। Jamshedpur News: टाटा वर्कर्स यूनियन की कमेटी मीटिंग रही जोरदार, इसने तो चेयरमैन पर ही उठा दिए सवाल यह भी पढ़ें एनएच पर भी लगा रहा लंबा जाम आंदोलनकारियों ने झारखंड को खड़गपुर से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग को भी जाम कर दिया था। इसके कारण पांच दिनों में एनएच के दोनों छोर पर लगभग 60 किलोमीटर लंबा जाम लग गया था। इसके कारण हावड़ा से देश के विभिन्न क्षेत्रों में जाने वाले मालवाहक वाहनों के पहिए थम गए। इसके कारण भी विभिन्न वाहन मालिकों सहित ट्रांसपोर्ट कंपनियों को लगभग 200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। Edited By: Uttamnath Pathak
जासं, जमशेदपुर : कुड़मियों के रेल राेको आंदोलन व महाजाम के कारण पांच दिन तक ट्रेनों का परिचालन ठप होने के कारण दक्षिण पूर्व रेलवे को लगभग 1000 करोड़ रुपये का नुकसान होने की संभावना है। आदिवासी कुड़मी समाज के लोगों ने पांच दिनों तक आद्रा डिवीजन के नीमडीह व कुस्तौर, चक्रधरपुर मंडल के आंगलाझुड़ी व खड़गपुर डिवीजन के खेमाशुली व सालबनी रेलवे स्टेशन पर आकर रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया था। इसके कारण हावड़ा-मुंबई मार्ग पूरी तरह से ठप हो गया था। ऐसे में पांच दिनों में रेलवे ने 295 मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों को रद किया। इसके अलावा 90 ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर शार्ट टर्मिनेट किया और 105 ट्रेनों को बदले हुए मार्ग से चलाया। इसके कारण अलग-अलग स्टेशनों से लाखों यात्रियों ने अपने कंफर्म टिकट को रद कराया। वहीं, बदले हुए मार्ग से ट्रेन चलाने से ट्रेन अपने वर्तमान स्टेशन के बजाए बदले हुए मार्ग से चली, लंबी दूरी तय करने के कारण रेलवे को भी करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ। आंदोलन खत्म होने के बावजूद अब जाकर ट्रेन का परिचालन सामान्य हो रहा है।

150 गुड्स ट्रेनों की नहीं हुई लोड़िंग
दक्षिण पूर्व रेलवे का चक्रधरपुर मंडल पूरे देश में माल ढुलाई के मामले में दूसरे नंबर पर है। यहां से लौह अयस्क, कोयला, सीमेंट, पेट्रोलियम प्रद्धार्थ सहित कई तरह की खाद्य सामग्रियों की लोड़िंग-अनलोड़िंग होती है। आंदोलन के कारण पांच दिनों में 150 गुड्स ट्रेनों की लोड़िंग नहीं हुई। जबकि 175 ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोक दिया गया, वे अपने निर्धारित समय पर गंतव्य तक नहीं पहुंच पाई। इसके कारण भी रेलवे को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ।

एनएच पर भी लगा रहा लंबा जाम
आंदोलनकारियों ने झारखंड को खड़गपुर से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग को भी जाम कर दिया था। इसके कारण पांच दिनों में एनएच के दोनों छोर पर लगभग 60 किलोमीटर लंबा जाम लग गया था। इसके कारण हावड़ा से देश के विभिन्न क्षेत्रों में जाने वाले मालवाहक वाहनों के पहिए थम गए। इसके कारण भी विभिन्न वाहन मालिकों सहित ट्रांसपोर्ट कंपनियों को लगभग 200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

Rail News
6114 views
Yesterday (15:50)
NCR is Pride of IR
Mridul^~   44440 blog posts
Re# 5488301-1              
This loss is not due to Ambani Adani. This is due to poor peoples.
एनएफ रेलवे ने आगामी त्योहारी सीजन के दौरान यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को नियंत्रित करने के लिए तीन जोड़ी पूजा स्पेशल ट्रेनों का परिचालन करने का फैसला किया है। यहां समय सारणी के साथ विस्‍तार से देखें कौन सी ट्रेंने कहा से चलेंगी।

सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। एनएफ रेलवे ने आगामी त्योहारी सीजन के दौरान यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को नियंत्रित करने के लिए तीन जोड़ी पूजा स्पेशल ट्रेनों का परिचालन करने का फैसला किया है। एनएफ रेलवे द्वारा मिली जानकारी के अनुसार दोनों दिशाओं में एक पूजा स्पेशल ट्रेन छह ट्रिपों
...
more...
के लिए और अन्य दो पूजा स्पेशल ट्रेनें एक ट्रिप के लिए चलेंगी। बताया गया कि पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03013 (हावड़ा-न्यू जलपाईगुड़ी) एक ट्रिप के लिए 28 सितंबर, 2022 को हावड़ा से 23:40 बजे रवाना होगी और अगले दिन न्यू जलपाईगुड़ी 10:10 बजे पहुंचेगी। वापसी में, पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03014 (न्यू जलपाईगुड़ी-हावड़ा) एक ट्रिप के लिए 29 सितंबर, 2022 को न्यू जलपाईगुड़ी से 12:35 बजे रवाना होगीऔर अगले दिन हावड़ा 00:50 बजे पहुंचेगी। अन्य पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03123 (सियालदह-न्यू जलपाईगुड़ी) एक ट्रिप के लिए 29 सितंबर, 2022 को सियालदह से 23:50 बजे रवाना होगी और अगले दिन न्यू जलपाईगुड़ी 10:10 बजे पहुंचेगी। वापसी में, पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03124 (न्यू जलपाईगुड़ी-सियालदह) एक ट्रिप के लिए 30 सितंबर, 2022 को न्यू जलपाईगुड़ी से 12:00 बजे रवाना होकर उसी दिन सियालदह 23:35 बजे पहुंचेगी। 29 सितंबर से 03 नवंबर, 2022 तक पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 05639 (सिलचर-कोलकाता) प्रति गुरुवार को छह ट्रिपों के लिए सिलचर से 06:00 बजे रवाना होकर अगले दिन कोलकाता 13:00 बजे पहुंचेगी। वापसी में,30 सितंबर से 04 नवंबर, 2022 तक पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 05640 (कोलकाता-सिलचर) प्रति शुक्रवार को छह ट्रिपों के लिए कोलकाता से 15:00 बजे रवाना होकर रविवार को सिलचर 00:30 बजे पहुंचेगी। पूजा स्पेशल ट्रेन में 20 कोच होंगे और यह अपनी दोनों तरफ की यात्रा के दौरान भाया न्यू हाफलंग, लामडिंग, गुवाहाटी, न्यू बंगाईगाव, न्यू जलपाईगुड़ी, किशनगंज, मालदा टाउन और बैण्डेल जंक्शन होकर चलेगी। इसमें 04 एसी थ्री टीयर कोच, 01 एसी टू टीयर कोच, 13 स्लीपर क्लास कोच और 02 लगेज वैन होंगे। बीएसएफ उत्‍तर बंगाल फ्रंटियर के जवानों ने तस्‍करों के खिलाफ सीाम पर चलाया अभियान,कई गिरफ्तार यह भी पढ़ें



सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। एनएफ रेलवे ने आगामी त्योहारी सीजन के दौरान यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को नियंत्रित करने के लिए तीन जोड़ी पूजा स्पेशल ट्रेनों का परिचालन करने का फैसला किया है। एनएफ रेलवे द्वारा मिली जानकारी के अनुसार दोनों दिशाओं में एक पूजा स्पेशल ट्रेन छह ट्रिपों के लिए और अन्य दो पूजा स्पेशल ट्रेनें एक ट्रिप के लिए चलेंगी।

बताया गया कि पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03013 (हावड़ा-न्यू जलपाईगुड़ी) एक ट्रिप के लिए 28 सितंबर, 2022 को हावड़ा से 23:40 बजे रवाना होगी और अगले दिन न्यू जलपाईगुड़ी 10:10 बजे पहुंचेगी। वापसी में, पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03014 (न्यू जलपाईगुड़ी-हावड़ा) एक ट्रिप के लिए 29 सितंबर, 2022 को न्यू जलपाईगुड़ी से 12:35 बजे रवाना होगीऔर अगले दिन हावड़ा 00:50 बजे पहुंचेगी। अन्य पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03123 (सियालदह-न्यू जलपाईगुड़ी) एक ट्रिप के लिए 29 सितंबर, 2022 को सियालदह से 23:50 बजे रवाना होगी और अगले दिन न्यू जलपाईगुड़ी 10:10 बजे पहुंचेगी। वापसी में, पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 03124 (न्यू जलपाईगुड़ी-सियालदह) एक ट्रिप के लिए 30 सितंबर, 2022 को न्यू जलपाईगुड़ी से 12:00 बजे रवाना होकर उसी दिन सियालदह 23:35 बजे पहुंचेगी। 29 सितंबर से 03 नवंबर, 2022 तक पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 05639 (सिलचर-कोलकाता) प्रति गुरुवार को छह ट्रिपों के लिए सिलचर से 06:00 बजे रवाना होकर अगले दिन कोलकाता 13:00 बजे पहुंचेगी। वापसी में,30 सितंबर से 04 नवंबर, 2022 तक पूजा स्पेशल ट्रेन संख्या 05640 (कोलकाता-सिलचर) प्रति शुक्रवार को छह ट्रिपों के लिए कोलकाता से 15:00 बजे रवाना होकर रविवार को सिलचर 00:30 बजे पहुंचेगी। पूजा स्पेशल ट्रेन में 20 कोच होंगे और यह अपनी दोनों तरफ की यात्रा के दौरान भाया न्यू हाफलंग, लामडिंग, गुवाहाटी, न्यू बंगाईगाव, न्यू जलपाईगुड़ी, किशनगंज, मालदा टाउन और बैण्डेल जंक्शन होकर चलेगी। इसमें 04 एसी थ्री टीयर कोच, 01 एसी टू टीयर कोच, 13 स्लीपर क्लास कोच और 02 लगेज वैन होंगे।





.
एक अक्टूबर से लागू होनेवाले रेलवे के नए टाइम टेबल ने यात्रियों को बड़ा झटका दे दिया है। रेलवे ने चुपके से केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री अन्‍नपूर्णा देवी के संसदीय क्षेत्र से दो जोड़ी ट्रेनों का ठहराव हटा दिया है। इनमें से एक हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस और दूसरी हावड़ा बीकानेर है।
जागरण संवाददाता, धनबाद: एक अक्टूबर से लागू होनेवाले रेलवे के नए टाइम टेबल ने यात्रियों को बड़ा झटका दे दिया है। रेलवे ने चुपके से केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री अन्‍नपूर्णा देवी के संसदीय क्षेत्र से दो जोड़ी ट्रेनों का ठहराव हटा दिया है। इनमें से एक हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस और दूसरी हावड़ा बीकानेर एक्सप्रेस है। दोनों ट्रेनें हावड़ा से राजस्‍थान के अलग-अलग शहरों तक जाती हैं। अब ये ट्रेनें अक्टूबर के पहले
...
more...
हफ्ते से ही कोडरमा में नहीं रुकेंगी। ट्रेनों की टिकट बुकिंग भी कोडरमा से बंद कर दी गई है। त्योहारी मौसम में रेलवे के इस निर्णय से यात्रियों की परेशानी बढ़ेगी। पहले से टिकट करा चुके यात्रियों की बढ़ी दुश्‍वारियां हावड़ा-जोधपुर और हावड़ा बीकानेर एक्सप्रेस दोनों ही ग्रैंड काॅर्ड सेक्शन की अत्यंत महत्वपूर्ण ट्रेनें हैं। कोडरमा से ठहराव हट जाने से उन यात्रियों की परेशानी बढ़ेगी, जिन्होंने पहले से इन ट्रेनों में टिकट बुक करा लिया है। वहीं अब कोडरमा आने वाले यात्रियों को भी गंतव्य स्टेशन पर ट्रेन न रुकने की वजह से दूसरे स्टेशन पर उतर कर विकल्प तलाशना होगा। इन ट्रेनों से कोडरमा आने वाले यात्रियों को अब गया या पारसनाथ में उतर कर कोडरमा के लिए ट्रेन या बस ढूंढ़नी होगी। जिसे अंग्रेजों ने संवारा था, हमारी सरकारी व्यवस्था ने उसकी बखिया उधेड़ दी... अबतक पांच बार हो चुका उद्घाटन यह भी पढ़ें रेलवे के निर्णय से यात्रियों में नाराजगी ट्रेनों के ठहराव हटाने के रेलवे के निर्णय से यात्रियों में काफी नाराजगी है। उनका कहना है कि इससे पहले पारसनाथ स्टेशन पर भी इन ट्रेनों का ठहराव नहीं दिया गया था। काफी प्रयास के बाद ठहराव शुरू हो सका। अब जाकर कोडरमा से ठहराव हटा दिया गया, जबकि इन दोनों ट्रेनों में कोडरमा के साथ-साथ बिहार के यात्री भी सफर करते हैं। हर दिन बड़ी संख्या में यात्रियों के सफर करने के बाद भी ठहराव हटाने का निर्णय उचित नहीं है। पूजा से पहले बड़ा फेरबदल, जोगता, सोनारडीह, बलियापुर समेत पांच थाना व ओपी के प्रभारी बदले गए यह भी पढ़ें इन तिथियों से बंद होगा ठहराव - 12307 हावड़ा -जोधपुर एक्सप्रेस दो अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी। - 12308 जोधपुर -हावड़ा एक्सप्रेस चार अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी। - 22307 हावड़ा - बीकानेर एक्सप्रेस तीन अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी। - 22308 बीकानेर - हावड़ा एक्सप्रेस तीन अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी। Edited By: Deepak Kumar Pandey
जागरण संवाददाता, धनबाद: एक अक्टूबर से लागू होनेवाले रेलवे के नए टाइम टेबल ने यात्रियों को बड़ा झटका दे दिया है। रेलवे ने चुपके से केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री अन्‍नपूर्णा देवी के संसदीय क्षेत्र से दो जोड़ी ट्रेनों का ठहराव हटा दिया है। इनमें से एक हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस और दूसरी हावड़ा बीकानेर एक्सप्रेस है। दोनों ट्रेनें हावड़ा से राजस्‍थान के अलग-अलग शहरों तक जाती हैं। अब ये ट्रेनें अक्टूबर के पहले हफ्ते से ही कोडरमा में नहीं रुकेंगी। ट्रेनों की टिकट बुकिंग भी कोडरमा से बंद कर दी गई है। त्योहारी मौसम में रेलवे के इस निर्णय से यात्रियों की परेशानी बढ़ेगी।
पहले से टिकट करा चुके यात्रियों की बढ़ी दुश्‍वारियां
हावड़ा-जोधपुर और हावड़ा बीकानेर एक्सप्रेस दोनों ही ग्रैंड काॅर्ड सेक्शन की अत्यंत महत्वपूर्ण ट्रेनें हैं। कोडरमा से ठहराव हट जाने से उन यात्रियों की परेशानी बढ़ेगी, जिन्होंने पहले से इन ट्रेनों में टिकट बुक करा लिया है। वहीं अब कोडरमा आने वाले यात्रियों को भी गंतव्य स्टेशन पर ट्रेन न रुकने की वजह से दूसरे स्टेशन पर उतर कर विकल्प तलाशना होगा। इन ट्रेनों से कोडरमा आने वाले यात्रियों को अब गया या पारसनाथ में उतर कर कोडरमा के लिए ट्रेन या बस ढूंढ़नी होगी।

रेलवे के निर्णय से यात्रियों में नाराजगी
ट्रेनों के ठहराव हटाने के रेलवे के निर्णय से यात्रियों में काफी नाराजगी है। उनका कहना है कि इससे पहले पारसनाथ स्टेशन पर भी इन ट्रेनों का ठहराव नहीं दिया गया था। काफी प्रयास के बाद ठहराव शुरू हो सका। अब जाकर कोडरमा से ठहराव हटा दिया गया, जबकि इन दोनों ट्रेनों में कोडरमा के साथ-साथ बिहार के यात्री भी सफर करते हैं। हर दिन बड़ी संख्या में यात्रियों के सफर करने के बाद भी ठहराव हटाने का निर्णय उचित नहीं है।

इन तिथियों से बंद होगा ठहराव
- 12307 हावड़ा -जोधपुर एक्सप्रेस दो अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी।
- 12308 जोधपुर -हावड़ा एक्सप्रेस चार अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी।
- 22307 हावड़ा - बीकानेर एक्सप्रेस तीन अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी।
- 22308 बीकानेर - हावड़ा एक्सप्रेस तीन अक्टूबर से कोडरमा में नहीं रुकेगी।
Yesterday (14:13) Indian Railways: एक अक्‍टूबर से शक्तिपुंज एक्सप्रेस का सिर्फ समय ही नहीं बदल रहा, रफ्तार भी बढ़ेगी (www.jagran.com)
IR Affairs
ER/Eastern
0 Followers
4832 views

News Entry# 498745  Blog Entry# 5488208   
  Past Edits
Sep 26 2022 (14:13)
Station Tag: Howrah Junction/HWH added by Countdown begins for Puri trip 😍😍/2086033

Sep 26 2022 (14:13)
Station Tag: Jabalpur/JBP added by Countdown begins for Puri trip 😍😍/2086033
Stations:  Howrah Junction/HWH   Jabalpur/JBP  
जबलपुर से हावड़ा जानेवाली शक्तिपुंज एक्सप्रेस की रफ्तार बढ़ जाएगी। अभी 28 घंटे 20 मिनट में सफर पूरा करने वाली ट्रेन अब 24 घंटे 20 मिनट में ही हावड़ा पहुंच जाएगी। धनबाद से रात 1040 पर खुलने वाली ट्रेन अब इसी समय पर हावड़ा पहुंचाएगी।
जागरण संवाददाता, धनबाद: जबलपुर से हावड़ा जानेवाली शक्तिपुंज एक्सप्रेस की रफ्तार बढ़ जाएगी। अभी 28 घंटे 20 मिनट में सफर पूरा करने वाली ट्रेन अब 24 घंटे 20 मिनट में ही हावड़ा पहुंच जाएगी। धनबाद से रात 10:40 पर खुलने वाली ट्रेन अब इसी समय पर हावड़ा पहुंचाएगी। धनबाद आगमन देर रात के बदले अब शाम में ही होगा। एक अक्टूबर से टाइम टेबल में होनेवाले बदलाव को लेकर पहले से टिकट बुक करा चुके यात्रियों
...
more...
को रेलवे बल्कि एसएमएस भेजकर सूचना दे रही है। फिलहाल एक ओर से ही टाइम टेबल में बदलाव की सूचना जारी की गई है। जिसे अंग्रेजों ने संवारा था, हमारी सरकारी व्यवस्था ने उसकी बखिया उधेड़ दी... अबतक पांच बार हो चुका उद्घाटन यह भी पढ़ें शाम को ब्लैक डायमंड, शताब्दी के बाद हावड़ा के लिए मिल जाएगी तीसरी ट्रेन धनबाद से हावड़ा के लिए शाम 4:20 पर ब्लैक डायमंड एक्सप्रेस और शाम 5:40 पर रांची -हावड़ा शताब्दी एक्सप्रेस चलती है। इन दोनों ट्रेनों के बाद शक्तिपुंज एक्सप्रेस अब शाम में हावड़ा के लिए यात्रियों का तीसरा विकल्प होगी। इस ट्रेन के समय में बदलाव से अब रात में हावड़ा जानेवाली दून, जोधपुर, बीकानेर, शिप्रा, चंबल और नेताजी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में यात्रियों का दबाव बढ़ेगा। पूजा से पहले बड़ा फेरबदल, जोगता, सोनारडीह, बलियापुर समेत पांच थाना व ओपी के प्रभारी बदले गए यह भी पढ़ें चैन की नींद लेकर हावड़ा पहुंचना होगा मुश्किल, रात बिताने को ढूंढ़ना होगा ठौर शक्तिपुंज एक्सप्रेस पूरी रात चैन की नींद लेकर अलसुबह हावड़ा पहुंचाने सबसे अच्छी ट्रेनों में से एक है। इसी वजह से धनबाद और आसपास के यात्री, व्यवसायी और कारोबारियों के बीच ट्रेन काफी लोकप्रिय है। हर दिन धनबाद से बड़ी संख्या में इस ट्रेन में यात्री सफर करते हैं। अब समय बदलने से देर रात हावड़ा पहुंच कर रात बिताने के लिए ठौर ढूंढ़ना होगा। Durga Puja 2022: पूजा की अनूठी परंपरा, यहां जंजीर से बांधकर रखी जाती है देवी दुर्गा की मूर्ति यह भी पढ़ें जबलपुर से रात 10:20 पर खुलेगी ट्रेन 11447 जबलपुर हावड़ा शक्तिपुंज एक्सप्रेस जबलपुर से देर रात 11:40 पर खुलती है। एक अक्टूबर से रात 10:20 पर ही खुल जाएगी। धनबाद आगमन शाम छह बजे के आसपास होगा। जबलपुर से एक घंटे 20 मिनट पहले खुलकर लगभग पांच घंटे पहले आने वाली ट्रेन के दूसरे स्टेशनों पर भी टाइम टेबल बदल जाएगा। Edited By: Deepak Kumar Pandey
जागरण संवाददाता, धनबाद: जबलपुर से हावड़ा जानेवाली शक्तिपुंज एक्सप्रेस की रफ्तार बढ़ जाएगी। अभी 28 घंटे 20 मिनट में सफर पूरा करने वाली ट्रेन अब 24 घंटे 20 मिनट में ही हावड़ा पहुंच जाएगी। धनबाद से रात 10:40 पर खुलने वाली ट्रेन अब इसी समय पर हावड़ा पहुंचाएगी। धनबाद आगमन देर रात के बदले अब शाम में ही होगा। एक अक्टूबर से टाइम टेबल में होनेवाले बदलाव को लेकर पहले से टिकट बुक करा चुके यात्रियों को रेलवे बल्कि एसएमएस भेजकर सूचना दे रही है। फिलहाल एक ओर से ही टाइम टेबल में बदलाव की सूचना जारी की गई है।

शाम को ब्लैक डायमंड, शताब्दी के बाद हावड़ा के लिए मिल जाएगी तीसरी ट्रेन
धनबाद से हावड़ा के लिए शाम 4:20 पर ब्लैक डायमंड एक्सप्रेस और शाम 5:40 पर रांची -हावड़ा शताब्दी एक्सप्रेस चलती है। इन दोनों ट्रेनों के बाद शक्तिपुंज एक्सप्रेस अब शाम में हावड़ा के लिए यात्रियों का तीसरा विकल्प होगी। इस ट्रेन के समय में बदलाव से अब रात में हावड़ा जानेवाली दून, जोधपुर, बीकानेर, शिप्रा, चंबल और नेताजी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में यात्रियों का दबाव बढ़ेगा।

चैन की नींद लेकर हावड़ा पहुंचना होगा मुश्किल, रात बिताने को ढूंढ़ना होगा ठौर
शक्तिपुंज एक्सप्रेस पूरी रात चैन की नींद लेकर अलसुबह हावड़ा पहुंचाने सबसे अच्छी ट्रेनों में से एक है। इसी वजह से धनबाद और आसपास के यात्री, व्यवसायी और कारोबारियों के बीच ट्रेन काफी लोकप्रिय है। हर दिन धनबाद से बड़ी संख्या में इस ट्रेन में यात्री सफर करते हैं। अब समय बदलने से देर रात हावड़ा पहुंच कर रात बिताने के लिए ठौर ढूंढ़ना होगा।

जबलपुर से रात 10:20 पर खुलेगी ट्रेन
11447 जबलपुर हावड़ा शक्तिपुंज एक्सप्रेस जबलपुर से देर रात 11:40 पर खुलती है। एक अक्टूबर से रात 10:20 पर ही खुल जाएगी। धनबाद आगमन शाम छह बजे के आसपास होगा। जबलपुर से एक घंटे 20 मिनट पहले खुलकर लगभग पांच घंटे पहले आने वाली ट्रेन के दूसरे स्टेशनों पर भी टाइम टेबल बदल जाएगा।
Page#    2201 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy