Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Train 18 - तेरी प्यारी प्यारी Livery को किसी की नज़र न लगे

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Sun Jan 26 08:50:08 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Stream
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search
<<prev entry    next entry>>
News Entry# 396497
  
नुकसान में चल रहे रेलवे ने परिवर्तन संगोष्ठी में बनाया कॉस्ट कटिंग प्लानतीन चरण में कर्मचारी कम करने की योजना, वीआरएस फार्मूला लाने की भी तैयारी 
जाेधपुर (प्रवीण धींगरा). आय कम और खर्च ज्यादा की पटरी पर दौड़ रहा रेलवे अपने सिस्टम में बड़े परिवर्तन की सोच रहा है। इसके लिए दो दिन तक मंडल स्तर के अधिकारियों से लेकर डीआरएम व महाप्रबंधक ने साथ बैठकर बात की। अधिकारियों ने रेलमंत्री से कहा है कि पूरे देश में रेलवे के करीब 50 हजार कर्मचारी नेता हैं, जिनके काम का आउटपुट जीरो है। इनमें सुपरवाइजर स्तर के लोग भी हैं, जिनके अधीन कर्मचारियों से काम लेने पर भी असर पड़ रहा है।
कर्मचारियों
...
more...
की संख्या कम करने का प्रस्ताव
रेलवे की परिवर्तन संगोष्ठी के बाद कॉस्ट कटिंग के तहत कर्मचारियों की संख्या कम करने का प्रस्ताव रखा गया है। बताया गया है कि अगले तीन साल में 10 फीसदी और बाद में चरणबद्ध तरीके से 50 फीसदी कर्मचारी सिस्टम से बाहर कर दिए जाएंगे।
यूनियन की सहूलियतों पर पुनर्विचार की जरूरत
रेलवे में सुधार के लिए हुई इस संगोष्ठी में जोनल रेल कार्यालयों, उत्पादन इकाइयों, मंडल रेल कार्यालयों आदि के अधिकारियों ने दो हजार से अधिक सुझाव दिए। इनमें से महत्वपूर्ण सुझावों का चयन किया गया। इन पर महाप्रबंधक की अध्‍यक्षता में 12 समूहों में अधिकारियों ने विचार-विमर्श कर परिवर्तन का रोडमैप बनाया। रेलवे का मानना है कि प्रत्येक मंडल में करीब 250 पदाधिकारी यूनियन के लिए काम करते हैं। इनकी संख्या कम करने के साथ यूनियन को दी जाने वाली सहूलियतों पर गंभीरता के साथ पुनर्विचार करने की जरूरत है। देश में 50 हजार कर्मचारी इन यूनियन में हैं, जो रेल संचालन का कोई काम नहीं कर रहे।
अगले तीन साल में 10 फीसदी कर्मचारी कम किए जाएंगे
रेलवे ने माना है कि तकनीक के बढ़ते उपयोग, रेल संचालन सिस्टम के आधुनिकीकरण व आउट सोर्सिंग के चलते अब काम करने वाले हाथ की संख्या कम करनी होगी। इसके लिए अगले तीन साल में 10 फीसदी कर्मचारी कम करने की बात कही गई है। इसके बाद चरणबद्ध तरीके से 30 फीसदी और कुल 50 फीसदी तक कर्मचारी कम करने पर बात हो रही है। इसके लिए कर्मचारियों को फायदे का सौदे वाली स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति देने के फार्मूला बनाया जा सकता है। रेलवे का मानना है कि बजट का 60 फीसदी खर्च तो स्टाफ पर ही खर्च हो रहा है।
अगर ऐसा होता ताे रेलवे का ढांचा ही ढह जातानिजीकरण करने के लिए ही कर्मचारियों की संख्या कम करने की बात रखी गई है। यूनियन के 50 हजार लोग अगर काम नहीं करते तो रेलवे का ढांचा ढह जाता। यूनियंस पर शिकंजा कसने की कोशिश सफल नहीं होने दी जाएगी। - शिवगोपाल मिश्रा, महासचिव, ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन
Copyright © 2019-20 DB Corp ltd., All Rights Reserved.

1 Public Posts - Wed Dec 11, 2019

  
616 views
Dec 11 2019 (11:18)
swaqarmohsin^~   1241 blog posts   4716 correct pred (79% accurate)
Re# 4510960-2            Tags   Past Edits
aise log hi desh ko and indian railway ko aage badhne main badha bante hai

  
625 views
Dec 11 2019 (11:18)
Tourister^~   82630 blog posts   48992 correct pred (79% accurate)
Re# 4510960-3            Tags   Past Edits
Har dept me aese log h

  
623 views
Dec 11 2019 (11:20)
swaqarmohsin^~   1241 blog posts   4716 correct pred (79% accurate)
Re# 4510960-4            Tags   Past Edits
bilkul in every govt. department main kam o besh yahi haal hai, but realty thoda change hui hai kuch department main

  
622 views
Dec 11 2019 (11:24)
Tourister^~   82630 blog posts   48992 correct pred (79% accurate)
Re# 4510960-5            Tags   Past Edits
Hmmm.. jbse pressure pda h tbse sudhare h

  
624 views
Dec 11 2019 (11:28)
swaqarmohsin^~   1241 blog posts   4716 correct pred (79% accurate)
Re# 4510960-6            Tags   Past Edits
aap pressure kah sakte hai but aisa nai hai abhi kuch din pahle ek department se night 12:00 ek notice jari hoti hai aur next day morning main employee ko pata chalta hai ki VR hogya, uske baad hi thoda change hua magar phir wapas usi line par chal pade hai sab
Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy