Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 Bookmarks
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Tamil Nadu Express - தங்களை அன்புடன் வரவேற்கிறது - Swaroop Kutti

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Sat Sep 25 08:04:27 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Advanced Search

News Posts by Vcpl Jbp

Page#    Showing 1 to 5 of 1933 news entries  next>>
जबलपुर. पश्चिम मध्य रेल महाप्रबंधक शैलेन्द्र कुमार सिंह के कुशल मार्गदर्शन और मण्डल रेल प्रबंधक के नेतृत्व में वाणिज्य विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी गैर-किराया राजस्व के तहत नई अभिनव गैर किराया राजस्व विचार योजना को कार्यान्वित करके अतिरिक्त आय अर्जित करने में उल्लेखनीय कदम बढ़ा रहे हैं. इस रेल कोच रेस्टॉरेंट में रेल उपयोगकर्ताओं के साथ- साथ आम जनता को भी उच्च गुणवत्ता वाली चौबीसों घंटे भोजन सेवा प्रदान करेगी और पर्यटन को भी आकर्षित करेगी.

इसी दिशा में कार्य करते हुए पमरे के जबलपुर और भोपाल मण्डलों ने 07 प्रमुख
...
more...
स्टेशनों पर रेल कोच रेस्टॉरेंट स्थापित करने के लिए अनुबंधों को अंतिम रूप दिया गया है. रेलवे स्टेशनों पर रेल कोच रेस्टोरेंट स्थापित करने के लिए खुली निविदा के माध्यम से गैर-किराया राजस्व नीति के तहत इन अनुबंधों को अंतिम रूप दे दिया गया है. यह रेल उपयोगकर्ताओं और आम जनता को एक नया अनुभव देगा और शहर को एक नयी पहचान भी मिलेगी. लाइसेंसधारी द्वारा पुराने कोच को नवीनीकरण कर की रेल कोच रेस्टॉरेंट में तब्दील किया जायेग. यह कोच रेलवे के सम्पति के रूप में रहेंगे. यह अनुबंध 5 साल की अवधि के लिए रहेगा. प्रत्येक स्थान पर 1200 वर्गफुट क्षेत्र उपलब्ध कराया गया है. इससे पश्चिम मध्य रेलवे को रुपए 4.80 करोड़ गैर-किराया राजस्व की अतिरिक्त आय होगी.

इन स्टेशनों में खुलेगा रेस्टारेंट

गैर किराया राजस्व योजना के तहत जबलपुर मण्डल ने जबलपुर, मदनमहल, कटनी मुड़वारा, सतना और रीवा स्टेशनों के सर्कुलेटिंग एरिया में रेल कोच रेस्टॉरेंट के लिए अनुबंध करके अंतिम रूप दिया गया. इस अनुबंध के 05 वर्ष की अवधि के लिए रेलवे को रुपये 3.33 करोड़ गैर किराया राजस्व प्राप्त होगा. इस रेल कोच रेस्टॉरेंट में रेल उपयोगकर्ताओं के साथ- साथ आम जनता को भी उच्च गुणवत्ता वाली चौबीसों घंटे भोजन सेवा प्रदान करेगी और पर्यटन को भी आकर्षित करेगी.
नई दिल्ली. नए रेल मंत्री के पद संभालने के बाद रेलवे में जहां पिछले दिनों बड़े लेवल पर जोनल रेलवे महाप्रबंधकों और डिविजनल रेलवे मैनेजरों का ट्रांसफर कर सिस्टम को मजबूत करने की दिशा में कदम उठाए गए थे. वहीं रेलवे में सिक्युरिटी फोर्स (आरपीएफ) में किसी भी लेवल पर होने वाले करप्शन पर लगाम लगाने की सभी संभावनाओं को समाप्त करने के लिए बड़ा कदम उठाया जा रहा है. रेल मंत्रालय की ओर से इस संबंध में आदेश जारी किए गए हैं, जिनको सभी प्रिंसिपल चीफ सिक्युरिटी कमिश्नर्स/आरपीएफ को सख्ती से लागू कराना अनिवार्य होगा.

आरपीएफ
...
more...
महानिदेशक की ओर से सभी प्रिंसिपल चीफ सिक्युरिटी कमिश्नर्स/आरपीएफ को सिक्युरिटी सर्कलुर जारी किया गया है. ट्रेन एस्कॉर्ट से लेकर पेट्रोलिंग ड्यूटी और पब्लिक कॉन्टेक्ट ड्यूटी से पहले रजिस्टर एवं मूवमेंट ऑर्डर में प्राइवेट कैश डिक्लेरेशन को अनिवार्य करने के आदेश दिए गए हैं.

आरपीएफ महानिदेशक कुमार राजेश चंद्रा की ओर से जारी किए गए आदेशों में साफ और स्पष्ट किया गया है कि रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे सुरक्षा विशेष बल के जवान जब अपनी ड्यूटी ज्वाइन करेंगे तो इससे पहले उनको अपना प्राईवेट कैश की घोषणा करना अनिवार्य होगा. महानिदेशक की ओर से जारी किए सिक्युरिटिी सर्कुलर का अनुपालन कराने का सख्त आदेश सभी जोनल रेलवे, आरपीएसएफ, मेट्रो रेल/कोलकाता और कोंकण रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अलावा सभी प्रोडेक्शन यूनिट्स, कोर, कंस्ट्रक्शन, आरडीएसओ के साथ-साथ निदेशक/जेआर आरपीएफ अकेडेमी/लखनऊ और निदेशक/आरपीएफ ट्रेनिंग सेंटर, एमएलवाई व केजीपी के सभी ंिप्रसिपल चीफ सिक्युरिटी कमिश्नर्स को दे दिए गए हैं.
नई दिल्ली. केंद्र भारतीय रेलवे को पेशेवर बनाने इसे एक आत्मनिर्भर संगठन बनाने की कवायद के तहत रेल मंत्रालय के तहत काम करने वाली कंपनियों के बड़े पुनर्गठन की योजना बना रहा है. इस पहल के हिस्से के रूप में, रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल) को इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड (इरकॉन) रोलिंग स्टॉक इकाई ब्रेथवेट एंड कंपनी लिमिटेड (बीसीएल) को रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनॉमिक सर्विस (राइट्स) में विलय करने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है.

प्रस्ताव वित्त मंत्रालय के प्रमुख आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल द्वारा एमओआर के तहत सरकारी
...
more...
निकायों के युक्तिकरण शीर्षक वाली एक रिपोर्ट में दी गई सिफारिशों के एक समूह का हिस्सा हैं. कैबिनेट सचिवालय द्वारा तत्काल कार्रवाई के लिए रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को भेज दी गई है.

सान्याल ने अपनी रिपोर्ट में आरवीएनएल के इरकॉन के साथ उनके संचालन में समानता के कारण विलय की सिफारिश की है. इरकॉन एक विशिष्ट बुनियादी ढांचा निर्माण कंपनी है, जबकि आरवीएनएल रेलवे बुनियादी ढांचे की क्षमता के निर्माण वृद्धि से संबंधित परियोजनाओं को फास्ट ट्रैक आधार पर कार्यान्वित करता है. इरकॉन आरवीएनएल दोनों के समान व्यावसायिक कार्य हैं: रेलवे के बुनियादी ढांचे का निर्माण, जबकि इरकॉन निजी अनुबंधों के लिए बोली लगाता है महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिति रखता है. आरवीएनएल भारतीय रेलवे (आईआर) के उप-ठेकेदार के रूप में कार्य करता है.

दूसरी ओर, सान्याल ने सिफारिश की है कि राइट्स बीसीएल का अधिग्रहण करे क्योंकि दोनों रोलिंग स्टॉक के निर्माण निर्यात में हैं बीसीएल पिछले दो वर्षों से लाभदायक होने के साथ, दोनों संस्थाओं के सहक्रियात्मक संचालन राइट्स को अपने वैश्विक पदचिह्न् का विस्तार करने के लिए आवश्यक पैमाना देंगे. राइट्स पहले से ही चल स्टॉक का निर्यात कर रहा है परामर्श सेवाएं प्रदान कर रहा है.

आईआर का पुनर्गठन तीन अलग-अलग संगठनों के एक समूह के माध्यम से संचालित किए जा रहे अपने आईटी संचालन को भी देखेगा. इनमें इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉपोर्रेशन (आईआरसीटीसी), रेलटेल कॉपोर्रेशन सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम (क्रिस) शामिल हैं. आईआरसीटीसी को अपना सारा काम सौंपने के बाद क्रिस को बंद करने फिर रेलटेल को आईआरसीटीसी के साथ मिलाने की सिफारिश की गई है. रेलवे के पुनर्गठन पर विवेक देबरॉय समिति (2015) ने भी रेलवे में सभी आईटी पहलों के एकीकरण की सिफारिश की थी. सान्याल समिति ने आठ अलग-अलग सुविधाओं का एक सेट होने के बजाय रोलिंग स्टॉक इंजनों के निर्माण के लिए भारतीय रेल में एक सार्वजनिक क्षेत्र की सिफारिश की है.
जबलपुर. पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर रेल मंडल के न्यू कटनी जंक्शन (एनकेजे) स्थित कैरिड एंड वैगन डिपो में मंडल यांत्रिक अभियंता (डीएमई) अनुराग पाण्डे ने कर्मचारियों को कामचोर व देशद्रोही करार दिया. जिसकी तीखी प्रतिक्रिया आज शनिवार 18 सितम्बर को हुई. वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन (डबलूसीआरईयू) के तत्वावधान में कर्मचारियों ने कामबंद करते अफसर (डीएमई) का घेराव करते हुए प्रदर्शन किया.


...
more...

बताया जाता है कि 1 दिन पहले स्वच्छता के कार्यक्रम के दौरान भाषण देते हुए कटनी डीएमई अनुराग पांडे द्वारा अपने कैरिज एवं वैगन न.क.ज के रेल कर्मचारियों को कहा कि आप सभी कर्मचारी और सुपरवाइजर कामचोर हैं और कर्मचारियों के लिए देशद्रोही जैसी भाषा का प्रयोग किया. इस बात पर वहां पर सभी कर्मचारियों ने अधिकारी का मान रखते हुए कार्यक्रम के दौरान कुछ नहीं कहा, लेकिन बाद में सभी कर्मचारियों ने एक होकर इस बात को डबलूसीआरईयू प्रतिनिधियों को अवगत कराया कि हमारे अधिकारी के मन में हमारे प्रति इस प्रकार का विद्वेष भरा है कि वह हमें कामचोर और देशद्रोही कह रहे हैं. इस बात को लेकर आज कटनी डबलूसीआरईयू प्रतिनिधियों ने और कर्मचारियों ने हल्ला बोल दिया.



अधिकारी के चेंबर पर जाकर मुर्दाबाद के नारे भी लगाए. रेल और काम बंद भी किया गया. इसके बाद पदाधिकारियों से चर्चा के बाद डीएमई ने कहा कि मेरे मुंह से गलत बयान निकल गया मैं. इसके लिए माफी चाहता हूं, तब जाकर कर्मचारी वापस अपने काम पर लौटे. प्रदर्शन में कितनी डबलूसीआरईयू की 5 पांचों शाखाओं के पदाधिकारी एवं कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित रहे. वहीं इस मामले में डबलूसीआरईयू के जबलपुर मंडल सचिव नवीन लिटोरिया ने कहा कि हमारे कर्मचारी चौबीसों घंटे, विषम परिस्थितियों में सुरक्षित रेल संचालन के लिए जी-जान मेहनत करते हैं, ऐसे में उन्हें कामचोर व देशद्रोही कहा जाना दुर्भाग्यपूर्ण है. हम कर्मचारियों के प्रति ऐसी मानसिकता रखने वाले किसी भी अधिकारी को बर्दाश्त नहीं करेंगे.
जबलपुर. पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक शैलेंद्र कुमार सिंह के जनरल मैनेजर के रूप में दो साल का कार्यकाल काफी उपलब्धिपूर्ण रहा है और इस दौरान पमरे ने पूरे भारतीय रेलवे में जमकर नाम कमाया और तरक्की की, किंतु इतने कार्यों के बावजूद जीएम श्री सिंह संतुष्ट नहीं रहे, उनका कहना है कि कोरोना काल के दौरान कई काम थोड़ा स्लो रह गये, जिन्हें अब तक पूर्ण हो जाना था, लेकिन नहीं हो सके, जिसमें जबलपुर स्टेशन का सौंदर्यीकरण का कार्य शामिल है. विदित हो कि श्री सिंह इसी माह रेलवे की अपनी गौरवशाली सेवा से सेवानिवृत्त हो रहे हैं, इस मौके पर वे पत्रकारों से रूबरू थे.

इस
...
more...
प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्यालय के अपर महाप्रबंधक शोभन चौधुरी एवं प्रमुख मुख्य परिचालन प्रबंधक राजेश पाठक, प्रमुख मुख्य अभियंता ए. के. पाण्डेय, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी/निर्माण वी. के. अग्रवाल, प्रमुख मुख्य सुरक्षा आयुक्त पी. के. गुप्ता एवं मुख्य वाणिज्य प्रबंधक (यात्री सेवा)बृजेन्द्र कुमार उपस्थित रहे.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री राहुल जयपुरियार ने बताया कि किस प्रकार कोविड-19 वैश्विक महामारी के कठिन चुनौतियों का सामना करते हुए एवं विषम परिस्थितियों में भी पमरे ने अधोसंरचना दृष्टि में अनेकों प्रमुख उपलब्धियों हासिल की जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट, ऑपरेशन में बढ़ोत्तरी, रेवेन्यु में इजाफा, यात्री एवं रेल कर्मचारियों की सुविधायें, कई हरित पहल, नई खोज एवं नवोन्मेष तकनीकों के साथ कई महत्वपूर्ण जानकारियों पर प्रकाश डाला.

यह रही प्रमुख उपलब्धियां

- 06 नयी मेमू ट्रेनों की शुरुआत (सतना-कटनी, कटनी-इटारसी, कटनी-बीना, बीना-भोपाल, सतना-मानिकपुर एवं कटनी-बरगवां).
- 03 ऑक्सीजन जनरेटिंग प्लांट्स (जबलपुर, भोपाल एवं कोटा) स्थापित कर पमरे भारतीय रेल में पहला जोन बना.
- भारतीय रेल पर पहला न्यू मॉडिफाइड गुड्स हाई स्पीड (हृरूत्र॥) रेक को सीआरडब्लूएस भोपाल द्वारा विकसित किया गया.
- मध्यप्रदेश का पहला ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट को पमरे के हबीबगंज में स्थापित किया गया.
- पश्चिम मध्य रेल में पहला ऑन लाईन मॉनेटरिंग सिस्टम (ह्ररूक्रस्) कटनी-सिंगरौली रेलखण्ड पर स्थापित किया.
- पमरे, भारतीय रेल पर फ्रेट स्पीड में प्रथम स्थान हासिल किये हुए हैं.
- पमरे के सीआरडब्ल्यूएस भोपाल कारखाने ने लक्ष्य से 55 प्रतिशत से अधिक कोचों का एवं डब्ल्यूआरएस कोटा कारखाने ने लक्ष्य से 25 प्रतिशत अधिक वैगनों का उच्चत्तम पीओएच आउटटर्न दिया.
- पमरे ने वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी के कोच का 178 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रॉयल किया.
- पमरे ने 94 किमी का दोहरीकरण/तिहरीकरण किया.
- पमरे ने ऑन लाईन फ्रेट पेमेंट सिस्टम के अंतर्गत 1200 ट्रांजेक्शन से रेकॉर्ड रुपये 238 करोड़ का राजस्व प्राप्त किया.

कोविड काल का भी इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत करने में उपयोग

पमरे ने वास्तव में कोविड-19 संक्रमण एवं कोविड महामारी की दूसरी लहर की चुनौतियों के बावजूद भी वर्ष 2019-20, 2020-21 एवं 2021-22 में अपनी इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं ऑपरेशन के साथ राजस्व में काफी बढोत्तरी की हैं. जिसमें पिछले दो वर्षों से अब तक 209 किमी का न्यू लाइन एवं दोहरीकरण और 132 किमी तिहरीकरण का कार्य पूर्ण करके कुल 341 किमी का कमीशन किया गया है. पमरे ने इस वर्ष 2021-22 में अबतक 61 किमी दोहरीकरण एवं 33 किमी तिहरीकरण का कार्य पूर्ण करके कमीशन किया है. पमरे ने शत प्रतिशत विधुतीकरण का कार्य वर्ष 2019-20 में 347 किमी एवं 2020-21 में 486 किमी पूर्ण करके भारतीय रेल में पहला जोन बना. स्टेशन रीडवेलपमेंट में जबलपुर एवं सोगरिया (कोटा मण्डल) स्टेशनों का पुनर्विकसित और हबीबगंज को वर्ल्ड क्लास स्टेशन बनाया जा रहा है. इसके अलावा भोपाल मण्डल के बीना में मेमू शेड का निर्माण किया गया है, जो कि मध्यप्रदेश का पहला शेड है.

इन रेलखंडों में स्पीड बढ़ी

अधोसरंचना विकास कार्य में विस्तार करने से ट्रैनों की गति में उत्तरोत्तर वृद्धि हुई है. जिसमें पमरे के ए रुट (नागदा-मथुरा (545 किमी) एवं बीना-इटारसी (233किमी)) पर 130 केएमपीएच की स्पीड़ बढ़ाकर भारतीय रेल पर प्रथम स्थान बनाये हुए हैं. पिछले दो वर्षों में 1600 रूट किमी पर सेक्शनल गति 110-130 किमी तक वृद्धि हुई है. पश्चिम मध्य रेल की 100 प्रतिशत रूटों से लूप लाइन की गति 30 केएमपीएच किया गया. पिछले दो वर्षों में 31 गति प्रतिबंध को हटाया एवं 11 आईबीएस को भी कमीशन किया गया है. पमरे पर 8900 किमी का हाई स्पीड ट्रॉयल 130-180 केएमपीएच तक किया गया है. जिसमें तृतीय वातानुकूलित इकोनॉमी श्रेणी के कोच को 180 किमी की गति का परीक्षण किया गया है. ड्यूल मोड डब्ल्यूडीएपी 5 लोकोमोटिव को 150 किमी की गति का परीक्षण किया गया.

मालगाडिय़ों की एवरेज स्पीड में इजाफा, माल लदान रिकार्ड स्तर पर

पश्चिम मध्य रेल ने ऑपरेशन और राजस्व में पिछले दो वर्षों में बेहतर प्रदर्शन किया गया है. पमरे ने फ्रेट ट्रेन स्पीड में वर्ष 2021-22 में 59 केएमपीएच औसत गति से वृद्धि करते हुए माह अगस्त 2021 में 60 केएमपीएच की औसत गति को पार करते हुए पूरे भारतीय रेल में सर्वोच्च स्थान पर बना हुआ है. इसके साथ ही पिछले 18 वर्षों से पश्चिम मध्य रेल ने वर्ष 2020-21 में 43.72 मिलियन टन उच्चतम माल ढुलाई की है. पिछले वर्ष की तुलना में वर्ष 2021-22 में अभी तक 16 प्रतिशत अधिक लोडिंग किया गया है. इसी प्रकार से ऑपरेटिंग रेशियो में भी पमरे ने पिछले दो वर्षों में बेहतर प्रदर्शन करके रेवन्यू को बढ़ाया है. वर्ष 2019-20 में ऑपरेटिंग रेशियो 70.61 प्रतिशत और वर्ष 2020-21 में 68.03 प्रतिशत ऑपरेटिंग रेशियो के साथ और बेहतर बनाकर भारतीय रेल में अच्छा प्रदर्शन किया. पिछले 18 वर्षों में पमरे ने फ्रेट आय में उच्चतम राजस्व में वृद्धि हुई है. वर्ष 2020-21 में रुपये 4000 करोड़ राजस्व आय अर्जित की है. वर्ष 2021-22 में अभी तक पिछले साल की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक फ्रेट आय अर्जित की गई है.

पमरे के 272 स्टेशनों पर वाईफाई सुविधा उपलब्ध

यात्रियों की सुविधा के लिए पमरे द्वारा शत प्रतिशत स्टेशनों (272 स्टेशनों) पर वाई-फाई एवं एयर पोर्ट की तरह लाइटिंग (60 स्टेशनों) सुविधा उपलब्ध कराई गई है. सभी प्रमुख स्टेशनों पर डिजिटल सूचना प्रणाली स्थापित किया गया है. जिसमें 32 स्टेशनों पर कोच गाइडेन्स सिस्टम, 43 स्टेशनों पर ट्रेन इन्फॉर्मेशन बोर्ड, 84 स्टेशनों पर जीपीएस क्लॉक एवं 34 स्टेशनों पर ट्रेन एट ए ग्लान्स बोर्ड इत्यादि स्थापित करके यात्रियों को सुविधा उपलब्ध कराई गई है. इसके साथ ही पमरे ने यात्री सुविधाओं के लिए टिकटिंग, केटरिंग एवं सुरक्षा में भी बढ़ोतरी हुई है. जिसमें 66 स्टेशनों पर 123 एटीवीएम से टिकटिंग, 11 प्रमुख एवं 468 छोटे स्टेशनों पर कैटरिंग और 23 प्रमुख स्टेशनों पर 700 सीसीटीवी कैमरा उपलब्ध है.

92 फीसदी रेलकर्मियों का वैक्सीनेशन हुआ

पमरे के केंद्रीय चिकित्सालयों और स्वास्थ्य इकाइयों में कोविड संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है जिसके तहत अब तक 92 प्रतिशत कोविड वेक्सिनेशन का पहला डोज लोंगों का टीकाकरण हो चुका है. भारतीय रेलवे में सर्वप्रथम शतप्रतिशत पमरे के जबलपुर, भोपाल एवं कोटा चिकित्सालयों में ऑक्सीजन जनरेटिंग प्लांट स्थापित किया गया है. जिससे कोविड महामारी के बचाव में काफी कारगर सिद्ध होगी. रेल कर्मचारियों के लिए ऑनलाइन सुविधायें एचआरएमएस और यूएमआईडी प्रणाली चालू किया गया है.

महाप्रबंधक ने मीडिया का जताया आभार

पत्रकार वार्ता मेंमहाप्रबंधक श्री शैलेन्द्र कुमार सिंह एवं अपर महाप्रबंधक शोभन चौधुरी सहित अन्य प्रमुख मुख्य विभागाध्यक्षों द्वारा प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सहयोग की सराहना की तथा आगे भी इसी तरह के सहयोग की आशा करता हूँ. प्रेस वार्ता का संचालन कर रहे वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी आई. ए. सिद्दीकी ने उपस्थित सभी प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का आभार व्यक्त किया.
Page#    1933 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy