Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

जिंदगी में शादी के अलावा ट्रेन में RAC ही एक ऐसी स्थिति है,जिसमें दो अजनबी साथ निभाने को मजबूर होते है। - Junaid

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Thu Jun 27 01:54:01 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by First journey in LHB SL ✌🙌^~

Page#    Showing 1 to 5 of 340 news entries  next>>
  
Jun 22 (12:55) Indian Railways eyes corporatization of train coach, locomotive factories! Details of game-changing proposal (www.financialexpress.com)
IR Affairs
0 Followers
2889 views

News Entry# 384810  Blog Entry# 4349286   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
The objective is to use the new entity to drive technology partnership and modernisation for world-standard coaches and locomotives production.

Indian Railways looks to corporatize production units! Aiming to bring in increased efficiency in production, Indian Railways is looking to hive off its rolling stock and locomotive production units and associated workshops into a new government-owned entity called “Indian Railway Rolling Stock Company”. This will be under the Ministry of Railways. The proposal is part of Piyush Goyal-led Indian Railways 100 day roadmap document for the national transporter, learns Financial Express
...
more...
Online. The objective is to use the new entity to drive technology partnership and modernisation for world-standard coaches and locomotives production.

According to the document prepared by the Railway Board, Indian Railways will conduct a detailed study of seven of its production units, namely, Chittaranjan Locomotive Works (CLW) in West Bengal, Integral Coach Factory (ICF) in Chennai, Rail Coach Factory (RCF) in Kapurthala, Diesel Modernization Works (DMW) in Patiala, Diesel Locomotive Works (DLW) in Varanasi, Wheel & Axle Plant in Bangalore, and Modern Coach Factory (MCF) in Rae Bareli.

Indian Railway Rolling Stock Company: Indian Railways’ big plan

Each production unit with a CEO will function as an individual profit centre, reporting to the Board/CMD of the new entity. The national transporter is of the view that the move will enable wider market access including state-of-the-art technology (modern railway coaches), superior operational efficiency and promote exports.

Indian Railways is looking to immediately start consultations with unions and will come up with a Cabinet note for the approval of at least one production unit to begin with. The project may kick off with MCF in Rae Bareli as it is a new production unit. Subsequently, all the other remaining production units will also be taken over by the Indian Railway Rolling Stock Company in a phased manner.

The MCF in Rae Bareli was declared a Production Unit of Indian Railways in July 2014 and within a month, the factory started the production of fully formed coaches. A press release issued by the Railway Ministry, earlier this year stated that under ‘Make in India’ initiative, new concepts such as extensive use of Robotics, automation etc. are also being implemented in the MCF. Moreover, new generation safer LHB coaches are being manufactured in the factory, contributing to railways and passengers safety.

3 Public Posts - Sat Jun 22, 2019

  
797 views
Jun 22 (20:13)
First journey in LHB SL ✌🙌^~   5120 blog posts   132 correct pred (84% accurate)
Re# 4349286-4            Tags   Past Edits
Uday and tejas ka concept hi bekar hai, jab indian railways capable hai train sets banane ke liye to baki kisi tamjham ki jaroorat hi nahi and yes antyodaya aur jyada chalni chhahiye important routes pe

  
765 views
Jun 22 (21:45)
SFs should have min 60 avg speed~   121 blog posts   4 correct pred (100% accurate)
Re# 4349286-5            Tags   Past Edits
Unka Management tho kabhi theek nai hoga.
This is a good idea as we will have access to latest technolozies in the rolling stock.

  
579 views
Jun 23 (10:54)
Balgobind Mishra~   1223 blog posts   95 correct pred (77% accurate)
Re# 4349286-6            Tags   Past Edits
UDAY ka Concept to bekar tha...But Tejas ka Concept Fruitful tha... Kyunki pahli baar es train me Automatic Doors ki suvidha ka Implementation hua ...Jiske Proggressive Phase me Baad me T-18 ka Concept aaya...ye ek Progressive Move tha Resultant T-18 & T-19 Concept aaya....👍👍👍

  
555 views
Jun 23 (11:55)
First journey in LHB SL ✌🙌^~   5120 blog posts   132 correct pred (84% accurate)
Re# 4349286-7            Tags   Past Edits
Implementation ki kami nazar aayi tejas me
Jis hisab se socha gaya tha us hisab se ahi chal payi and atleast suresh prabhu ne kuch naya karne ki koshish to ki

  
443 views
Jun 23 (22:09)
Balgobind Mishra~   1223 blog posts   95 correct pred (77% accurate)
Re# 4349286-8            Tags   Past Edits
Agreed Brother...
Wahi baat main kah raha hoon... Technological Upgradation ek Progressive Move hai...Jisme Better Than Best ki khoj hoti rahti hai...Aaj ki T-18 Tejas Ka Progressive Result hai...
Ab Railway ko sirf ye Rolling Stock par Focus karna chahiye...Aur 2030 tak Indian Railway ko Self Propelled Rolling Stock par Convert kar dena chahiye...
👉LHB Coaches
👉T-18/T-19
...
more...

👉Atyodaya
👉Hamsafar
  
Jun 21 (20:14) दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे, रायपुर रेल मंडल के रायपुर, दुर्ग, भिलाई पावर हाउस और तिल्दा स्टेशन में मुफ्त वाई-फाई की सुविधा से यात्री हो रहे लाभांवित रायपुर रेल मंडल के अन्य 24 स्टेशनों पर जल्द मुफ्त वाई-फाई की सुविधा (secr.indianrailways.gov.in)
New Facilities/Technology
SECR/South East Central
IR Press Release
0 Followers
1513 views

News Entry# 384766  Blog Entry# 4348874   
  Past Edits
Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Keoti/KETI added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Bhanupratappur/BPTP added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Gudum/GUDM added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Dalli Rajhara/DRZ added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Kusumkasa/KYS added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Balod/BXA added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Latabor/LBO added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Gundardehi/GDZ added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Risama/RSA added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Marauda/MXA added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Bhilai Nagar/BQR added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Bhilai/BIA added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Kumhari/KMI added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Lakholi/LAE added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Mandir Hasaud/MNDH added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Urkura/URK added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Mandhar/MDH added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Siliari/SLH added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Hathbandh/HN added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Bhatapara/BYT added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Nipania/NPI added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Dagori/DGS added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Belha/BYL added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (20:14)
Station Tag: Dadhapara/DPH added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309
भारतीय रेलवे ने माननीय प्रधानमंत्री की डिजिटल इंडिया पहल को पूरा करने के लिए प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर रेल उपयोगकर्ताओं, यात्रियों को वाई-फाई ब्रॉडबैंड सुविधा प्रदान करने का निर्णय लिया। इसके लिए रेलटेल ने रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों के उपयोग के लिए तीव्र वाई-फाई प्रदान करने का बीड़ा उठाया है। रेलटेल ने तेजी से वाई-फाई नेटवर्क स्थापित करने के लिए प्रौद्योगिकी साझेदार के रूप में गूगल से जुड़ा है । रेलटेल का खुदरा ब्रॉडबैंड वितरण मॉडल ’रेलवायर’ के द्वारा उपयोगकर्ताओं को सर्वश्रेष्ठ इंटरनेट अनुभव के तहत यात्रियों को वाई-फाई सेवाएं, प्रदान की जा रही है। रेलवायर वाई-फाई किसी भी उपयोगकर्ता के लिए उपलब्ध होगा जिसके पास स्मार्टफोन पर काम करने वाला मोबाइल कनेक्शन है।

रेलवे
...
more...
स्टेशन वे स्थान हैं जहाँ समाज का सभी वर्ग के लोगो का आवागमन है। यह पहल डिजिटल विभाजन को दृश्टिगत रखते हुए पुल का काम करने और स्थानीय रेल ऑपरेटरों के वित्तीय समावेशन के साथ सभी रेल उपयोगकर्ताओं को उच्च गति एक्सेस नेटवर्क प्रदान करने का हिस्सा है। यह सुविधा हमारे रेल यात्रियों को ट्रेन के इंतजार के दौरान ट्रेन परिचालन की जानकारी प्रदान करेगी। वे हाई डेन्सिटी वाले वीडियो स्ट्रीमिंग के लिए भी इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं, अपने कार्यालय आदि का काम ऑनलाइन कर सकते हैं ।

एक बार लागू होने के बाद यह दुनिया की सबसे बड़ी सार्वजनिक वाई-फाई परियोजना में से एक होगी। वाई-फाई सेवा रेलवे स्टेशन पर यात्रियों द्वारा निर्बाध उच्च विक्षेपण(डेफीनेशन) वीडियो, फिल्में, गाने, गेम डाउनलोड एवं देखने के लिए तेज गति कनेक्टिविटी प्रदान करेगी। यह सुविधा 1जीबी पीएस हाई स्पीड इंटरनेट बैंडविथ के साथ दी गई है और अधिकतम 200 लोगों को एक एक्सेस प्वाइंट के साथ जोड़ा जा सकता है।

रेलटेल द्वारा रायपुर मंडल में रायपुर, दुर्ग, भिलाई पावर हाउस और तिल्दा स्टेशन पर निरंतर वाई-फाई सेवाएं प्रदान की गई हैं। रायपुर में 49 एक्सेस प्वाइंट के साथ 9600 लोग, दुर्ग में 24 एक्सेस प्वाइंट के साथ 4800 लोग, भिलाई पावर हाउस में 18 एक्सेस प्वाइंट के साथ 3600 लोग और तिल्दा में 2 एक्सेस प्वाइंट के साथ 400 लोग एक समय में कनेक्ट हो सकते हैं।

इसके अलावा, टाटा ट्रस्ट द्वारा 24 स्टेशनों पर रेलटेल की देखरेख में वाई-फाई की सुविधा प्रदान की जाएगी। यह स्टेशन दाधापारा, बिल्हा, दगोरी, निपनिया,भाटापारा, हथबंद, सिलयारी, मॉढर, उरकुरा, मंदिरहसौद, लखौली, कुम्हारी, भिलाई, भिलाई नगर, मरौदा, रिसामा, गुंडरदेही, लाटाबोड, बालोद, कुसुमकसा, दल्लीराजहरा, गुदुम, भानूप्रतापपुर,केंवटी है।

रेलवे स्टेशनों में मुफ्त गूगल रेलवायर वाईफाई सक्रिय करने के लिए चरण।

चरण 1. उपलब्ध नेटवर्क खोजने के लिए अपनी वाईफाई सेटिंग्स खोलें
चरण 2. रेलवायर नेटवर्क का चयन करें और उस पर टैप करें।
चरण3. अपना इंटरनेट ब्राउजर खोलें और एड्रेस बार में railwire.co.in टाइप करें।
चरण 4.जब आप लिंक पर क्लिक करेंगे, तो आप उस पृष्ठ पर निर्देशित होंगे जहां आपका फोन नंबर पूछा
जाएगा।
चरण 5.अपना 10 अंकों का फोन नंबर दर्ज करें।
चरण 6.आप तुरंत अपने नंबर पर एक एसएमएस प्राप्त करेंगे। यह एक ओटीपी होगा जो आपके नंबर पर भेजा जाता
है । यह ओटीपी जो आपको मिला वह रेलवायर को जोड़ने का पासवर्ड है।
चरण7. लॉगइन पेज पर जाएं और पासवर्ड की जगह ओटीपी डालें।
चरण 8 आप सफलतापूर्वक रेलवायर से जुड़े हुए हैं और पहले 30 मिनट के लिए इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं।
आप 30 मिनट के बाद रेलवायर इंटरनेट का उपयोग पुनः कर सकते हैं ।

..............................
  
Jun 21 (16:18) गीतांजलि में आधी रात प्रेशर लीकेज दो बार लगी आग, दहशत में रहे यात्री (www.bhaskar.com)
Crime/Accidents
SECR/South East Central
0 Followers
512 views

News Entry# 384752  Blog Entry# 4348731   
  Past Edits
Jun 21 2019 (16:19)
Station Tag: Dongargarh/DGG added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (16:19)
Station Tag: Raipur Junction/R added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (16:19)
Station Tag: Bilaspur Junction/BSP added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (16:19)
Station Tag: Dagori/DGS added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 21 2019 (16:19)
Station Tag: Nipania/NPI added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309
हावड़ा से मुंबई जा रही गीतांजलि एक्सप्रेस बीती रात एयर प्रेशर लीकेज होते ही दगोरी-निपनिया के बीच शिवनाथ नदी के पुल पर खड़ी हो गई। अंधेरे में गार्ड ने फाल्ट खोजकर उसे सुधारा। 45 मिनट बाद ट्रेन आगे बढ़ी। रास्ते में ट्रेन के नीचे गार्ड ट्राली में दो बार आग भी लगी लेकिन सतर्कता से काबू पा लिया गया। यात्रियों रात दहशत में कटी। हावड़ा-मुंबई गीतांजलि एक्सप्रेस क्रमांक 12860 नई एलएचबी रैक के साथ बुधवार की रात 1.10 बजे बिलासपुर से रायपुर की ओर रवाना हुई। मिडिल लाइन पर ट्रेन पूरी रफ्तार से दगोरी रेलवे स्टेशन पार कर शिवनाथ नदी के पुल पर पहुंची। इंजन सहित 7-8 कोच पुल पार कर पाए थे कि ट्रेन रुक गई। 15 से 16 कोच नदी पर पुल पर थे। गार्ड और पायलट को लगा कि किसी ने चेन पुलिंग की है। गार्ड सत्येंद्र सिन्हा को एयर लीकेज सुनाई दी। उन्होंने तत्काल वाकीटॉकी के जरिए...
more...
लोको पायलट को बताया। ट्रेन का प्रेशर लीकेज होकर पुल पर खड़े होने की सूचना लोको पायलट ने रेलवे कंट्रोल रूम को दी। गार्ड ने हिम्मत दिखाई और टार्च के सहारे गार्ड केबिन के सामने वाली जनरल बोगी के तक पहुंचे। उन्होंने देखा कि प्रेशर पाइप में डिस्टीब्यूटर वाल के पास लगा कॉक ढीला हो गया है प्रेशर वहीं से लीकेज हो रहा। कोच के नीचे गए और कॉक को बंद किया। ट्रेन पुल पर खड़ी थी इसलिए पटरियों के बीच का हिस्सा खुला-खुला था। वहां से निकलकर वे अपने केबिन तक पहुंचे ओर प्रेशर चेक किया तो प्रेशर आने लगा। प्रेशर आते ही ट्रेन के सभी कोच के चक्को का ब्रेक धीरे-धीरे ढीला हुआ। 45 मिनट बाद ट्रेन वहां से आगे बढ़ी।

गार्ड ने कॉक बंद किया, समय पर बुझा ली आग
डोंगरगढ़ के आगे फिर रुकी तो हंगामा

डोंगरगढ़ स्टेशन के बाद ट्रेन पनियाजोब पार कर रही थी तभी स्टेशन मास्टर को गार्ड ट्राली के नीचे आग दिखाई दी। उन्होंने वॉकी टॉकी पर लोको पायलट को सूचित कर ट्रेन रुकवाई। ट्रेन रुकी तो फाइबर का ब्रेक शू जल रहा है। उसे पानी डालकर बुझाया गया। इसी दौरान ट्रेन के सभी यात्री नीचे उतरकर हंगामा करने लगे। आग पर काबू पाते ही यात्रियों को समझा बुझाकर ट्रेन में चढ़ाया गया। यहां भी ट्रेन 25 मिनट खड़ी रही। लोको पायलट, सहायक लोको पायलट और गार्ड जब संतुष्ट हो गए कि आग पूरी तरह से बुझ गई है तब उन्होंने ट्रेन को आगे बढ़ाया। उस समय सुबह 4 बजे थे। ट्रेन 1.45 घंटे विलंब से नागपुर पहुंची।

शुक्र है जनरेटर तक नहीं पहुंची आग
यह आग गार्ड केबिन की ट्राली के नीचे हिस्से में लगी थी। चूंकि एलएचबी कोच में गार्ड का केबिन जिसे एसएलआर की जगह डब्ल्यूएलआरआरएम कहा जाता है वह जनरेटर से जुड़ा हुआ है। आग अगर जनरेट पर लग जाती तो बड़ा हादसा होने से नहीं बचाया जा सकता था। पूरी की पूरी ट्रेन आगे की चपेट में आ जाती।

अप लाइन पर आते ही ट्रेन रोक दी गई
दहशत अभी खत्म भी नहीं हुई थी कि गार्ड सत्येंद्र सिन्हा को बड़े खतरे का आभाष हुआ। उन्हें किसी चीज के जलने की बू आई और नीचे की तरफ पटरियों में रोशनी दिखाई पड़ी। इस बीच ट्रेन निपनिया स्टेशन पार कर भाटापारा की ओर बढ़ रही थी। केबिन से निकलकर उन्होंने देखा कि उनकी ट्राली वाले हिस्से में ही नीचे कुछ जल रहा। उस समय ट्रेन मिडिल लाइन से अप लाइन में शिफ्ट हाे रही थी। उन्होंने लोको पायलट को सूचित किया। अप लाइन पर आते ही ट्रेन रोकी गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक ट्रेन में रखे तीन फायर इस्टिंग्यूशर के इस्तेमाल के बाद भी आग नहीं बुझी। तब पानी डालकर आग बुझाई गई। आग गार्ड ट्राली के नीचे फाइबर ब्रेक शू में लगी थी। प्रेशर रिलीज होने के बाद वह फ्री नहीं हो पाया था। उसे अलग कर ट्रेन को आगे बढ़ाया गया। ट्रेन यहां पर 30 मिनट खड़ी रही। इसके बाद ट्रेन को भाटापारा, रायपुर और दुर्ग रेलवे स्टेशन में अच्छी तरह से जांच करके आगे रवाना किया गया। ट्रेन लगभग डेढ़ घंटे लेट हो चुकी थी। दुर्ग से छूटने के बाद ट्रेन अपनी पूरी गति से चल रही थी।
  
Jun 19 (21:17) रेलवे का बड़ा निर्णय, MP के इस स्टेशन पर अब नहीं रुकेंगी दो एक्सप्रेस ट्रेन (m.patrika.com)
IR Affairs
WCR/West Central
0 Followers
3572 views

News Entry# 384626  Blog Entry# 4347323   
  Past Edits
Jun 19 2019 (21:17)
Station Tag: Dr. Ambedkar Nagar (Mhow)/DADN added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 19 2019 (21:17)
Station Tag: Indore Junction/INDB added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 19 2019 (21:17)
Station Tag: Katni Junction/KTE added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 19 2019 (21:17)
Station Tag: Katni Murwara/KMZ added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 19 2019 (21:17)
Train Tag: Dr. Ambedkar Nagar - Rewa Express/11704 added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309

Jun 19 2019 (21:17)
Train Tag: Shipra Express/22911 added by First journey in LHB SL ✌🙌^~/1769309
इंदौर. इंदौर रेलवे स्टेशन से कटनी जाने वाली शिप्रा एक्सप्रेस और महू-रीवा एक्सप्रेस का 2 जुलाई से कटनी स्टेशन पर ठहराव नहीं रहेगा। ये दोनों ट्रेनें कटनी स्टेशन करीब 2 किमी पहले कटनी-मुड़वारा स्टेशन पर 10 मिनट के लिए रुकेगी। कटनी स्टेशन पर गाडिय़ों के भीड़-भाड़ को ध्यान में रखते हुए और गाडिय़ों की समय पालनता को बढ़ाने के उद्देश्य से रेलवे ने यह बड़ा निर्णय लिया है।

महू व इंदौर से चलने वाली दो जोड़ी ट्रेन को कटनी स्टेशन के स्थान पर कटनी-मुड़वारा स्टेशन पर ठहराव दिया जाएगा। 2
...
more...
जुलाई से महू-रीवा एक्सप्रेस सुबह 8.45 बजे कटनी मुड़वारा स्टेशन पर रुकेगी और 8.55 बजे रीवा के लिए रवाना होगी। इंदौर-हावड़ा शिप्रा एक्सप्रेस सुबह 10.40 बजे मुड़वारा स्टेशन पहुंचेगी और 10.50 बजे हावड़ा के लिए रवाना होगी। रीवा से इंदौर की ओर आने वाला ट्रेन रात 2 बजे मुड़वारा स्टेशन पहुंचेगी और 10 मिनट बाद इंदौर रवाना हो जाएगी। इंदौर आने में शिप्रा दोपहर 1.05 बजे मुड़वारा स्टेशन पहुंचेगी और १.१५ बजे रवाना होगी। यह दोनों ट्रेनें ही 2 जुलाई से कटनी स्टेशन पर नहीं रुकेंगीं।

इंदौर स्टेशन से मिलना चाहिए हैरिटेज ट्रेन के टिकट

शहर में बारिश का दौर शुरू हो चुका है। महू से पातालपानी और कालाकुंड के बीच चल रही हैरिटेज ट्रेन में अब यात्री सख्या में तेजी से इजाफा होगा। जुलाई माह में ट्रेन टिकट काउंटर खुलते ही बुक हो जाएगी। कई यात्री जो कई किमी दूर से इस ट्रेन का सफर करने के लिए पहुंचते हैं, उन्हें टिकट नहीं मिलने के कारण वापस लौटना पड़ता है इसलिए अब मंाग उठने लगी है कि इस ट्रेन के टिकट महू के साथ इंदौर रेलवे स्टेशन से भी जारी किए जाएं। क्षेत्रीय रेल उपयोगकर्ता परामर्शदात्री समिति सदस्य जगमोहन वर्मा ने बताया कि हैरिटेज ट्रेन के महू से अपर क्लास का 240 रुपए के 12 टिकट, 200 रुपए की कुछ टिकट ऑनलाइन ही बुक हो जाते हैं, लेकिन 20 रुपए वाले 160 जनरल टिकट महू स्टेशन से ही लेना पड़ते हैं। करंट टिकट 20 रुपए वाला नहीं मिलने पर इन्दौर व आसपास से जाने वाले पर्यटक यात्री हताश व परेशान हो जाते हैं, इसलिए हमने सांसद शंकर ललवानी के द्वारा महाप्रबंधक एवं डीआरएम से मांग की है कि हैरिटेज ट्रेन के 20 रुपए वाले जनरल टिकट इंदौर स्टेशन से भी उपलब्ध कराएं ताकि पर्यटक यात्री परेशान न हों।

सुबह से जाना पड़ता है महू
छुट्टियों के दिनों में अगर इस हैरिटेज ट्रेन का सफर करना है तो यात्रियों को सुबह ८ बजे से ही महू स्टेशन के बुकिंग काउंटर पर कतार में लगना पड़ता है, क्योंकि एक घंटे में ही सारे टिकट फुल बिक जाते हैं। इंदौर व अन्य शहरों से जाने वाले यात्रियों को सुबह टिकट लेने के बाद तीन घंटे तक ट्रेन का इंतजार करना पड़ता है।

  
Rail News
1443 views
Jun 19 (23:50)
® राहुल जैन ™18 🚅🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🛌 ☺ Chai Wal*^~   14756 blog posts   14940 correct pred (63% accurate)
Re# 4347323-1            Tags   Past Edits
great
  
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अफसर कोरबा रेलवे स्टेशन से महज वाहवाही लूटने का काम कर रहे हैं। इसमें यात्री सुविधाओं का जहां दरकिनार किया जा रहा वहीं कोल परिवहन के लिए नित नए आयाम गढ़े जा रहे हैं।

आज से 32 साल पहले ही कोरबा रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन का नाम मिल गया था, लेकिन उसके अनुरूप सुविधाएं अब तक नहीं दी जा रही। रेलवे के आला अफसर भी यात्रियों की सुविधा को दरकिनार करते जा रहे हैं। जिला चेंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के उपाध्यक्ष व रेल
...
more...
मामलों के जानकार रामकिशन अग्रवाल ने बताया कि अफसर अपनी तरक्की के लिए रेलवे स्टेशन कोरबा को मॉडल बनने के बाद आदर्श स्टेशन का दर्जा दे चुके हैं। परन्तु आदर्श स्टेशन में जो सुविधा होनी चाहिए वह कोसों दूर है। उन्होंने बताया कि जिस रेलवे स्टेशन को मॉडल का दर्ज मिल चुका हो उसे आदर्श स्टेशन के रूप में उन्नयन करने की जरूरत क्यों पड़ रही। मॉडल स्टेशन के लिए जरुरी सुविधाएं रेलवे अगर देता तो इसकी शायद जरूरत ही नहीं पड़ती। उन्होंने बताया कि 4 अक्टूबर 1986 को रेल राज्यमंत्री माधवराव सिंधिया (अब स्वर्गीय) ने अपने कोरबा प्रवास के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए कोरबा रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन घोषित किया था। इस कार्यक्रम में अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा विशेष रूप से शामिल थे। कार्यक्रम था साकेत भवन का उद्घाटन समारोह। इस घोषणा के बाद तीन चरण में स्टेशन में विकास कार्य होना था, लेकिन पहले चरण के बाद घोषणा ठप सी हो गई है।

तीन चरण में होना था काम, अब तक कोलकाता रूट से नहीं जुड़ सका
घोषणा पर रेल अफसरों ने किया अमल

मॉडल स्टेशन बनाने की घोषणा के 5 माह बाद ही दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक अनूप सिंह 27 फरवरी 1987 को कोरबा रेलवे स्टेशन पहुंचकर यहां मॉडल स्टेशन भवन के प्रथम चरण के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। 3 साल तक चले निर्माण कार्य के पूर्ण होने पर 22 फरवरी 1990 को दक्षिण पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक रहे चांदमोहन खोसला के हाथों उद्घाटन कराया गया।

दो चरण का अता-पता नहीं
रेल राज्यमंत्री रहे माधवराव सिंधिया ने 1986 में अपने दौरे के दौरान मॉडल स्टेशन बनाने की घोषणा की थी। साथ ही यह भी कहा था कि मॉडल स्टेशन का स्वरूप देने रेलवे तीन चरण में काम पूरा करेगा। लेकिन प्रथम चरण का काम पूरा होने के बाद दूसरे व तीसरे चरण का काम रेलवे ने कब और किस रूप में कराया यह किसी को नहीं मालूम।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अफसर कोरबा रेलवे स्टेशन से महज वाहवाही लूटने का काम कर रहे हैं। इसमें यात्री सुविधाओं का जहां दरकिनार किया जा रहा वहीं कोल परिवहन के लिए नित नए आयाम गढ़े जा रहे हैं।

आज से 32 साल पहले ही कोरबा रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन का नाम मिल गया था, लेकिन उसके अनुरूप सुविधाएं अब तक नहीं दी जा रही। रेलवे के आला अफसर भी यात्रियों की सुविधा को दरकिनार करते जा रहे हैं। जिला चेंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के उपाध्यक्ष व रेल मामलों के जानकार रामकिशन अग्रवाल ने बताया कि अफसर अपनी तरक्की के लिए रेलवे स्टेशन कोरबा को मॉडल बनने के बाद आदर्श स्टेशन का दर्जा दे चुके हैं। परन्तु आदर्श स्टेशन में जो सुविधा होनी चाहिए वह कोसों दूर है। उन्होंने बताया कि जिस रेलवे स्टेशन को मॉडल का दर्ज मिल चुका हो उसे आदर्श स्टेशन के रूप में उन्नयन करने की जरूरत क्यों पड़ रही। मॉडल स्टेशन के लिए जरुरी सुविधाएं रेलवे अगर देता तो इसकी शायद जरूरत ही नहीं पड़ती। उन्होंने बताया कि 4 अक्टूबर 1986 को रेल राज्यमंत्री माधवराव सिंधिया (अब स्वर्गीय) ने अपने कोरबा प्रवास के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए कोरबा रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन घोषित किया था। इस कार्यक्रम में अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा विशेष रूप से शामिल थे। कार्यक्रम था साकेत भवन का उद्घाटन समारोह। इस घोषणा के बाद तीन चरण में स्टेशन में विकास कार्य होना था, लेकिन पहले चरण के बाद घोषणा ठप सी हो गई है।

आज तक नहीं जुड़ सका हावड़ा रूट से कोरबा
यह विडंबना है कि जिस कोरबा की बदौलत बिलासपुर जोन राजस्व के मामले में अग्रणी है उसे पीछे धकेला जा रहा है। यात्री ट्रेनों को समय पर नहीं चलाना, बिना घोषणा के बंद करना, एक्सप्रेस के यात्रियों को मेमू लोकल में सफर करने बाध्य करना रेल मंडल बिलासपुर के अफसरों की आदत है। 1961 से रेल सेवा से जुड़ने के बाद कोरबा के लोग हावडा रूट से नहीं जुड़े हैं। इस रूट के लिए चांपा से ट्रेन पकड़ना पड़ता है।

मॉडल को भूलकर सांसद से करा दिया उन्नयन
मॉडल स्टेशन की घोषणा 32 साल पहले हुई थी। लेकिन स्टेशन में मॉडल जैसी सुविधाएं दूर-दूर तक नजर नहीं आती हैं। इसके बाद भी रेलवे के आला अफसर 1 जून 2016 को सेकेंड एंट्री की सुविधा देने के नाम पर कोरबा स्टेशन को आदर्श स्टेशन के रूप में उन्नयन की घोषणा कर उसका उद्घाटन तत्कालीन सांसद डॉ. बशीलाल महतो, विधायक जयसिंह अग्रवाल की उपस्थिति में करा लिया गया।

बढ़ रही यात्री सुविधा
रेलखंड कोरबा के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह ने बताया कि यात्री सुविधाएं बढ़ रही हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए कुछ प्रस्ताव डिवीजन को भेजे गए हैं। इसमें पिटलाइन, सेकेंड एंट्री जैसे दो बड़े प्रोजेक्ट भी शामिल हैं। रेल सुविधा का भी विस्तार हुआ है। सुरक्षागत कारणों से ट्रैक मेंटेनेंस का काम चल रहा है। शीघ्र ही यात्री ट्रेनें समय पर चलने लगेंगी।

जोन भी बदल गया लेकिन विकास की गति धीमी
जब घोषणा मॉडल स्टेशन को लेकर की गई थी तब कोरबा कोलकाता रेलवे जोन (दपूरे) के अधीन था। अब बिलासपुर जोन के अधीन है। स्टेशन पर विकास को लेकर तुलना करें तो दक्षिण पूर्व रेलवे के अधीन रहने के समय कोरबा स्टेशन का अधिक विकास हुआ, जबकि बिलासपुर जोन बनने के बाद विकास की गति दोगुनी होने की उम्मीद थी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।
Page#    340 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy